कीमतें बढ़ी तो 80 फीसदी ग्राहकों ने प्याज से मुंह मोड़ा, इसलिए 65 रुपए वाला प्याज थोक में 50 रुपए

-- ग्राहकी 20 फीसदी पर सिमटी, दो दिन में 15 रुपए सस्ती हुई
-- दो दिन के भीतर प्याज की बिक्री में 80 फीसदी तक गिरावट

By: Ashish Gupta

Published: 25 Oct 2020, 10:46 AM IST

रायपुर. कीमतों में महंगाई की आग के बाद ग्राहकों ने थोक और चिल्हर बाजार में प्याज (Onion Price) से मुंह मोड़ लिया है। बीते दो दिनों की स्थिति पर गौर करें तो प्याज की बिक्री में 80 फीसदी तक की गिरावट दर्ज की गई है। कारोबारियों के मुताबिक शनिवार को भनपुरी थोक बाजार में बिक्री 10 फीसदी तक लुढ़क गई।

दशहरा पर्व आज, रावण दहन के लिए इन नियमों का करना होगा पालन

इसकी वजह से बाजार में बेहतर क्वालिटी के प्याज की कीमतों में दो दिनों के भीतर 15 रुपए तक की गिरावट दर्ज की गई है। अब 65 रुपए वाला प्याज थोक में 50 से 55 रुपए तक आ चुका है। कारोबारियों का कहना है कि प्याज की बिक्री में यदि ऐसी कमी बनी रही तो थोक की कीमतों में आने वाले दिनों में और गिरावट दर्ज की जा सकती है। बिक्री नहीं होने की वजह से चिल्हर बाजार में भी कीमतें कम हुई है।

नवमी और दशमी तिथि को लेकर भ्रम की स्थिति खत्म, शंकराचार्य आश्रम के प्रमुख ने दी सही जानकारी

चिल्हर में भी कीमतें हुई कम
चिल्हर बाजारों में 60 रुपए में भी खाने लायक अच्छा प्याज बाजार में उपलब्ध है। इधर काउंटरों की बात करें तो भनपुरी थोक बाजार में काउंटर की शुरूआत कर दी गई है। सोमवार से इसकी संख्या और बढ़ाई जाएगी। थोक आलू-प्याज व्यापारी संघ के अध्यक्ष अजय अग्रवाल ने बताया कि थोक बाजार में प्याज की बिक्री 10 से 20 फीसदी तक सिमट चुकी है। कीमतें थोक में 40, 50 से 55 रुपए तक आ चुकी है।

प्याज की बढ़ती कीमतों पर रोक लगाने के लिए राज्य सरकार ने सख्त कदम उठाए, तय किया स्टॉक लिमिट

आलू ने भी दिखाएं तेवर
बाजार में आलू ने भी तेवर दिखाना शुरू कर दिया है। आलू की आवक पं. बंगाल से हो रही है। शनिवार को भनपुरी और डूमरतराई थोक बाजार में आलू 30 से 32 रुपए किलो तक बिका, वहीं चिल्हर में 40 रुपए तक पहुंच चुका है। प्याज की आवक मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र से बनी हुई है।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned