scriptFarooq Abdullah provocative statement - Independence in Kashmir is meaningless, everywhere AK-47 security personnel stand | Farooq Abdullah का भड़काऊ बयान- कश्मीर में आजादी की बात बेमानी, हर जगह एके-47 लिए सुरक्षाकर्मी | Patrika News

Farooq Abdullah का भड़काऊ बयान- कश्मीर में आजादी की बात बेमानी, हर जगह एके-47 लिए सुरक्षाकर्मी

  • कश्मीरी न तो खुद को भारतीय मानते हैं और न ही भारतीय होना चाहते हैं।
  • अगर आप कश्मीरियों से बात करें तो कई लोग चाहेंगे कि चीन भारत में आ जाए।
  • धारा 370 समाप्त कर केंद्र ने ताबूत में आखिरी कील ठोकने का काम किया।

नई दिल्ली

Updated: September 24, 2020 07:03:49 pm

नई दिल्ली। नजरबंदी और पीएसए की कैद से मुक्त होने के कुछ माह बाद नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ( Farooq Abdullah ) केंद्र सरकार के खिलाफ मुखर होकर बोलने लगे हैं। उन्होंने कश्मीर से धारा 370 हटाने की मांग करने के बाद एक बार फिर लोगों को भड़काने वाला बयान दिया है। उन्होंने कहा कि कश्मीर में हर गली में एके-47 लिए सुरक्षाकर्मी खड़ा है। ऐसे में आजादी की बातें बेमानी हो गई हैं।
Farooq Abdullah
कश्मीरी न तो खुद को भारतीय मानते हैं और न ही भारतीय होना चाहते हैं।
उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए दावा किया है कि अगर वे घाटी में कहीं भी भारत के बारे में कुछ बोलते हैं तो कोई उन्हें सुनने वाला नहीं होता है। जम्मू-कश्मीर से धारा 370 की समाप्ति के बाद से कश्मीर के लोग खुद को भारतीय नहीं मानते हैं। एनसी नेता फारूक अब्दुल्ला ने एक बार फिर भड़काव बयान देते हुए केंद्र सरकार से घाटी में धारा 370 बहाल करने की मांग की है।
Omar Abdullah ने अपनी नई किताब में किस दुविधा का किया जिक्र, जानिए पूरा डिटेल

लोकसभा सांसद फारूक अब्दुल्ला ( Farooq Abdullah ) ने एक वेबसाइट को दिए साक्षात्कार में कहा कि न ही कश्मीरी खुद को न भारतीय मानते हैं और न ही भारतीय होना चाहते हैं। इसके बदले वे चाहते हैं कि चीन उन पर शासन करें।
ईमानदारी से बात करूं तो मुझे हैरानी होगी अगर उन्हें घाटी में कोई ऐसा शख्स मिल जाता है जो खुद को भारतीय बोले। वे खुद को भारतीय नहीं मानते हैं और न ही पाकिस्तानी...। सही माने में एक साल पहले जो हुआ, वह ताबूत में आखिरी कील था।
Jammu-Kashmir: NC प्रमुख फारूक अब्दुल्ला की नजरबंदी खत्म, 7 माह बाद होंगे रिहा

कश्मीरियों का केंद्र सरकार पर कोई भरोसा नहीं रह गया है। हिन्दुस्तान के विभाजन के समय घाटी के लोगों का पाकिस्तान जाना आसान था लेकिन तब उन्होंने गांधी के भारत को चुना था न कि मोदी के भारत का।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.