मरवाही उपचुनाव: जोगी कांग्रेस के दो विधायक हुए बागी, कांग्रेस को दिया समर्थन

- प्रचार के अंतिम दिन जोगी कांग्रेस के विधायकों ने अपनाया बागी तेवर
- जोगी कांग्रेस के विधायकों ने की कांग्रेस को समर्थन देने की घोषणा

By: Ashish Gupta

Published: 02 Nov 2020, 11:47 AM IST

रायपुर. मरवाही उपचुनाव (Marwahi Bypoll) में प्रचार के अंतिम दिन जकांछ के दो विधायक देवव्रत सिंह और प्रमोद शर्मा ने खुलकर बागी तेवर अपना लिया है। जकांछ ने उपचुनाव में भाजपा के समर्थन का ऐलान किया। इसके दो दिन बाद ही जकांछ के विधायक देवव्रत और प्रमोद शर्मा ने गौरेला में पत्रकारवार्ता लेकर कांग्रेस को समर्थन देने की घोषणा कर दी। इस दौरान राजस्व मंत्री और मरवाही उप चुनाव प्रभारी जयसिंह अग्रवाल भी मौजूद थे।

विधायक देवव्रत सिंह ने पत्रकारवार्ता के दौरान राज्य सरकार के कामकाज की जमकर तारीफ की। वहीं उन्होंने इस बात का भी दावा किया कि विधायक डॉ. रेणु जोगी भी चाहती है कि कांग्रेस में वो शामिल हो जाएं। चुनाव के वक्त भी कांग्रेस के ही टिकट पर लड़ना चाहती थीं, जिसके लिए उन्होंने आखिरी वक्त तक इंतजार किया। वो हमेशा से कांग्रेस के विचारधारा के साथ खड़ी रही हैं।

मरवाही उपचुनाव: कांग्रेस-भाजपा में सीधा मुकाबला, महिला वोटरों की संख्या पुरुषों से अधिक

उन्होंने एक बार फिर यह दावा किया कि अजीत जोगी जब कोमा में थे, तो उस दौरान भी ये कोशिश हुई थी कि वो कांग्रेस में शामिल हो जाएं, लेकिन तकनीकी वजहों से ऐसा संभव नहीं हो पाया। देवव्रत सिंह ने कहा कि जनवरी में अजीत जोगी के निर्देश पर ही उन्होंने राहुल गांधी से मुलाकात की थी।

रेणु जोगी बोलीं- कांग्रेस में जाने का सोच भी नहीं सकती
जकांछ विधायक सिंह और शर्मा के बयान को लेकर विधायक डॉ. रेणु जोगी नाराज हैं। उन्होंने कहा, वे कदापि कांग्रेस में जाने की इच्छा नहीं रखती। उन्होंने कहा, अजीत जोगी जी के स्वर्गवास के बाद भी लगातार कांग्रेस पार्टी के नेताओं द्वारा अभद्र टिप्पणी कर उन्हें अपमानित किया जा रहा है। इससे मैं व्यथित हूं। दोनों विधायकों के कांग्रेस को समर्थन देने की बात पर उन्होंने कहा, सत्ता सुख पाने के लालच में अब वे जोगीजी का अपमान कर रहे हैं।

20 साल बेमिसाल: राज्य स्थापना के 20 वर्षों में छत्तीसगढ़ ने रचे कई कीर्तिमान

मरवाही में चुनाव शोर थमा, कल मतदान
मरवाही में रविवार शाम 5 बजे से चुनावी शोर थम गया है। 3 तारीख को होने वाले मतदान से पहले अब प्रत्याशी केवल डोर टू डोर ही प्रचार कर सकेंगे। चुनाव प्रचार थमते ही होटल लॉज की जांच शुरू कर दी गई है। विधानसभा में किसी भी बाहरी व्यक्ति के ठहरने पर मतदान तक निषेध रहेगा। यहां वैसे तो पर्चा वापसी के बाद 8 प्रत्याशी मैदान में हैं लेकिन मुख्य मुकाबला कांग्रेस और भाजपा में है।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned