अमरीका के बाद ब्रिटेन ने दिया पाकिस्तान को करारा झटका, आर्थिक सहायता पर लग सकता है प्रतिबंध

अमरीका के बाद ब्रिटेन ने दिया पाकिस्तान को करारा झटका, आर्थिक सहायता पर लग सकता है प्रतिबंध

Anil Kumar | Updated: 20 Jul 2019, 12:37:38 PM (IST) पाकिस्तान

  • ब्रिटिश संसद की अंतरराष्ट्रीय विकास समिति पाकिस्तान को मिलने वाली आर्थिक मदद की समीक्षा करेगी
  • ब्रिटेन सरकार ने पिछले साल पाकिस्तान को विकास कार्यों के लिए 163 मिलियन पाउंड की सहायता दी थी

इस्लामाबाद। आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहे पाकिस्तान को एक के बाद एक झटका लग रहा है। पहले अमरीका ने आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान को मिलने वाली आर्थिक मदद पर रोक लगा दी, तो वहीं अब ब्रिटेन ने भी एक बड़ा फैसला लिया है।

दरअसल, ब्रेक्जिट को लेकर आर्थिक चुनौतियों से जुझ रहे ब्रिटेन ने पाकिस्तान को दी जाने वाली वार्षिक सहायता राशि में कटौती करने का फैसला किया है।

ब्रिटिश संसद ने 2013 से 2018 के बीच दी गई आर्थिक सहायता की समीक्षा के बाद यह फैसला लिया है। ब्रिटिश संसद की अंतरराष्ट्रीय विकास समिति ( International Development Committee , IDC ) से जुड़े सूत्र के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय विकास विभाग के सहायता कार्यक्रम की समीक्षा के बाद पाकिस्तान सहित कुछ देशों की मदद कम करने का फैसला किया गया है।

पाकिस्तान: आर्थिक तंगी से जीना मुहाल तो मरने पर महंगाई की मार, अब कब्रों पर लगेगा टैक्स

संसदीय समिति ने आर्थिक सहायता में कटौती की संस्तुति वर्ष 2019-2020 के लिए की है। इस बारे में अंतिम निर्णय सरकार लेगी। साल 2018-19 में ब्रिटेन ने पाकिस्तान को £325मिलियनकी राशि दी गई थी, जो कि 2019-20 में घटकर £302 मिलियन हो गई।

थेरेसा मे और इमरान खान

आर्थिक मदद की होगी समीक्षा

ब्रिटेन सरकार ने पिछले साल पाकिस्तान को विकास कार्यों के लिए 163 मिलियन पाउंड की सहायता दी थी। बड़ी बात यह है कि यह आर्थिक मदद ब्रिटेन की ओर से किसी भी देश को दी गई सबसे अधिक राशि है।

पाकिस्तान को दी जाने वाली आर्थिक मदद की समीक्षा की जाएगी। संसदीय समिति ने पाकिस्तान के सहयोग की समीक्षा का एलान किया है। इसके अलावा यह भी देखा जाएगा कि पागकिस्तान को जिस काम के लिए धन दिया था, क्या उसी कार्यों के लिए धन खर्च किया गया है या कहीं ओर किया गया।

बता दें कि हाल कि दिनों में पाकिस्तान में कई नेताओं पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं। इसमें पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज ( PML-N ) के अध्यक्ष शाहबाज शरीफ पर भी शामिल हैं। शरीफ पर आरोप है कि ब्रिटेन से मिलने वाली आर्थिक सहायता राशि में घोटाला किया गया है।

LNG Case: पाकिस्तान के पूर्व PM अब्बासी को 13 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

ब्रिटेन की ओर से पंजाब के विकास कार्यो के लिए मिलने वाले धन में गड़बड़ी करने का आरोप लगा है। हालांकि शाहबाज और PML-N की ओर स कहा गया कि सत्ताधारी दल और पीएम इमरान खान की और से झूठे प्रचार किए गए हैं और बदनाम करने की एक साजिश है।

PML-N ने मामले की जांच कराने की मांग की थी। बता दें कि शाहबाज पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के छोटे भाई है, लाहौर की जेल में भ्रष्टाचार से जुड़े एक मामले में सजा काट रहे हैं।

इमरान और ट्रंप

अमरीका ने की सहायता राशि में कटौती

प्रधानमंत्री इमरान खान आगामी 21 जुलाई को अमरीका यात्रा ( Imran Khan America visit ) के लिए रवाना होने वाले हैं। उससे पहले US ने पाकिस्तान को एक बड़ा झटका दिया। US कांग्रेस ने एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें कहा गया है कि पाक को मिलने वाली सुरक्षा सहायता ( US Aid To Pakistan ) आगे भी बंद रहेगी।

इस रिपोर्ट में कहा गया कि जब तक पाकिस्तान आतंकी समूहों के खिलाफ कोई निर्णायक कदम नहीं उठाता, तब तक उसे मिलने वाली वित्तीय सहायता पर रोक जारी रहेगी।

अमरीकी संसद ने रोकी सऊदी अरब को हथियारों की बिक्री, राष्ट्रपति ट्रंप कर सकते हैं वीटो

बता दें कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जनवरी 2018 में पाक को दी जाने वाली हर तरह की सुरक्षा सहायता पर रोक लगा दी थी। इसके अलावे कई तरह के अन्य आर्थिक मदद पर भी रोक लगा दी गई है।

पाकिस्तान की आर्थिक व्यवस्था मौजूदा समय में बहुत खराब है। हालत यह है कि पाकिस्तान में भूखमरी जैसे हालात बन गए हैं। महंगाई चरम पर है। ऐसे में अब अमरीका के बाद ब्रिटेन से मिलने वाली आर्थिक मदद बंद होना पाकिस्तान के लिए शुभ संकेत नही है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned