आर्टिकल 370: पाक को उल्टी पड़ रही अपनी ही कार्रवाई, जरूरी दवाओं की कमी बनी लोगों की मुसीबत

  • आर्टिकल 370 हटाने के फैसले पर पाकिस्तान ने बंद किया था भारत संग व्यापार
  • पाकिस्तानी संगठन ने उठाई प्रतिबंध में रियायत की मांग

By: Shweta Singh

Updated: 19 Aug 2019, 07:54 AM IST

इस्लामाबाद। कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के भारत सरकार के फैसले के बाद पाकिस्तान बुरी तरह तिलमिला गया है। 5 अगस्त को किए भारत की ओर से इस घोषणा के बाद से पाकिस्तान ने अपनी बौखलाहट में कई बड़े कदम उठाए हैं। भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार स्थगित करने का ऐलान भी इनमें शामिल था। हालांकि, अब पाक का यह फैसला उसपर ही भारी पड़ रहा है।

खस्ताहाल अर्थव्यवस्था वाले देश में यह व्यापार प्रतिबंध उनके लिए ही मुसीबत बनती जा रही है। ऐसे में अब खुद पाकिस्तान से इसे हटाने की मांग उठ रही है।

खत्म हो रहीं हैं जरूरी दवाएं

दरअसल, महंगाई की मार झेल रहे वहां के लोगों में अब भारत से जाने वाली जरूरी दवाओं की आपूर्ति में कमी आ रही है। इसके नतीजन पाकिस्तान के नियोक्ता महासंघ (EFP) ने सरकार के सामने भारत के सामानों को स्थानीय बाजारों तक पहुंचाने की मंजूरी देने की अपील की है। EFP ने मांग की है कि जो सामान और दवाएं भारत से पाकिस्तान के हवाईअड्डों या बंदरगाहों पर पहुंच चुके हैं, उन्हें बाजार लाने में उतारने का आदेश दिया जाए।

EFP ने उठाई यह मांग

पाकिस्तान की स्थानीय मीडिया ने रविवार को अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी दी। रिपोर्ट में कहा गया कि EFP ने आशंका जताई है कि भारत से आयात की जाने वाली जीवन रक्षक दवाएं और उनके कच्चे माल जल्द ही बाजार में खत्म हो सकती हैं। ऐसे में EFP ने अपील की है कि पाक सरकार व्यापार प्रतिबंधों में तब तक ढील दे, जब तक आयात के लिए कोई अन्य विकल्प उपलब्ध नहीं है।
EFP के उपाध्यक्ष ने जकी अहमद खान ने अपने बयान में कहा कि वे भारत संग व्यापार निलंबन के फैसले को समर्थन देते हैं, लेकिन जो सामान पहले ही यहां पहुंच चुका है उसके इस्तेमाल की छूट दी जानी चाहिए।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

Show More
Shweta Singh Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned