scriptआपकी बात, गर्मी की भीषणता से निपटने के लिए क्या किया जाना चाहिए | Patrika News
ओपिनियन

आपकी बात, गर्मी की भीषणता से निपटने के लिए क्या किया जाना चाहिए

पाठकों की मिलीजुली प्रतिक्रियाएं मिलीं, पेश हैं चुनिंदा प्रतिक्रियाएं

जयपुरJun 20, 2024 / 03:55 pm

Gyan Chand Patni

पेय पदा​र्थ ज्यादा लें
गर्मी की भीषणता से बचने के लिए हमें अधिक से अधिक पेय पदार्थ पीने चाहिए और हल्का भोजन करना चाहिए। दोपहर के समय जहां तक संभव हो हमें बाहर नहीं निकलना चाहिए। अधिक से अधिक पेड़—पौधे लगाए जाने चाहिए ताकि समय पर बारिश हो और सभी प्राणियों को छाया भी मिलें। घर से बाहर निकलें तो छाता अथवा सर पर मोटा कपड़ा ढक कर चलें, केरी की छाछ का प्रयोग करें। लू लगने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।
—आजाद पूरण सिंह राजावत,जयपुर
……………………
जंक फूड से परहेज करें।
गर्मी की भीषणता से निपटने के लिए ठंडे पेय पदार्थ लें। शराब, कैफीन और गर्म पेय से परहेज करें। रहने की जगह को ठंडा रखें, ठंडे पानी से ही नहाएं। ऐसी गतिविधियों से बचें, जिससे गर्मी लगे। बाहर जाना हो तो छाया में रहें। सन स्क्रीन, टोपी और हल्के कपड़े पहनें। पर्याप्त पानी पिएं। साथ ही चाट, पकोड़े, बासी खाने और जंक फूड से परहेज करें।
—शिवजी लाल मीना, जयपुर
……………………
प्रकृति का संरक्षण जरूरी
वर्तमान में पहाड़ों का उत्खनन, जंगलों की कटाई और नदियों, कुओं, तालाबों जैसे जल स्रोतों की उपेक्षा हो रही है। इससे तापमान में वृद्धि हो रही है व भीषण गर्मी बढ़ रही है। गर्मी से बचाव के लिए आम नागरिकों को प्रकृति के संरक्षण के प्रति जागरूक होना चाहिए।
— आलोक ब्यौहार, सिहोरा, मप्र
……………………
घर से बाहर निकलते समय हल्के रंग के सूती कपड़े पहनें तथा कड़ी धूप से बचें । पर्याप्त मात्रा में लस्सी, नींबू का पानी जैसे पेय पदार्थों का सेवन करें।

—राजन गेदर, सूरतगढ़, गंगानगर
……………………
गर्मी में बेवजह बाहर न निकलें
बेवजह गर्मी में घर से बाहर न निकलें, ठंडा पानी या अन्य पेय पदा​र्थों का निरंतर सेवन करें। पर्यावरण को सुरक्षित रखने के प्रयासों में मदद करें।
—याकूब मोहम्मद छीपा, आयड़, उदयपुर
……………………
वृक्षारोपण ही एकमात्र समाधान
सूर्य की तपती किरणों को सोखने का गुण मात्र वृक्षों की हरी पत्तियों में ही होता है। पत्तियां इन तपती किरणों से वृक्षों के लिए भोजन तैयार करती हैं। अतः जितने अधिक पेड़ उतनी कम गर्मी। वृक्षों को काटकर कंक्रीट के जंगल बनाने से ही भीषण गर्मी का प्रकोप झेलना पड़ रहा है। इसलिए ज्यादा से ज्यादा वृक्ष लगाने चाहिए।
—मुकेश भटनागर, भिलाई, छत्तीसगढ़
……………………
अधिक से अधिक पानी पीएं
आजकल दिन ही नहीं, बल्कि रातों में भी लू चल रही है। पूरे देश में भीषण गर्मी का दौर है। अस्पतालों में लू के मरीजों का तांता लग रहा है। गर्मी से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। गर्मी से बचने के लिए लोग अधिक से अधिक पानी पीएं। हल्के रंग के पसीना शोषित करने वाले सूती कपड़े पहनें। घर से बाहर निकलते समय छाते का प्रयोग करें।
— राजेन्द्र कुमावत, जयपुर
……………………
पौधे लगाएं
गर्मी की भीषणता से निपटने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को पौधे लगाने चाहिए। घर पर गमलों में पौधे लगाए जा सकते हैं।
—मंजू शर्मा, बरकत नगर, जयपुर।
……………………

जलवायु परिवर्तन से संकट
भीषण गर्मी का सबसे बड़ा कारण जलवायु परिवर्तन है। घने पेड़ों की कटाई और ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन से हालात विकट हो गए हैं। लू से बचने के लिए दोपहर के समय बाहर जाने से बचें। ढीले और सूती कपड़ों से शरीर को ढककर रखें। डिहाइड्रेशन से बचने के लिए ठंडा पानी, दही की लस्सी, नीबू की शिंकजी, कैरी की छाछ और पताशे के साथ अमृतधारा जरूर लें।
— निर्मला देवी वशिष्ठ, राजगढ़, अलवर

Hindi News/ Prime / Opinion / आपकी बात, गर्मी की भीषणता से निपटने के लिए क्या किया जाना चाहिए

ट्रेंडिंग वीडियो