0MG: देवबंद दारुल उलूम के नाम से सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया फर्जी फतवा

Highlights

  • देवबंद दारुल उलूम के नाम से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे फतवे को देवबंद दारूल उलूम ने बताया फर्जी

By: shivmani tyagi

Published: 02 Mar 2020, 10:17 AM IST

देवबन्द: माहौल खराब करने की कोशिश में जुटे असामाजिक तत्व अब देवबंद दारुल उलूम ( deoband darul ullom ) जैसे पवित्र संस्थान के नाम का भी इस्तेमाल करने लगे हैं। असामाजिक तत्वों की इस विकृत मानसिकता का खुलासा हाल ही में सोशल मीडिया पर देवबंद दारुल उलूम के नाम से एक फर्जी फतवे को वायरल करने से हुआ है।

यह भी पढ़ें: हाेली काे देखते हुए रेलवे ने बहाल की 16 ट्रेन, आज से ट्रैक पर लाैटेंगी रद्द चल रही 16 ट्रेन

दरअसल पिछले कुछ दिनों से एक कथित फतवा सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें गैर जिम्मेदार और आपत्तिजनक बातें भी लिखी गई हैं। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस फतवे को देवबंद दारुल उलूम का फतवा बताया जा रहा है। जब इसकी पड़ताल की गई तो देवबंद दारूल उलूम ने इस फतवे को फर्जी करार दिया। फतवा विभाग के जिम्मेदार असरफ उस्मानी का कहना है कि जिस नाम से यह फतवा जारी हुआ है उस नाम का कोई भी उस्ताद देवबंद दारुल उलूम में नहीं है। यानी साफ है कि, देवबंद दारूल उलूम के फतवा विभाग ने भी इस फतवे को किसी शरारती व्यक्ति की शरारत करार दिया है।

जानिए क्या है पूरा

मामला दरअसल 29 फरवरी को एक मौलाना ( Deoband Ulema )
ने अपने फेसबुक पोस्ट में एक कथित फतवे को शेयर किया और बताया कि यह फतवा देवबंद दारुल उलूम से जारी किया गया है। सोशल मीडिया पर तेजी से यह फतवा वायरल होने लगा लेकिन अब जब इसकी पड़ताल की गई तो देवबंद दारुल उलूम ने इसे सिरे से खारिज करते हुए शरारती तत्वों की शरारत करार दिया है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned