बालाकोट स्ट्राइक के खौफ से नहीं उबरा पाकिस्तान, भारतीय उड़ानों के लिए अभी बंद रखेगा हवाई क्षेत्र

बालाकोट स्ट्राइक के खौफ से नहीं उबरा पाकिस्तान, भारतीय उड़ानों के लिए अभी बंद रखेगा हवाई क्षेत्र

Anil Kumar | Publish: Jul, 12 2019 04:14:13 PM (IST) | Updated: Jul, 13 2019 10:34:57 AM (IST) पाकिस्तान

  • Pakistan ने अपना हवाई क्षेत्र खोलने के लिए भारत के सामने नई शर्त रखी है
  • पाकिस्तान ने कहा है कि भारत पहले अपने लड़ाकू विमानों को अग्रिम एयरबेस से हटाए

इस्लामाबाद। बालाकोट एयरस्ट्राइक ( Balakot Air strikes ) के खौफ से पाकिस्तान अभी तक बाहर नहीं निकल पाया है। यही कारण है कि पाकिस्तान ने एक बार फिर से भारतीय विमानों के उड़ान के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोलने से इनकार कर दिया है।

पाकिस्तान ने कहा है कि वह भारतीय वाणिज्यिक उड़ानों के लिए अपना हवाई क्षेत्र नहीं खोलेगा, जब तक कि नई दिल्ली अपने लड़ाकू विमानों को सीमावर्ती एयरबेस के आगे से नहीं हटाती है। बता दें कि पाकिस्तान के विमानन सचिव शाहरुख नुसरत ने इस संबंध में एक संसदीय समिति को सूचित किया है।

पाकिस्तान एयरस्पेस अब 28 जून तक रहेगा बंद, तीसरी बार बढ़ाई समय-सीमा

कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ पर हुए हमले का बदला लेने के लिए भारतीय वायुसेना की ओर से बालाकोट स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर की गई एयर स्ट्राइक के बाद 26 फरवरी से पाकिस्तान ने अपना हवाई क्षेत्र पूर्ण रूप से बंद कर दिया था।

पाकिस्तान ने भारत के सामने रखी शर्त

डॉन न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, विमान सचिव नुसरत जो कि नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के महानिदेशक भी हैं, ने गुरुवार को सीनेट की स्थायी समिति को बताया कि उनके विभाग ने भारतीय अधिकारियों को सूचित किया है कि पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र भारत के लिए तब तक अनुपलब्ध रहेगा जब तक कि वह अपने लड़ाकू जेट विमान को फॉर्वर्ड पॉजिशन से नहीं हटाता है।

नुसरत ने समिति को बताया कि भारत सरकार ने हमसे हवाई क्षेत्र को खोलने के लिए आग्रह किया था। इसपर हमने अपनी चिंताओं से भारत को अवगत कराया कि पहले वह अपने लड़ाकू विमानों को पीछे हटाएं। उन्होंने समिति को आगे बताया कि भारतीय अधिकारियों ने पाकिस्तान से संपर्क करके हवाई क्षेत्र के प्रतिबंधों को हटाने का अनुरोध किया है।

सर्जिकल स्ट्राइक पर बोले पीएम मोदी- पाकिस्तान एक लड़ाई से नहीं सुधरेगा

नुसरत ने आगे कहा, भारतीय अधिकारियों को बताया गया है कि भारतीय एयरबेस में अभी भी फाइटर जेट्स तैनात हैं और पाकिस्तान उनके हटाए जाने तक भारत को उड़ान संचालन की अनुमति नहीं देगा।

रिपोर्ट में आगे बताया है कि सीएए अधिकारियों ने भारत के इस दावे का भी समर्थन किया है कि दिल्ली ने पाकिस्तान के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोल दिया है।

विमान

भारतीय विमानन उद्योग को हो रहा है नुकसान

पिछले महीने पाकिस्तान ने किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए जाने को लेकर अपने हवाई क्षेत्र का उपयोग करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वीवीआईपी उड़ान को विशेष अनुमति दी।

हालांकि प्रधानमंत्री मोदी का वीवीआईपी विमान पाकिस्तान के ऊपर उड़ान भरने से बच गया। इससे पहले, पाकिस्तान ने भारत की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को 21 मई को बिश्केक में एससीओ विदेश मंत्रियों की बैठक में भाग लेने के लिए पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र में सीधे उड़ान भरने की अनुमति दी थी।

अगर पाकिस्तान एक मोर्टार दागे तो हम 10 मोर्टार दागेंगे: राजनाथ सिंह

पाकिस्तान द्वारा हवाई क्षेत्र प्रतिबंध के कारण भारत के विमानन उद्योग को भारी नुकसान हुआ है। गुरुवार को, नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने संसद को बताया कि पाकिस्तान के हवाई क्षेत्र के बंद होने के कारण, एयर इंडिया को लंबे मार्गों पर 430 करोड़ रुपये खर्च करने पड़े।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned