Bihar Election : पर्चा भरने के बाद बाहुबली नेता अनंत सिंह बोले - चुनाव के बाद नीतीश का जेल जाना तय

  • 2015 में विरोध करने के बाद आरजेडी ने इस बार अनंत को पार्टी का टिकट दिया।
  • बाहुबली अनंत सिंह को मोकामा क्षेत्र के लोग छोटे सरकार के नाम से पुकारते हैं।
  • 2015 में बतौर निर्दलीय उम्मीदवार उन्होंने महागठबंधन के प्रत्याशी नीरज को सियासी मात दी थी।

By: Dhirendra

Updated: 07 Oct 2020, 05:28 PM IST

नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण में नामांकन भरने का कल अंतिम दिन है। नामांकन की अंतिम तारीख से एक दिन पहले बिहार के बाहुबली नेता अनंत सिंह ने मोकामा विधानसभा क्षेत्र से आरजेडी के सिंबल पर अपना पर्चा भरा। इस दौरान निर्वाचन कार्यलय के बाहर भारी संख्या में उनके समर्थक मौजूद थे। बुधवार को नामांकन भरने के बाद उन्होंने एक विवादित बयान देकर सबको चौंका दिया है।

मोकामा से पर्चा भरने के बाद उन्होंने अपने बयान में कहा है कि इस बार बिहार में आरजेडी की सरकार बनेगी और प्रदेश के मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव बनेंगे। चुनाव बाद वर्तमान सीएम नीतीश कुमार जेल जाएंगे।

बता दें कि बाहुबली विधायक अनंत सिंह को मोकामा क्षेत्र के लोग छोटे सरकार के नाम से पुकारते हैं। इस बार बिहार विधानसभा चुनाव के लिए उन्हें आरजेडी की ओर से टिकट मिला है। एक मामले में जेल में बंद मोकामा के बाहुबली विधायक आज कैदी वैन से नामांकन भरने के लिए बाढ़ अनुमंडल मुख्यालय पहुंचे और अपना पर्चा भरा।

चिराग पासवान को JDU विधायक ने दी चुनौती, कहा - हिम्मत है तो बड़हरिया से लड़कर दिखाएं चुनाव

निर्दलीय विधायक अनंत सिंह इस बार आरजेडी के टिकट पर सियासी मैदान में उतरे हैं। जबकि 2015 में आरजेडी ने ही अनंत सिंह के आपराधिक रिकॉर्ड को मुद्दा बनाया था। इस बार आरजेडी ने उन्हें टिकट थमा दिया। 2015 में बतौर निर्दलीय उम्मीदवार उन्होंने महागठबंधन के प्रत्याशी नीरज कुमार को सियासी मात दी थी।

इससे पहले फरवरी 2005, अक्टूबर, 2005 अक्टूबर, 2010 में भी वो जेडीयू के टिकट पर चुनाव जीते और विधानसभा पहुंचे। 2015 में उन्होंने निर्दलीय पर्चा भरा और जीत हासिल की। पांचवीं बार वह आरजेडी के टिकट से चुनाव लड़ रहे हैं। फिलहाल बाहुबली विधायक अनंत सिंह गैर कानूनी तरीके से एके-47 रखने के आरोप में जेल में बंद हैं।

Bihar Election : एलजेपी नेता सुनील पांडे ने चिराग पासवान को दिया झटका, तरारी से लड़ेंगे चुनाव

दरअसल, बिहार के बाढ़ इलाके में राजपूत और भूमिहारों का खूनी इतिहास रहा है। एक दौर में रात को लोग घरों से निकलने से भी डरते थे। ऐसे में अनंत सिंह भूमिहार समुदाय के रक्षक के रूप में सामने आए। लेकिन अनंत सिंह की किस्मत के सितारे उस वक्त चमक उठे जब नीतीश कुमार ने 2005 में जेडीयू के टिकट पर उन्हें मोकामा विधानसभा से चुनावी मैदान में उतार दिया।

Bihar Election
Show More
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned