हनी ट्रैप मामले में बड़ा खुलासा, छत्तीसगढ़ के नेताओं के भी सुंदरियों से संबंध

  • नेता रात 2-2 बजे तक करते थे मोबाइल से चैटिंग
  • कॉल डिटेल्स रिकॉर्ड उगल रहे राज
  • लैपटॉप में मिले आपत्तिजनक वीडियो और फोटो

रायपुर. हनी ट्रैप मामले (honey trap) में बड़ा खुलासा हुआ है। हसीना गिरोह के कॉल डिटेल्स रिकॉर्ड में चौंकाने वाली जानकारी मिली है कि छत्तीसगढ़ के नेताओं के भी इन सुंदरियों के साथ संबंध रहे हैं!

मिले आपत्तिजनक वीडियो
मध्यप्रदेश (MP honey trap case) में बड़े राजनेता और नौकरशाहों को फंसाकर उन्हें ब्लैकमेल करने वाली हाईप्रोफाइल महिलाओं के गिरोह का खुलासा 19 सितम्बर को हुआ। यह गिरोह इंदौर नगर निगम के इंजीनियर हरभजन सिंह की शिकायत के बाद सामने आया है। पुलिस ने 4 महिलाओं और उनके कार ड्राइवर को गिरफ्तार किया। उनसे लैपटॉप, मोबाइल और 14.17 लाख रुपए बरामद किए गए। लैपटॉप में अन्य लोगों के आपत्तिजनक वीडियो व फोटो मिले हैं।

छत्तीसगढ़ / मास्टर शेफ पंकज भदौरिया ने छत्तीसगढ़ी व्यंजनों को दिया इंटरनेशनल टेस्ट
हनी ट्रैप में पकड़ी गईं ये सुंदरियां
हनी ट्रैप में श्वेता विजय जैन, श्वेता स्वप्निल जैन, बरखा सोनी भटनागर और आरती दयाल पकड़ी गई हैं। आरोपियों से कई मोबाइल फोन व लैपटॉप जब्त किए गए।
भाजपा के बड़े पदाधिकारी का भी नाम
हनी ट्रैप कांड की आरोपी महिलाओं के कॉल डिटेल्स रिकॉर्ड (सीडीआर) और एसएमएस से चौंकाने वाले तथ्य उजागर हुए हैं। हनी ट्रैप के जाल में भाजपा (BJP) संगठन के बड़े पदाधिकारी का नाम भी सामने आया है। प्रारंभिक तौर पर हनी ट्रैप में पकड़ी गई श्वेता विजय जैन, श्वेता स्वप्निल जैन, बरखा सोनी भटनागर (barkha) और आरती दयाल के कॉल डिटेल्स में मध्यप्रदेश के अलावा छत्तीसगढ़ (chhattisgarh) के नेताओं के संबंध पाए गए हैं।

अमित शाह का नया एक्शन प्लान तैयार, कश्मीर के बाद अब नक्सलियों का नंबर
नेता करते थे सुंदरियों से चैटिंग
हनी ट्रैप रैकेट (honey trap racket) की सुंदरियों से कई नेताओं की रात दो-दो बजे तक फोन कॉल और मोबाइल से चैटिंग का रिकॉर्ड मिला है। साथ ही आईएएस-आईपीएस अफसरों के संबंध भी उजागर हुए हैं।
पांच करोड़ रुपए तक वसूलती थी हसीना
प्रारंभिक जांच में सामने आया कि ये हसीना पहले एनजीओ के काम के बहाने नेताओं और अधिकारियों से संबंध बनाती थी, फिर नजदीकी बढऩे पर उनके अंतरंग संबंधों का अश्लील वीडियो और ऑडियो तैयार करती थी। इनके जरिए वे उन्हें ब्लैकमेल कर दो करोड़ से पांच करोड़ रुपए तक वसूलती थी।

कोर्स की पुस्तकें पढऩे का टेंशन अब खत्म, ऑडियो-वीडियो से होगी पढ़ाई

BJP
Show More
Anupam Rajvaidya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned