सूर्य का राशि परिवर्तन: जानें मेष राशि में प्रवेश से आप पर इसका अच्छा या बुरा असर

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार सूर्य का ये परिवर्तन है बहुत खास...

भारतीय ज्योतिष में सूर्य को ग्रहों का राजा माना जाता है। वहीं सूर्य जहां आत्मा का कारक माना गया है वहीं कुंडली में इसे मान सम्मान व अपमान का भी कारक माना गया है। अप्रैल 2021 में ग्रहों की दशा दिशा में हो रहे परिवर्तनों के बीच इस बार सूर्य 13-14 की दरमियानी रात में मेष राशि में प्रवेश करेंगे।

मेष मंगल के आधिपत्य वाली राशि है और एक ओर जहां सूर्य ग्रहों के राजा हैं वहीं मंगल देवसेनापति माने जाते हैं, ऐसे में सूर्य व मंगल आपस में मित्र माने गए हैं। इसका अर्थ ये है कि सूर्य अपने मित्र की राशि में जा रहे हैं।

वहीं इसी 13 अप्रैल को हिंदुओं का नववर्ष यानि नवसंवत्सर भी शुरु होने जा रहा है। जिसके राजा व मंत्री मंगल होंगे। ज्योतिष के जानकारों के अनुसार ऐसे में सूर्य का मंगल में प्रवेश अति विशेष हो गया है। वहीं सूर्य के इस परिवर्तन का सभी 12 राशियों पर प्रभाव देखने को मिलेगा।

सूर्य के इस परिवर्तन से जहां कुछ राशियों के लिए बहुत अच्छा समय शुरु होता दिख रहा है, वहीं कुछ के लिए सामान्य तो कुछ के लिए यह परेशानी लाता भी दिख रहा है। ऐसे में ज्योतिष के जानकारों के अनुसार इस दौरान कुछ उपाय ऐसे भी हैं, जिन्हें अपना कर उस निश्चित राशि के जातक सूर्य के इस बुरे प्रभाव से बच सकते हैं।

आइये जानते हैं सूर्य के परिवर्तन का 12 राशियों पर असर...

1. मेष राशि
इस दौरान सूर्य आपके ही घर में गोचर करेगा। यानि सूर्य आपके लग्न में रहेगा। ऐसे में सूर्य का यह गोचर आपकी राशि के लिए बेहद ही शुभ समय साबित होने की संभावना है। इस समय के दौरान आप उत्साह और ऊर्जा से भरे रहेंगे जो आपके लिए मददगार साबित होगा। सूर्य का यह गोचर आपके लिए असीमित संभावनाएं लेकर आएगा।

इसके अलावा सूर्य का ये गोचर आपके स्वस्थ्य के लिए भी फलदायी साबित होगा। वहीं इस दौरान आपके विचारों और अनुशंसाओं को भी खूब प्रशंसा मिलेगी।

व्यक्तिगत जीवन में यह गोचर आप दोनों के रिश्ते को एक नया आयाम देने में भी मदद करेगा। वहीं इस दौरान आपके बच्चों द्वारा अच्छा नाम और प्रसिद्धि अर्जित करने की संभावना है। वहीं यदि आप अविवाहित हैं और किसी इंसान से प्यार करते हैं तो उन तक अपनी बात पहुंचाने के लिए भी यह अच्छा समय साबित होगा।

लेकिन ध्यान रहे सूर्य की यह स्थिति आपको कभी-कभी थोड़ा अभिमानी बनाने का काम भी कर सकती है, जिससे आपको आपके अपने घरेलू वातावरण विशेषकर, वैवाहिक संबंधों में कुछ समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है।

उपायः हर रोज गायंत्री मंत्र का जाप सूर्योदय के समय करें।

2. वृषभ राशि
गोचर के दौरान सूर्य आपके बारहवें घर यानि व्यय भाव में होगा। इस दौरान आपको अचल संपत्ति से लाभ हो सकता है। वहीं यह समय विदेश में बसने के इच्छुक मूल निवासियों के लिए लाभ और शुभ समाचार मिलने की संभावना है। वहीं यह अवधि आपकी मां के लिए भी शुभ साबित होगी।

व्यवसाय से संबंधित यात्रा करने के लिए यह समय उचित रहेगा। उचित होगा इस समय वरिष्ठों के साथ व्यवहार करते समय समझदारी से काम लें, और अपने अधीनस्थों को संयमित रखें। इस समय अवधि के दौरान आपका स्थानान्तरण भी हो सकता है, जो कि उनके लिए शुभ साबित होगा।उचित होगा कि इस समय आवेगी ख़रीददारी करने से सावधान रहें।

साथ ही इस समय अपने स्वास्थ्य को लेकर सजग रहें, अन्यथा आपको स्वास्थ्य संबंधित कोई समस्या परेशान कर सकती है।

उपायः तांबे का रविवार के दिन दान करें।

3. मिथुन राशि
इस समय सूर्य आपके एकादश भाव यानि आय भाव में रहेंगे। ऐसे में इस दौरान आपको पेशेवर क्षेत्र में वृद्धि होने की प्रबल संभावना है। इस अवधि के दौरान आप कई प्रभावशाली लोगों और प्रतिष्ठित लोगों से मिलेंगे। वहीं इस अवधि में आपको अपने वरिष्ठ अधिकारियों और उच्च अधिकारियों के साथ अच्छे तालमेल का आनंद भी उठाने को मिलेगा।

कुल मिलाकर इस गोचर के दौरान आपको काफी लाभ मिलने की संभावना है। वहीं व्यक्तिगत मोर्चे पर, सह-जन्मे, और विशेष तौर से छोटे भाई-बहनों से समर्थन और सहयोग मिलेगा। इस समय मिलने वाले नए लोग आपको नए अवसर प्रदान कर सकते हैं।

ध्यान रहे ये समय आपको थोड़ा जिद्दी और कठोर बना सकता है। जिससे व्यक्तिगत मामलों में कुछ समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

उपायः गायों को रविवार के दिन गुड़ खिलाएं।


4. कर्क राशि
इस समय सूर्य आपके दसवें घर यानि कर्म भाव में रहेगा, यहां सूर्य अपनी ‘दिगबल’ स्थिति में है। ऐसे में यह आपके लिए नयी उपलब्धियों और विकास की संभावनाएं लेकर आएगा।

इस समय पारिवारिक व्यवसाय से जुड़े लोगों के लिए यह समय काफी मुनाफ़ा लेकर आ सकता है। वहीं नौकरी कर रहे लोगों को यह गोचर नई भूमिकाएं, कुछ नयी जिम्मेदारियां और कार्यक्षेत्र के उच्च पद पर आसीन होने के सुनहरे अवसर दे सकता है। जबकि सरकारी क्षेत्र में काम कर रहे लोगों को भी इस दौरान प्रशंसा और सराहना प्राप्त होने की संभावना है।

वहीं इस राशि के कुछ लोगों को इस समय समयावधि में अभूतपूर्व लाभ होने की भी प्रबल संभावना है। इस राशि के वे लोग जो सरकारी कॉन्ट्रैक्ट हैं यह समय उनके लिए भी अनुकूल साबित होने वाला है।

जबकि स्वास्थ्य के मामले में भी इस दौरान आप जीवन शक्ति और जोश से भरे होंगे।

लेकिन, ध्यान रहे कि इस दौरान बीच बीच में आपके आक्रामक और आधिकारिक व्यवहार के चलते व्यक्तिगत और व्यावसायिक दोनों तरह की समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

उपायः रविवार को किसी जानकार की सलाह पर अच्छी गुणवत्ता वाली रूबी पहनें।

5. सिंह राशि
इस दौरान सूर्य आपके नवम भाव यानि भाग्य भाव में रहेगा। जहां यह अपनी उच्च स्थिति में होगा। जिससे आपको शुभ फल मिलने की संभावना है। ऐसे में इस समय आपको अपने भाग्य और किस्मत का पूरा समर्थन मिलेगा। कुल मिलाकर यह समय आपके लिए शुभ रहेगा।

इस गोचर के दौरान, आप पहले से अधिक आशावादी, निर्भीक और अभिनव नज़र आएंगे, वहीं इस समय आपके मुनाफ़े और आय में वृद्धि होने की प्रबल संभावना है। वहीं आपको कार्यस्थल पर अपने वरिष्ठों से अच्छा समर्थन और पहचान मिलने की भी संभावना है।

वहीं सरकारी क्षेत्रों में काम कर रहे इस राशि के लोगों का इस दौरान उनके अनुकूल स्थानों पर स्थानान्तरण प्राप्त होने की संभावना है। साथ ही आपका मान-सम्मान भी बढ़ेगा। इसके साथ ही यह भी आशा है कि इस दौरान अगर आप कोई यात्रा करते हैं तो आपको उससे निश्चित लाभ मिलने की संभावना है।

स्वास्थ्य के मामले में इस दौरान आपको अपनी किसी पुरानी बीमारी या समस्या से छुटकारा मिलने की उम्मीद है।

उपायः प्रतिदिन सूर्योदय के समय सूर्य नमस्कार करें।

 

6. कन्या राशि
इस दौरान सूर्य आपके अष्टम भाव यानि आयु भाव में रहेगा। ऐसे में इस दौरान आपको अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा। वहीं इस गोचर अवधि के दौरान आप भावनात्मक रूप से थोड़े कमजोर, घबराए हुए और उदास महसूस कर सकते हैं। ध्यान रहे इस गोचर के दौरान आप कभी कभी अपनी ज़ुबान से थोड़े कठोर हो सकते हैं, जिससे आपके आसपास के लोगों के आहत होने की उम्मीद है।

इसके साथ ही इस समय व्यावसायिक रूप से आपके मन में अपनी मौजूदा नौकरी बदलने का ख्याल आ सकता है, लेकिन इस समय कोई भी ऐसा फ़ैसला लेने से बचें। इसके अलावा व्यवसाय के क्षेत्र से जुड़े जातकों भी यदि किसी भी नए निवेश के बारे में विचार कर रहे हैं तो वे भी अभी रुकें।

लेकिन इस समय आपके जीवनसाथी के धन में वृद्धि देखने को मिल सकती है। वहीं आप में से कुछ लोगों को, विशेष रूप से अपनी पैतृक संपत्ति से कुछ अचानक लाभ और मुनाफ़े की प्रबल संभावना है।

उपायः सूर्य होरा के दौरान रोज़ाना सूर्य मंत्र का जाप और ध्यान करें।

7. तुला राशि
इस गोचर के दौरान सूर्य आपके सातवें घर यानि विवाह भाव में रहेगा। ऐसे में यह समय आपके लिए शुभ फल और परिणाम लेकर आएगा। इस समय आपको आय के नए स्त्रोत मिल सकते हैं।

इसके अलावा इस समय व्यापार से जुड़े जातकों को भी काफी लाभ मिलने वाला है। जबकि पेशेवर जातक इस समय पदोन्नति या तारीफ की उम्मीद भी कर सकते हैं। इस समस आपको बहुत अधिक मौद्रिक और राजकोषीय लाभ होने की उम्मीद है।

वहीं व्यापार से जुड़े जातकों के लिए भी ये समय लाभ वाला है। वहीं जो अभी विवाह उम्र क बावजूद सिंगल हैं इस समय अवधि में वह विवाह के बंधन में बंध सकते हैं। इसके अलावा इस समय कई प्रभावशाली लोग आपकी योजनाओं में रुचि ले सकते हैं और उनमें निवेश कर सकते हैं।

ध्यान रहे इस समय शादीशुदा जातकों को अहंकार, या गुस्से की वजह से थोड़ी उठापटक का सामना करनी पड़ सकती है। वैसे यह आपकी गहरी लालसाओं और शौक को पूरा करने के लिए एक अच्छा समय साबित हो सकता है।

उपायः किसी भी महत्वपूर्ण काम पर जाने से पहले पिता या किसी पितातुल्य इंसान का आशीर्वाद लेकर घर से निकलें।

8. वृश्चिक राशि
सूर्य का यह गोचर आपके छठे भाव यानि रोग व शत्रु भाव में होने जा रहा है। स्वास्थ्य के लिहाज़ से इस समय में आप अपनी सेहत का विशेष ध्यान रखने के लिए ज्यादा तत्पर नज़र आएंगे। साथ ही सूर्य के इस गोचर के दौरान आपके दुश्मन या प्रतिद्वंद्वी आपका कुछ नहीं बिगाड़ सकेंगे।

वहीं किसी भी तरह के ऋण, बकाया, या क़र्ज़ जिससे आप लम्बे समय से छुटकारा पाने चाहते थे, उससे मुक्ति पाने के लिए यह एक शुभ समय साबित हो सकता है। जबकि कुछ व्यवसायियों को पहले से तैयार की गई उनकी योजनाओं या निवेश से अपने पहले से उधार दिए गए पैसे या रिटर्न वापिस मिलने की संभावना है।

इस पारगमन के दौरान आपकी इच्छाशक्ति, आत्मविश्वास और प्रतिस्पर्धात्मक शक्ति अधिक होगी, जिसकी मदद से आप किसी भी परेशानी या बाधा से बड़ी ही आसानी से पार होने में कामयाब रहेंगे। इसके अलावा नए अवसरों की तलाश करने वालों को उनके इच्छित क्षेत्रों में नए मौके मिलने की संभावना प्रबल है।

इस कड़ी में आप अपने खान-पान की शैली में आवश्यक बदलाव भी कर सकते हैं और अपनी दिनचर्या में योग ध्यान को भी शामिल कर सकते हैं, जो स्वास्थ्य के मामले में आपको सकारात्मक परिणाम देने में मददगार साबित होगी। इसके अलावा कुछ वृश्चिक जातकों को लंबी चली आ रही कोई स्वास्थ्य संबंधी समस्या या परेशानी से छुटकारा भी मिल सकता है।

कुछ जातकों को इस दौरान पुराने कोर्ट के मामलों से लाभ मिलने की संभावना है। अगर आप किसी पर मुकदमा करने की योजना बना रहे हैं, तो इस दिशा में भी आगे बढ़ने के लिए यह समय शुभ साबित होगा। इसके साथ ही प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए भी समय शुभ साबित होगा क्योंकि इस दौरान आपके सभी सपने पूरे हो सकते हैं।

उपायः इस दौरान हर रोज ‘आदित्य हृदय’ स्त्रोत का पाठ करें।

9. धनु राशि
सूर्य का यह गोचर आपके पांचवें घर यानि पुत्र व बुद्धि भाव में होगा। ऐसे में यह समय आपके लिए लाभ और शुभ परिणाम लेकर आने वाला साबित होगा। इस समय आपको मिलने वाले अवसरों में वृद्धि होने की संभावना है, और साथ ही आप मौद्रिक स्थिति के मामले में भी वृद्धि करेंगे।

अगर आप व्यवसाय के क्षेत्र से जुड़े हुए हैं तो, तो गणना किए गए जोखिम लेने से आपको शानदार रिटर्न और लाभ मिलने की उम्मीद है। इस समय आप अपने काम से खुश नज़र आयेंगे और आपको अपने वरिष्ठों का भी पूर्ण सहयोग और मार्गदर्शन भी प्राप्त होगा।

इस अवधि के दौरान आपके पार्टनर के स्वभाव में कुछ बदलाव आ सकता है, और उनकी मांग भी बढ़ सकती है, जिससे आप दोनों के बीच में दूरियां आने की संभावना है। कुल मिलाकर यह गोचर आपके लिए मिलेजुले परिणाम लेकर आएगा।

इस दौरान विशेष रूप से विदेश में या अपने गृह नगर से बाहर उच्च शिक्षा की तलाश कर रहे छात्रों के लिए यह समय शुभ रहने वाला है, क्योंकि इस पारगमन के दौरान उन्हें शुभ समाचार मिलने की प्रबल संभावना है। वहीं स्वास्थ्य की दृष्टि से गोचर का यह समय अनुकूल रहेगा।

उपायः रविवार को व्रत रखें।


11. मकर राशि
इस समय सूर्य आपकी राशि से चतुर्थ भाव यानि माता व सुख भाव में रहेगा। ऐसे में यह गोचर आपके लिए मिश्रित परिणाम लेकर आएगा।

मां का स्वास्थ्य इस समय में आपकी चिंता की वजह और कारण बन सकता है। वहीं इस समय के दौरान आपके वरिष्ठ आप पर हावी होने का प्रयास करेंगे, जो आपकी समस्याओं को बढ़ाने का काम करेगा। जबकि आप में से कुछ को इस गोचर के दौरान अपनी पैतृक संपत्ति से मुनाफ़ा और लाभ भी मिल सकता है।

आपका जीवनसाथी इस अवधि के दौरान सामाजिक स्थिति और करियर में महत्वपूर्ण वृद्धि पा सकता है। घर से जुड़ा कोई भी मरम्मत या निर्माण का काम जितना हो सके अभी टालें, क्योंकि इससे आपके केवल खर्चे बढ़ेंगे और ऊर्जा का व्यय होगा।

हालाँकि, जैसा कि यह पाँचवें घर के स्वामी शुक्र के साथ स्थित है, जो बताता है कि इस अवधि के दौरान शोध, पीएचडी आदि में शामिल छात्रों को उनके करियर से जुड़ी कुछ अच्छी खबर मिलने की उम्मीद है। वहीं इस समय वाहन संभाल कर चलाएं, अन्यथा आप किसी एक्सीडेंट या गंभीर चोट का शिकार हो सकते हैं।

उपायः रोजाना सुबह के समय प्राणायाम करें।


11. कुम्भ राशि
इस समय सूर्य आपकी राशि से तीसरे यानि पराक्रम व छोटे भाई बहनों के भाव में गोचर करेंगे। यह समय आपके लिए नई उपलब्धियों और सफलता लेकर आने वाला साबित होगा। आप इस समय हद से अधिक आशावादी रहेंगे। लेकिन इस दौरान आपका आपके भाई-बहनों के साथ रिश्ता थोड़ा उतार-चढ़ाव भरा रहने वाला है।

अपने वरिष्ठों के सामने अपनी प्रतिभा को शानदार ढंग से प्रदर्शित करने में सफल रहेंगे, जिससे आपको अपने कार्यक्षेत्र पर अपने सीनियर्स से प्रशंसा और सराहना भी मिलेगी। इस दौरान आपको कोई भी डर या भय नहीं रहने वाला है। जिसके चलते आप कोई भी काम इस समय बेहद ही जोश और उत्साह के साथ करेंगे, जो आपको इस प्रक्रिया में लाभ और सफलता अर्जित करने में मददगार साबित होगा।

शादीशुदा जातको को इस दौरान अपने जीवनसाथी का भरपूर साथ मिलेगा। इसके अलावा यदि आप सिंगल हैं, तो इस गोचर के दौरान आपको अपने किसी दोस्त या फिर सोशल मीडिया की मदद से कोई ख़ास इंसान मिल सकता है।

उपायः ज़रूरतमंद लोगों को आवश्यक वस्तुओं का दान करें।

12. मीन राशि
सूर्य का यह गोचर आपके दूसरे घर यानि धन व वाणी भाव में होने वाल है। यह गोचर आपको औसत या मिश्रित परिणाम देने वाला साबित होगा।

इस समय अदालत के मामलों या कानूनी कार्यवाही के माध्यम से आपको धन या कुछ अन्य लाभ मिलने की कुछ संभावना है। अगर आपने कहीं निवेश इत्यादि किया है तो, इस गोचर अवधि के दौरान आपको वहां से भी कुछ लाभ मिल सकता है। वहीं आप में से कुछ जातकों को इस समय अपने पहले से उधार दिए गए धन को प्राप्त कर सकते हैं। वहीं विवाहित जातकों के लिए उनके जीवनसाथी का स्वास्थ्य उनके लिए परेशानी और चिंता की वजह बन सकता है।

ध्यान रखें इस समय उचित होगा कि आप कोई भी गलत राह, जल्दबाजी, या शार्टकट लेने से बचें। पेशेवर जीवन में यह अवधि महत्वपूर्ण लाभ की ओर इशारा करती दिख रही है।इस समय आपके कठोर या कड़वे शब्द आपके घर के वातावरण को इस समय ख़राब कर सकते हैं।

उपायः सूर्योदय के समय हर रोज "राम रक्षा स्तोत्र" का पाठ करें ।

Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned