झारखंड भाजपा में पार्टी के अंदर छिड़ा संग्राम, इस दिग्गज मंत्री ने की इस्तीफे की पेशकश

झारखंड भाजपा में पार्टी के अंदर छिड़ा संग्राम, इस दिग्गज मंत्री ने की इस्तीफे की पेशकश

Anil Kumar | Publish: Feb, 10 2019 03:09:10 PM (IST) | Updated: Feb, 10 2019 03:09:11 PM (IST) राजनीति

झारखंड भाजपा के अंदर संकट खड़ा हो गया है। मुख्यमंत्री रघुबर दास के मंत्रिमंडल में शामिल सरयू राय ने सीएम के खिलाफ ही मोर्च खोल दिया है।

रांची। आम चुनाव करीब है और सियासी दल अपनी-अपनी रणनीति बनाने में जुटे हुए हैं। लेकिन इन सबके बीच राजनीतिक दलों में आंतरिक संकट भी उभर कर सामने आ रहे हैं जो पार्टियों के लिए एक बड़ी समस्या बन रही है। इसी कड़ी में आम चुनाव से ठीक पहले भाजपा के लिए एक बुरी खबर सामने आई है। दरअसल झारखंड भाजपा के अंदर संकट खड़ा हो गया है। मुख्यमंत्री रघुबर दास के मंत्रिमंडल में शामिल सरयू राय ने सीएम के खिलाफ ही मोर्च खोल दिया है। बताया जा रहा है कि राय इस्तीफा देने की भी पूरी तैयारी कर चुके हैं। बता दें कि शनिवार को सरयू राय ने रघुबर सरकार के कामकाज से नाराज होकर अपनी सभी जिम्मेदारियों को छोड़ने की पेशकश कर दी। इस बाबत राय दिल्ली पहुंचे और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात करना चाहते थे। लेकिन शनिवार को शाह अटल बूथ कार्यकर्ताओं को संबोधित करने के लिए पूणे में मौजूद थे। लिहाजा राय की मुलाकात शाह से नहीं हो पाई। जिसके बाद सरयू राय पार्टी मुख्यालय में अमित शाह के नाम एक पत्र छोड़ गए हैं। इस पत्र में राय ने कहा है कि 'मैं आपसे मिलने के लिए दिल्ली मुख्यालय आया था, लेकिन आप मौजूद नहीं थे, इसलिए मैं यह पत्र छोड़कर जा रहा हूं। आप जब कहेंगे मैं आपसे मिलने आ जाउंगा।’

 

लोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी का कमलनाथ सरकार को बड़ा झटका, वचन निभाना होगा मुश्किल

पार्टी मुख्यालय में राय ने शाह के नाम छोड़ा पत्र

आपको बता दें कि सरयू राय ने दिल्ली पार्टी मुख्यालय में शाह से मुलाकात नहीं हो पाने के बाद से एक पत्र छोड़ा है। पत्र में राय ने लिखा है कि मैं आपसे 21 अगस्त 2017 दिल्ली के पार्टी मुख्यालय में मुलाकात की थी। आपने मुझे 16 से 18 सितंबर 2017 के रांची दौरे का इंतजार करने को कहा था। हालांकि आपके दौरे के बाद से कार्यशैली में कुछ सुधार जरूर हुआ है लेकिन कुछ ही महीनों बाद सरकार में शामिल लोग अपन पुराने तौर-तरीकों पर ही काम करने लगे। आगे राय ने लिखा है कि मौजूदा समय में सरकार की कार्यशैली बदतर हो चुकी है। सरकार के अंदर कई ऐसी चीजें हो रही है जो मेरे लिए स्वीकार करना मुश्किल है। आत्मस्वाभिमान के साथ सरकार में बने रहना मेरे लिए संभव नहीं है। राय ने केंद्रीय नेतृत्व पर यह आरोप लगाया कि दो वर्ष हो गए लेकिन इस मामले को सुलझाने का प्रयास नहीं किया गया, इसलिए अब मैं इस्तीफा देने को मजबूर हो गया हूं।

पीएम मोदी के अगमन से पहले सीएम योगी को सता रहा डर, कहीं यह लोग खराब न कर दें पूरा कार्यक्रम

राय पहले भी कर चुके हैं शिकायत

आपको बता दें कि सरयू राय इससे पहले भी पार्टी आलाकमान से सीएम रघुबर दास की कार्यशैली को लेकर शिकायत कर चुके हैं और अपनी नाराजगी जता चुके हैं। वर्ष 2017 के अगस्त में राय ने अपनी नाराजगी जताई थी, लेकिन तब पीएम मोदी ने राय को समझाते हुए यह सलाह दी थी कि इस्तीफा देना किसी भी समस्या का हल नहीं होता है। पीएम मोदी ने राय को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से मिलने की सलाह दी थी और कहा था कि मिल बैठकर समस्या का समाधान निकालें। हालांकि अब उन्होंने कहा है कि यदि सीएम अपने कार्यशैली और व्यवहार में बदलाव नहीं करते हैं तो उनके अनुसार मैं खुद को नहीं बदल सकता हूं।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned