शुरू हो चुका है भादो, इन नियमों का करें पालन, नहीं तो हो जाएंगे बर्बाद

Bhadrapada 2019 : भादो का महीना चातुर्मास के अंतर्गत आने के कारण कुछ नियमों का पालन करना बहुत ही जरूरी है।

By: Devendra Kashyap

Updated: 16 Aug 2019, 12:07 PM IST

हिन्दू पंचाग के अनुसार, भादो छठा महीना है। 16 अगस्त ( शुक्रवार ) से भादो की शुरुआत हो गई है। चातुर्मास का दूसरा महीना भादो है। इस महीना को भाद्र ( Bhadra ) या भादो ( Bhado ) के नाम से जाना जाता है।

ये भी पढ़ें- Bhadrapada 2019 : भादो में भूलकर भी ना करें इन चीजों का सेवन

आकाश में पूर्वा या उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र का योग बनने के कारण ही इस महीना को भाद्रपद ( Bhadrapada ) कहा जाता है। यह योग भादो पूर्णिमा के दिन बनता है। भादो का महीना चातुर्मास के अंतर्गत आने के कारण कुछ नियमों का पालन करना बहुत ही जरूरी है। आइये जानते हैं कि भादो महीने में किन-किन नियमों का पालन करना चाहिए....

भाद्रपद ( Bhadrapada 2019 ) में क्या खाएं...

  1. इस महीने में शरीर को शुद्ध रखने के लिए पंचगव्य का प्रयोग जरूर करें। पंचगव्य यानि दूध, दही, घी, गोमूत्र और गोबर का प्रयोग अवश्य करें।
  2. भादो महीना में दूध का प्रयोग अवश्य करें। माना जाता है संतान प्राप्ति या वंश की वृद्धि में दूध सहायक होता है।
  3. अगर आप भादों में पुण्य प्राप्त करना चाहते हैं तो दिन में एक समय ही भोदन करें।

भादो ( Bhado ) में इनका करें त्याग

  1. भादो महीना में गुड़ का प्रयोग बिलकुल ना करें।
  2. पुत्र प्राप्ति के लिए इस महीने में तेल का सेवन ना करें।
  3. अगर आप भाद्रपद में पुण्य की प्राप्ति करना चाहते हैं तो पलंग पर ना सोएं।
  4. इसके अलावा इस महीने में मांस-मदिरा, शहद, हरी सब्जी, बैंगन-मूली आदि का त्याग करें।
  5. यही नहीं, इस महीना में झूठ बोलना और सहवास, दोनों ही सख्त मना है।
Devendra Kashyap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned