scriptPradosh Vrat 2022: May Pradosh Fast Date, Katha, Significance | मई में किस दिन रखा जाएगा प्रदोष व्रत, साथ ही जानें शिव को समर्पित इस व्रत की कथा और महत्व | Patrika News

मई में किस दिन रखा जाएगा प्रदोष व्रत, साथ ही जानें शिव को समर्पित इस व्रत की कथा और महत्व

 

Pradosh Vrat May 2022: शास्त्रों के अनुसार मान्यता है कि जो व्यक्ति संपूर्ण श्रद्धा और नियम से भगवान भोलेनाथ के इस व्रत को करता है, शिवशंभु खुश होकर उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं।

नई दिल्ली

Updated: May 09, 2022 04:26:48 pm

Pradosh Fast 2022 Date, Story And Significance: हर महीने के शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है जो कि भगवान शिव को समर्पित होता है। मई के महीने में प्रदोष व्रत 13 मई 2022 को शुक्रवार के दिन रखा जाएगा। इस दिन भगवान भोलेनाथ की विधि-विधान से पूजा की जाती है। शास्त्रों के अनुसार मान्यता है कि जो व्यक्ति संपूर्ण श्रद्धा और नियम से भगवान भोलेनाथ के इस व्रत को करता है, शिवशंभु खुश होकर उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। अब आइए जानते हैं क्या है इस व्रत के पीछे की कहानी और महत्व...

pradosh vrat 2022, pradosh vrat 2022 katha, pujan, pradosh vrat may date, प्रदोष व्रत कथा, pradosh vrat may 2022, may me pradosh vrat kab hai, pradosh vrat puja vidhi, pradosh fast benefits, pradosh vrat ki kahani katha, pradosh vrat significance, vaishakh pradosh 2022,
मई में किस दिन रखा जाएगा प्रदोष व्रत, साथ ही जानें शिव को समर्पित इस व्रत की कथा और महत्व

प्रदोष व्रत कथा-
स्कंद पुराण के अनुसार, प्राचीन समय में एक विधवा ब्राह्मणी अपने पुत्र के साथ प्रतिदिन भिक्षा मांगने के लिए सुबह की निकलती और शाम को वापस लौट कर आती। रोजाना की तरह वह एक दिन जब दीक्षा लेकर लौट रही थी तो उसने नदी के पास एक बहुत ही सुंदर बालक को देखा। उस ब्राह्मणी को यह नहीं पता था कि वह धर्मगुप्त नामक बालक विधर्भ देश का राजकुमार था जिसके पिता को शत्रुओं ने युद्ध के दौरान मार डाला था और उनका राज्य भी हथिया लिया था। धर्मगुप्त की माता भी अपने पति यानी विधर्भ देश के राजा की मृत्यु के दुख में चल बसी थीं।

अकेले बालक की दशा देखकर उस विधवा ब्राह्मणी ने अपने बेटे की तरह ही धर्मगुप्त का भी पालन-पोषण किया। थोड़े दिनों के बाद वह ब्राह्मणी अपने पुत्र और धर्मगुप्त के साथ देव मंदिर गई जहां वह ऋषि शांडिल्य से मिली। ऋषि शांडिल्य अपने बुद्धि और विवेक के लिए चर्चित थे। तब ऋषि शांडिल्य ने ही विधवा ब्राह्मणी को धर्मगुप्त के माता-पिता की मृत्यु से जुड़ी कहानी बताई।

इसके बाद ऋषि शांडिल्य ने उस ब्राह्मणी और दोनों बच्चों को प्रदोष व्रत के बारे में विस्तार से समझाया।ऋषि शांडिल्य से संपूर्ण विधि-विधान को सुनने के बाद उस ब्राह्मणी और दोनों बच्चों ने व्रत संपन्न किया लेकिन उन्हें इस व्रत के फल के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। कुछ दिन बाद जब दोनों बालक वन में घूम रहे थे तब उन्होंने वहां बेहद खूबसूरत गंधर्व कन्याओं को देखा।

उन गंधर्व कन्याओं में से एक अंशुमती नाम की कन्या पर राजकुमार धर्मगुप्त का दिल आ गया और कुछ समय बाद अंशुमती और धर्मगुप्त एक दूसरे के प्यार में पड़ गए। तब अंशुमती ने शादी की इच्छा के कारण धर्मगुप्त को अपने पिता गंधर्वराज से मिलने के लिए बुलाया। इसके बाद जब अंशुमती के पिता को यह बात पता चली कि धर्मगुप्त विदर्भ देश का राजकुमार है तो उन्होंने भगवान भोलेनाथ की आज्ञा से उन दोनों की शादी करवा दी। शादी के बाद धर्मगुप्त ने दोबारा संघर्ष करके अपनी सेना बनाई और राज्य पर अपना आधिपत्य प्राप्त कर लिया।

कुछ समय के बाद धर्मगुप्त को ज्ञात हुआ कि उन्हें यह सब प्रदोष व्रत के फलस्वरूप ही मिला है। उनकी सच्ची श्रद्धा और व्रत से खुश होकर भगवान भोलेनाथ में उन्हें ये फल दिया। तब से यह मान्यता है कि जो कोई भी प्रदोष व्रत के दिन विधि-विधान से भोलेनाथ की पूजा करेगा। साथ ही ये कथा पढ़ेगा या सुनेगा, उसे अगले 100 वर्षों तक सुख-समृद्धि की प्राप्ति होगी।

प्रदोष व्रत का महत्व: माना जाता है कि प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव की सच्चे मन से पूजा करने और व्रत कथा पढ़ने से व्यक्ति को समृद्धि, प्रसिद्धि, शत्रुओं पर विजय और संतान सुख मिलता है। इस दिन भोलेनाथ पर सफेद चंदन, भांग, धतूरा, गाय का दूध और गंगाजल अर्पित करना शुभ होता है।
(डिस्क्लेमर: इस लेख में दी गई सूचनाएं सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। patrika.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ की सलाह लें।)

यह भी पढ़ें

बड़ा फलदायी होता है मोहिनी एकादशी व्रत, लेकिन इन नियमों के पालन से ही मिलता है पूजा का संपूर्ण फल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

भूस्खलन से हिमाचल में 100 से अधिक सड़कें ठप, चार दिन भारी बारिश का अलर्टबिहारः मंत्रियों में विभागों का बंटवारा, गृह मंत्रालय नीतीश के पास, तेजस्वी के पास 4 विभाग, तेज प्रताप का घटा कद, देखें Listएमपी में बाढ़, सात जिलों में पहुंची एनडीआरएफ, एसडीआरएफ टीमेंMaharashtra: खाने को लेकर कैटरिंग मैनेजर पर भड़के शिवसेना MLA संतोष बांगर, कर्मचारी को जड़ दिए थप्पड़कश्मीरी पंडित की हत्या मामले में सामने आई मनोज सिन्हा, महबूबा मुफ्ती व उमर अब्दुल्ला की प्रतिक्रिया, जानिए क्या कहाअब राजस्थान के अलवर जिले में बवाल, भारी पुलिस बल तैनात, बाजार पूरी तरह से बंदराजस्थान में दलित बच्चे की मौत का मामला: अब सामने आया जालोर MLA का बड़ा बयानबिहार कैबिनेट में अगड़ी जातियों का दबदबा खत्म, भूमिहार से 2 तो ब्राह्मण से मात्र 1 मंत्री, यादव से सबसे अधिक 8 मंत्री
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.