scriptBada Mangal 2022 Date: Why We Called Budhwa Mangal Know Puja Vidhi | Bada Mangal 2022: कब-कब पड़ेंगे बड़े मंगल? जानिए इन दिनों किन उपायों से बजरंगबली हर मनोकामना करेंगे पूर्ण | Patrika News

Bada Mangal 2022: कब-कब पड़ेंगे बड़े मंगल? जानिए इन दिनों किन उपायों से बजरंगबली हर मनोकामना करेंगे पूर्ण

Bada Mangal 2022 Date: धार्मिक मान्यताओं अनुसार श्रीराम और हनुमानजी की पहली मुलाकात ज्येष्ठ माह में आने वाले मंगलवार के दिन ही हुई थी। इसलिए इस दिन को बड़े मंगल के तौर पर मनाया जाता है।

नई दिल्ली

Updated: May 11, 2022 09:40:22 am

Bada Mangal 2022 Date, Puja Vidhi And Significance: ज्येष्ठ मास की शुरुआत 17 मई से हो रही है और इसकी समाप्ति 14 जून को होगी। इस महीने में आने वाले प्रत्येक मंगलवार को बुढ़वा मंगल या बड़ा मंगल के नाम से जाना जाता है। पहला बड़ा मंगल 17 मई को पड़ रहा है। ज्येष्ठ में आने वाले सभी मंगलवार भगवान हनुमान की पूजा के लिए विशेष माने जाते हैं। कहते हैं जो व्यक्ति सच्चे मन से श्री राम भक्त हनुमान की अराधना करता है उसके जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। जानिए ज्येष्ठ महीने में आने वाले मंगलवार को क्यों कहा जाता है बुढ़वा मंगलवार।

bada mangal, bada mangal 2022 date, bada mangal kab hai, bada mangal kab se shuru hai, budhwa mangal 2022 date, budhwa mangal, बड़ा मंगल, ज्येष्ठ मंगल,
Bada Mangal 2022: कब-कब पड़ेंगे बड़े मंगल? जानिए इन दिनों किन उपायों से बजरंगबली हर मनोकामना करेंगे पूर्ण

मान्यता अनुसार भीम को जब अपनी शक्तियों और बल पर घमंड हो गया था तो बजरंगबली ने बूढ़े वानर का रूप धारण कर भीम का घमंड तोड़ा था। जिस दिन ये वाक्या हुआ था उस दिन मंगलवार था। इसलिए इस दिन को बुढ़वा मंगल और बड़ा मंगल के नाम से जाना जाने लगा। जानिए ज्येष्ठ के महीने में कब-कब पड़ रहा है बड़ा मंगल?

ज्येष्ठ मास में कब-कब पड़ रहा है बुढ़वा मंगल?
17 मई 2022, मंगलवार
24 मई 2022, मंगलवार
31 मई 2022, मंगलवार
07 जून 2022, मंगलवार
14 जून 2022 मंगलवार

बुढ़वा मंगल पर करें ये काम, हर मनोकामना होगी पूर्ण: ज्येष्ठ महीने में आने वाले मंगलवार व्रत का विशेष महत्व माना जाता है। इस दिन सच्चे मन से भगवान हनुमान की भक्ति करना और जरूरतमंदों को दान करना बड़ा ही फलदायी होता है। इसी के साथ इस दिन बजरंगबाण, सुंदरकांड और हनुमान चालीसा का पाठ भी जरूर करना चाहिए। इससे जीवन में आ रही तमाम परेशानियां दूर होने की मान्यता है।

बुढ़वा मंगल की पूजा विधि: सुबह-सुबह स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण कर लें। इसके बाद घर के मंदिर की साफ-सफाई करें। हनुमान जी की प्रतिमा पर लाल फूल चढ़ाएं। उन्हें लाल चंदन का टीका लगाएं। फिर हनुमान चालीसा का पाठ करें। शाम के समय फिर से भगवान हनुमान की पूजा करें। हनुमान जी को प्रसाद चढ़ाकर व्रत का पारण कर लें।

यह भी पढ़ें

बिजनेस में माहिर माने जाते हैं इन राशियों के लोग, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिल

(डिस्क्लेमर: इस लेख में दी गई सूचनाएं सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। patrika.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ की सलाह लें।)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान को 42 गेंदों में 41 रनों की आवश्यकतापूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.