scriptTulsi Mala Rules: क्या आपको पता है तुलसी की माला पहनने के नियम और फायदे | Tulsi mala benifits tulsi kanthi mala Rules Pahanane ke niyam kanthi tulsi mala pahanane ka labh know by shankrachary swami avimukteshwaranand | Patrika News
धर्म और अध्यात्म

Tulsi Mala Rules: क्या आपको पता है तुलसी की माला पहनने के नियम और फायदे

Tulsi Mala यानी कंठी माला हो या रुद्राक्ष माला सभी को धारण करने का हिंदू धर्म ग्रंथों में कुछ नियम बनाया गया है। यह धारण करने के बाद इनकी मर्यादाओं को भी निभाना पड़ता है, जिसे जानना चाहिए। इनके पालन से ही इसका लक्ष्य और संपूर्ण फल प्राप्त होता है। आप तुलसी माला धारण करने की इच्छा रखते हैं तो क्या आप जानते हैं तुलसी माला पहनने के नियम…

Jul 19, 2023 / 09:52 pm

Pravin Pandey

tulsi_mala.jpg

तुलसी माला पहनने के नियम

तुलसी माला पहनने के फायदे
Tulsi Mala पहनने के फायदे और कंठी माला पहनने के नियम हिंदू धर्म ग्रंथों में विस्तार से बताए गए हैं। इसी को लेकर बीते दिन ज्योतिर्मठ बद्रिकाश्रम के शंकराचार्य जगत गुरु स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने भक्तों को बताया। शंकराचार्य ने कहा कि तुलसी या रुद्राक्ष की माला गले में धारण करना बहुत ही पुण्यफलदायक है। इससे भक्त की भगवान विष्णु और शिव से प्रीति होती है।

पद्म पुराण पाताल खंड अध्याय सात नौ में कहा गया है कि भगवान की पूजा करने जा रहा भक्त तुलसी की लकड़ी में रुद्राक्ष के छोटे-छोटे मनके की तरह माला बनाकरर गले में धारण करके पूजा करता है तो उसकी पूजा को भगवान पसंद करते हैं। सामान्य रुप से पूजा, पितृ कार्य, देव कार्य करने से जो फल मिलता है, गले में तुलसी की माला धारण कर यह कर्म करने वाले को उससे कई गुना अधिक फल मिलता है। यह भी कहा जाता है कि इसके पहनने से सभी कष्टों से छुटकारा मिलता है। तुलसी माला पहनने का लाभ एक यह भी होता है कि इससे बुध और शुक्र ग्रह मजबूत होते हैं और मन शांत रहता है।
कंठी माला धारण करने के नियम
शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद का कहना है कि तुलसी की माला जिस दिन से लोग पहन लेते हैं, उस दिन से स्वयं को वैष्णव समझते हैं और सात्विक जीवन जीने की तरफ आगे बढ़ जाते हैं। इसलिए तुलसी माला का बड़ा महात्म्य है। वैसे तो तुलसी की माला भगवान विष्णु को अर्पित कर कभी भी पहनी जा सकती है। लेकिन किसी पवित्र गुरु के कर कमल से उसे धारण करते हैं तो यह अधिक कल्याणकारी है। हालांकि उनकी सीख है कि जो व्यक्ति कंठी माला पहनते हैं उन्हें कुछ नियमों का पालन करना चाहिए।
ये भी पढ़ेंः Ank Jyotish Today: मूलांक 2 के लोगों को आज धन लाभ, मूलांक 3 के लोगों को मिलेगा भाग्य का साथ

गले में कंठी माला हो तो क्या करें
1. गले में कंठी माला हो तो झूठ न बोलें।
2. धोखाधड़ी न करें, हिंसा न करें, अधर्म न करें।
3. शरीर और वाणी की शुद्धि बनाए रखें ।

4. सात्विक भोजन करें।
5. तुलसी की माला पहनने के बाद उतारना नहीं चाहिए और इस माला को पहनने से पहले गंगाजल से धोना चाहिए और धोकर पहनना चाहिए। रोज विष्णुजी का मंत्र जाप करना चाहिए।

6. शौच आदि करने जा रहे हैं तो तुलसी माला को अलग रख दें।
7. फिर हाथ पैर धोकर इसे धारण करें।


शिव की उपासना के लिए है जीवन
शंकराचार्य के अनुसार नित्य तुलसी माला धारण कर रखा है यानी कलावे की तरह बांधे हैं तो यह नहाते समय शरीर की तरह धुल जाता है। यह शरीर का अंग बन जाता है और उसी तरह शुद्ध भी होता रहता है। तुलसी की माला धारण करने के बाद अपने जीवन को भगवान विष्णु का मानना चाहिए कि आप भगवान विष्णु का दिया हुआ जीवन जी रहे हैं स्वाभाविक है भगवान विष्णु का दिया हुआ जीवन है भगवान शिव की उपासना के लिए है। वे सात्विक भाव बनाए रखने के लिए है, शास्त्रों की मर्यादा के हिसाब से चलने के लिए है।
https://www.dailymotion.com/embed/video/x8mmrbu

Hindi News/ Astrology and Spirituality / Religion and Spirituality / Tulsi Mala Rules: क्या आपको पता है तुलसी की माला पहनने के नियम और फायदे

ट्रेंडिंग वीडियो