कर्नाटक: यदियुरप्पा के प्रति कांग्रेस की सहानुभूति! कहा- उनकी आंसूओं के लिए कौन है जिम्मेदार

कर्नाटक कांग्रेस के प्रमुख डी. के. शिवकुमार ने राज्य के मुख्यमंत्री बी. एस. येदियुरप्पा की ओर से सोमवार को दिए गए इस्तीफे पर कटाक्ष करते हुए कहा कि इस्तीफे की घोषणा करते हुए वह जिस तरह से रोए, वह किसी एक व्यक्ति के आंसू नहीं थे, बल्कि वे एक मुख्यमंत्री के आंसू थे, जो राज्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसके पीछे क्या दर्द है? वह दर्द किसने दिया?

By: Anil Kumar

Updated: 26 Jul 2021, 10:53 PM IST

बेंगलुरु। कर्नाटक में बीते कई दिनों से जारी सियासी अटकलबाजियों के बीच मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। इस दौरान उन्होंने भावुक होते हुए कहा कि केंद्रीय नेतृत्व ने उनका पूरा साथ दिया है। वहीं अब येदियुरप्पा के इस्तीफे पर कांग्रेस ने कटाक्ष किया है।

कर्नाटक कांग्रेस के प्रमुख डी. के. शिवकुमार ने राज्य के मुख्यमंत्री बी. एस. येदियुरप्पा की ओर से सोमवार को दिए गए इस्तीफे पर कटाक्ष करते हुए कहा कि इस्तीफे की घोषणा करते हुए वह जिस तरह से रोए, वह किसी एक व्यक्ति के आंसू नहीं थे, बल्कि वे एक मुख्यमंत्री के आंसू थे, जो राज्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसके पीछे क्या दर्द है? वह दर्द किसने दिया?

यह भी पढ़ें :- कर्नाटक: सीएम येदियुरप्पा के इस्तीफे के बाद खतरे में कई मंत्रियों की कुर्सी, सियासी हलचल तेज

उन्होंने आग्रह किया कि उस दर्द को राज्य के लोगों के सामने प्रकट होने दें। कांग्रेस नेता ने कहा, उनके इस्तीफे के पीछे कोई खुशी नजर नहीं आ रही है। इसके बजाय, दर्द स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहा था। वह दर्द क्या है? इसके लिए कौन जिम्मेदार है, वह इसे राज्य के लोगों को समझाएं।

भाजपा ने येदियुरप्पा के पीठ पर घोंपा छुरा: शिवकुमार

उन्होंने कहा, क्या उन्हें (येदियुरप्पा) दुख हुआ, क्योंकि लोगों को दो साल तक कोरोनावायरस का सामना करना पड़ा? क्या इसलिए कि उनके खिलाफ जाने वाले विधायकों पर पार्टी आलाकमान का नियंत्रण नहीं था? लोगों को यह जानना चाहिए।

यह भी पढ़ें :- कर्नाटक: BJP के किसी CM ने अब तक पूरा नहीं किया अपना 5 साल का कार्यकाल

शिवकुमार ने कहा कि भाजपा नेताओं ने येदियुरप्पा की पीठ में छुरा घोंपा। उन्होंने कहा कि येदियुरप्पा को आलाकमान का समर्थन नहीं मिला। उन्होंने कहा, जिसने भी कांग्रेस छोड़ी वह आज अपनी स्थिति खो चुका है। हम देखेंगे कि क्या वे पार्टी में लौटना चाहते हैं। हमें येदियुरप्पा को बदलने से कोई लाभ नहीं होने वाला है। राज्य के लोगों ने पहले ही भाजपा को बदलने का फैसला कर लिया है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned