कश्मीर मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह ने शुरू किया काम, पहले ही दिन राज्यपाल से की मुलाकात

कश्मीर मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह ने शुरू किया काम, पहले ही दिन राज्यपाल से की मुलाकात

Chandra Prakash Chourasia | Updated: 02 Jun 2019, 08:19:22 AM (IST) राजनीति

  • अमित शाह ने पहले ही दिन कश्मीर पर किया फोकस
  • नॉर्थ ब्लॉक में कश्मीर घाटी को लेकर हुई बड़ी बैठक
  • राज्यपाल मलिक से बंद कमरे में शाह ने की मुलाकात

नई दिल्ली। अमित शाह ने केंद्रीय गृहमंत्री का कार्यभार संभालने के बाद पहले दिन से ही जम्मू कश्मीर मुद्दे पर काम करना शुरु कर दिया है। नॉर्थ ब्लॉक कार्यालय में शाह ने इंटेलिजेंस ब्यूरो के निदेशक राजीव जैन और केंद्रीय गृहसचिव राजीव गौबा से कश्मीर घाटी के हालात पर जानकारी ली। इसके अलावा शाह ने राज्यपाल सत्यपाल मलिक से करीब 15 मिनट तक बंद कमरे में अलग से बात की।

कश्मीर घाटी में आतंक का काम तमाम: पांच महीने में मारे गए 100 से अधिक कुख्यात आतंकी

राज्यपाल ने शाह को दी हालात की जानकारी

मलिक ने बैठक के बाद कहा कि गृहमंत्री के साथ घाटी में कानून-व्यवस्था और सीमांत इलाकों में कानून-व्यवस्था के हालात पर संक्षिप्त चर्चा हुई। मैंने उन्हें घाटी की प्रमुख समस्याओं और विकास कार्यो के बारे में अवगत कराया। लेकिन हमने ज्यादातर बात हाल में हुए लोकसभा चुनावों के बारे में की। मलिक ने कहा कि जम्मू कश्मीर में स्थिति बदल गई है।

गोवा: कांग्रेस विधायक और मेयर पर कैसीनो के बाहर छेड़छाड़ का आरोप, केस दर्ज

सोमवार को फिर बैठक लेंगे शाह

वहीं खबर है कि अमित शाह ने सचिवों और सीमा प्रबंधन से लेकर आंतरिक सुरक्षा जैसे विभिन्न डिविजन के प्रमुखों के साथ एक संयुक्त बैठक की। सोमवार से वह सीमा सुरक्षा बल, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस, सशस्त्र सीमा बल, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल सहित अर्धसैनिक बलों के प्रमुखों और अन्य पुलिस संगठनों के प्रमुखों के साथ बैठक करेंगे।

नीतीश कुमार रविवार को करेंगे कैबिनेट का विस्तार, कहीं NDA छोड़ने की तैयारी तो नहीं?

सीमावर्ती इलाकों पर नए गृहमंत्री की खास नजर

सूत्रों ने कहा कि शाह ने नक्सली हिंसा पर भी चिंता जाहिर की और जिहादी समूहों की गतिविधियों पर भी चर्चा की, खासतौर से केरल और उससे सटे दक्षिण भारत के राज्यों में सक्रिय समूहों की। दूसरी ओर बीएसएफ के पूर्व प्रमुख ने कहा कि निश्चित रूप से शाह एक निर्णय लेने वाले व्यक्ति हैं। वह कई मोर्चो पर निर्णय लेंगे और निश्चित रूप से कश्मीर घाटी के हालात, और वामपंथी चरमपंथी हिंसा से प्रभावित इलाकों के हालात सुधारने की कोशिश करेंगे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned