महाराष्ट्र: केंद्रीय मंत्री नारायण राणे को महाड मजिस्ट्रेट कोर्ट से मिली जमानत

सीएम उद्धव ठाकरे को 'थप्पड़ मारने' के बयान पर नारायण राणे (Union Minister Narayan Rane ) के खिलाफ पूरे महाराष्ट्र में शिवसैनिकों का प्रदर्शन जारी है। वहीं अब तक नारायण राणे के खिलाफ 4 FIR दर्ज हो चुके हैं।

By: Anil Kumar

Updated: 24 Aug 2021, 11:41 PM IST

मुंबई। सीएम उद्धव ठाकरे को थप्पड़ मारने वाले बयान के मामले में गिरफ्तार महाराष्ट्र बीजेपी के कद्दावर नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे (Union Minister Narayan Rane) को रायगढ़ के महाड मजिस्ट्रेट कोर्ट से जमानत मिल गई है। मंगलवार देर शाम सुनवाई के बाद जमानत मिल गई।

हालांकि, भाजपा एमएलसी प्रसाद लाड ने कहा है कि महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे के खिलाफ उनके कथित बयान के संबंध में केंद्रीय मंत्री नारायण राणे को न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। इससे पहले मंगलवार को रत्नागिरी पुलिस ने राणे को गिरफ्तार किया था। पहले पुलिस ने राणे को हिरासत में लिया और फिर थोड़ी देर बाद गिरफ्तार कर लिया। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर विवादित बयान देने के बाद से ही उनपर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही थी।

जानकारी के अनुसार, मंगलवार को देर शाम नारायण राणे को फर्स्ट क्लास मजिस्ट्रेट बाबासाहेब शेख पाटिल की कोर्ट में पेश किया गया। पुलिस ने कोर्ट में राणे की 7 दिन की रिमांड की मांग की थी। इधर, नारायण राणे के वकील ने कोर्ट में कहा, पुलिस ने जो धाराएं लगाईं वो गलत हैं। राणे को गिरफ्तार करने से पहले पुलिस ने किसी तरह का नोटिस नहीं दिया। इस दौरान उन्होंने कोर्ट में बॉम्बे हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के कुछ उदाहरण भी पेश किए।

यह भी पढ़ें :- केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की गिरफ्तारी के आदेश जारी, भाजपा जनआशीर्वाद रैली में सीएम उद्धव ठाकरे को कहे अपशब्द

पेशी से पहले कोर्ट के बाहर SRPF की 1 कंपनी, दंगा रोधी 2 पलटन, 4 डिप्टी एसपी, 6 PI और 120 पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। वहीं, भाजपा बुधवार को राणे की गिरफ्तारी के विरोध में महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेगी। पुलिस ने इससे पहले एक बयान में कहा कि अभी गिरफ्तारी की प्रक्रिया जारी है।

पुलिस ने कहा कि नारायण राणे को उनकी विवादास्पद टिप्पणी के लिए उनके खिलाफ दर्ज कई प्राथमिकी के आधार पर हिरासत में लिया गया है। नासिक के पुलिस आयुक्त दीपक पांडे ने सोमवार सुबह कहा था कि नारायण राणे को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की एक टीम रास्ते में है। पुलिस ने एसपी रत्नागिरी से नारायण राणे को हिरासत में लेकर नासिक पुलिस टीम को सौंपने को कहा है।

बता दें कि भाजपा लोकसभा चुनाव 2024 और उससे पहले कई राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर देशभर में जन आशीर्वाद रैली कर रही है। इसी कड़ी में सोमवार को (23 अगस्त) जन आशीर्वाद यात्रा महाराष्ट्र में कोकड़ के महाड़ इलाके में पहुंची। यहां नारायण राणे ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। प्रेस कॉन्फ्रेंस में राणे ने सीएम उद्धव ठाकरे पर हमला करते हुए कथिच रूप से अपशब्द कहे और थप्पड़ मारने तक की बात की। नारायण राणे ने कहा, "यह शर्मनाक है कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को स्वतंत्रता का वर्ष नहीं पता है। उन्हें अपने भाषण के दौरान वर्षों की गिनती पूछनी पड़ी और अगर मैं वहां होता, तो मैं उन्हें एक थप्पड़ मार देता।"

शिवसैनिकों का प्रदर्शन जारी

इधर, सीएम ठाकरे को 'थप्पड़ मारने' के बयान पर नारायण राणे के खिलाफ पूरे महाराष्ट्र में शिवसैनिकों का प्रदर्शन जारी है। वहीं अब तक नारायण राणे के खिलाफ 4 FIR दर्ज हो चुके हैं। एक प्राथमिकी पुणे में, एक नासिक में, जबकि दो रायगढ़ जिले के महाड़ इलाके में दर्ज की गई है। भारतीय दंड संहिता की धारा 500, 505(2), 153(b)(1), 153 और 505 के तहत मामला दर्ज किया गया है। वहीं इस मामले में रत्नागिरी कोर्ट ने राणे की अग्रिम जमानत याचिका पहले ही खारिज दी है। वहीं अब बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी नारायण राणे की अपील सुनने से इनकार कर दिया है।

सीएम के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर शिवसैनिकों ने मंगलवार को नासिक में भारतीय जनता पार्टी के दफ्तर पर पत्थरबाजी की। इसके अलावा मुंबई, अमरावती, रत्नागिरी समेत कई शहरों में नारायण राणे के खिलाफ प्रदर्शन किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें :- Maharashtra: भाजपा विधायक की धमकी पर सीएम उद्धव बोले- 'एक थप्पड़ मारूंगा, दोबारा उठ नहीं पाओगे’

इस बीच बीजेपी ने सीएम उद्धव ठाकरे के खिलाफ नारायण राणे की टिप्पणी से खुद को अलग कर लिया। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि नारायण राणे को मुख्यमंत्री के बारे में बोलते समय संयम दिखाना चाहिए था।

बीजेपी ने किया किनारा

इस पूरे मामले पर भाजपा ने किनारा कर लिया है। महाराष्ट्र बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि नारायण राणे के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट से पता चलता है कि एमवीए सरकार डरी हुई है। यह एक राजनीतिक लड़ाई है। उन्होंने कहा कि मैं नारायण राणे के बयान का समर्थन नहीं करता, लेकिन अगर उन्हें गिरफ्तार किया जाता है या फिर सीएम के खिलाफ टिप्पणी के लिए उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी की जाती है, तो उनके नेताओं के साथ क्या किया जा रहा है, जो एक संवैधानिक पदाधिकारी राज्यपाल के खिलाफ लगातार टिप्पणी करते रहे हैं।

वहीं भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गिरफ्तारी को गलत बताते हुए महाराष्ट्र सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार द्वारा केंद्रीय मंत्री नारायण राणे जी की गिरफ़्तारी संवैधानिक मूल्यों का हनन है। इस तरह की कार्यवाही से ना तो हम डरेंगे, ना दबेंगे। भाजपा को जन-आशीर्वाद यात्रा में मिल रहे अपार समर्थन से ये लोग परेशान है। हम लोकतांत्रिक ढंग से लड़ते रहेंगे, यात्रा जारी रहेंगी।

राणे की गिरफ्तार के बाद महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा, हम उद्धव ठाकरे को लेकर दिए गए राणे के बयान का समर्थन नहीं करते हैं लेकिन मैं एक व्यक्ति के तौर पर और हमारी पार्टी उनके साथ खड़ी है। शर्जील उस्मानी ने भारत माता को गाली दी थी लेकिन उस पर कोई एफआईआर दर्ज नहीं की गई लेकिन राज्य सरकार ने नारायण राणे के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned