ये तीन अक्षर का मंत्र, कर देता है सभी को सम्मोहित

ये तीन अक्षर का मंत्र, कर देता है सभी को सम्मोहित

Ashish Pathak | Publish: Sep, 03 2018 10:57:54 AM (IST) Ratlam, Madhya Pradesh, India

ये तीन अक्षर का मंत्र, कर देता है सभी को सम्मोहित

रतलाम। भारतीय मंत्रशास्त्र में अनेक एेसे मंत्र है जो दैनिक जीवन में काम आते है। इन मंत्रों को अगर सही तरीके से उच्चारण करके उपयोग किया जाए तो अनेक बिगडे़ कार्य बनने शुरू हो जाते है। जररुत इन मंत्र को सही तरीके से पूजन करके इनके आधिपत्य देवताओं को अपने पक्ष में करने की होती है। ये बात केरल की तंडी ज्योतिष परंपरा के जानकार व रतलाम के प्रसिद्ध ज्योतिषी वीरेंद्र रावल ने कही। वे भक्तों को श्रीकृष्ण जन्मअष्टमी पर सम्मोहन मंत्र का महत्व व इसका उपयोग के बारे में बता रहे थे।

 

ज्योतिषी रावल ने कहा कि आमतोर पर जब मनुष्य का जीवन मिलता है तो कुछ न कुछ परेशानियां हमेशा चलती रहती है। इन परेशानियों के रहते आम व्यक्ति परेशान रहता है। एेसे में अगर राशि अनुसार मंत्रों का जप व पूजन किया जाए तो बिगडे़ कार्य बनना शुरू हो जाते है। इसके लिए सही तरीके से पूजन करना व मंत्र को जप करना जरूरी होता है।

 

नौकरी में मिलती सफलता

अगर आपके वरिष्ठ आपसे नाराज रहते है, आप कितना भी बेहतर कार्य करें, लेकिन आपको सफलता नहीं मिलती है तो आप महात्रिपुर सुंदरी देवी का त्री, त्री, त्री ये तीन अक्षर के मंत्र का जप प्रतिदिन सुबह या कार्य का जो भी समय हो, उसके आधे घंटे पहले १०८ बार करके कार्य पर जाए। इससे कुछ ही दिन में आपके वरिष्ठ आपके प्रति मोहित होना शुरू हो जाएंगे।

कारोबार में सफलता के लिए

अनेक बार बड़ा इनवेस्ट करके भी वो सफलता नहीं मिलती है, जो हम चाहते है। बल्कि कई बार हम देखते है कि कुछ लोग कम इनवेस्ट में अधिक कमा लेते है, लेकिन बड़ा इनवेस्ट करके घाटा होता है। एेसे में कारोबार में सफलता के लिए तीन अक्षर का एक मंत्र बड़ा काम का होता है। इसके लिए महाकालिका देवी का तीन अक्षर का मंत्री क्री, क्री, क्री का जप करके कारोबार प्रतिदिन करें। ये जप आप प्रतिदिन सुबह या शाम को १०८ बार करें। आपको सफलता मिलने लगेगी। आपसे कारोबार से जुडे़ ग्राहक आप पर मोहित होकर आपके आप के पास आने लगेंगे।

 

प्यार से सफलता के लिए

जीवन में हर कोई प्यार चाहता है। वो परिवार में हो या बाहर। एेसे में प्यार पाने के लिए पुरुष व महिला के लिए अलग-अलग तीन अक्षर का मंत्र है। इस मंत्र को आज से ही शुरू करने से सफलता हर हाल में मिलती है। पुरुष वर्ग, काम देवाय नम: शब्द का १०८ बार व महिलाएं र रत्ये नम: मंत्र का जप करें। ये जप करने के पूर्व देवता से निवेदन करें कि वे जिसको चाहते है, वो उनके करीब आए। इस मंत्र का १०८ बार प्रतिदिन जप करने से लाभ होता है।

 

दुश्मन से जीत के लिए

दुश्मन से जीत के लिए भारी भरकम पूजा या व्यय करने की जरुरत नहीं रहती। इसके लिए भारतीय मंत्र शास्त्र में तीन अक्षर का एक बेहद आसान मंत्र बताया गया है। इस मंत्र के जप करने से बड़ा लाभ होता है। अगर कोई आपका दुश्मन है व आप सही है तो ही ये मंत्र कार्य करता है। दुश्मन को वश में करने या मोहित करने के लिए स्त्री, स्त्री, स्त्री मंत्र का जप १०८ बार प्रतिदिन सुबह या शाम को करें। इससे बड़ा लाभ होगा।

परीक्षा में सफलता के लिए

परीक्षा में सफलता या बेहतर रुप से पढ़ाई के बाद याद रहे इसके लिए मां सरस्वती की आराधना का प्रावधान है। इसके लिए एें, एें, एें मंत्र का जप पढ़ाई के पहले सिर्फ ११ बार करना चाहिए। इससे जो पढ़ा है वो तेजी से याद होता है। इसक ेअलावा परीक्षा में सफलता मिलती है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned