script10 thousand families will be evicted from the forest in Singrauli | सिंगरौली में आदिवासियों के लिए सामत, जंगल से बेदखल होंगे 10 हजार परिवार | Patrika News

सिंगरौली में आदिवासियों के लिए सामत, जंगल से बेदखल होंगे 10 हजार परिवार

कोयला खनन: तीन नए कोल ब्लॉक के लिए 14 हजार एकड़ जमीन का होगा अधिग्रहण

 

सतना

Published: November 27, 2021 01:09:57 am

सिंगरौली. जिले के 10 हजार आदिवासी परिवार जंगल से बेदखल होंगे। सरकार ने तीन कोल ब्लॉक में कोयला खनन की मंजूरी दे दी है। इसके तहत सरई तहसील की 14 हजार एकड़ जमीन के अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इससे जंगल में सालों से काबिज आदिवासियों को घर के साथ जमीन भी छोडऩी पड़ेगी। विस्थापित परिवारों के लिए कॉलोनी बनाने के दावे किए जा रहे हैं लेकिन यह साफ नहीं किया गया है कि उन आदिवासी परिवारों का क्या होगा, जिनके पास जमीन और घर के किसी तरह के कागजात नहीं हैं।
Singrauli news
Singrauli news
अब तक नहीं मिल पाया है ठिकाना
सिंगरौली रीजन में कोयला खदानों के कारण पहले से ही बड़ी संख्या में विस्थापित आदिवासी परिवारों को अब तक ठिकाना नहीं मिल पाया है। कई परिवार मुड़वानी और मुहेर जैसे प्रदूषित और खतरनाक जगहों पर रहने को मजबूर हैं। अब ओपन कास्ट माइनिंग(खुली खदानें)के लिए सरई तहसील के जिस कोयला धारित क्षेत्र का चयन किया गया है, वहां 80 प्रतिशत वन क्षेत्र है। इसलिए आदिवासी परिवारों का अनुपात भी अधिक है। इनके बेदखली की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और कागजात मांगे जा रहे हैं। सभी से वादा यही है कि पक्के मकान दिए जाएंगे, लेकिन उनके कब्जे की वनभूमि के बदले क्या मिलेगा, इस बारे में नहीं बताया गया है। तीन कोल ब्लॉक सुलियरी, बंधा और धिरौली की साढ़े पांच हजार हैक्टेयर यानी की 14 हजार एकड़ भूमि पर कोयला खनन की तैयारी चल रही है, जहां रह रहे परिवारों को विस्थापित किया जाना है। लेकिन अधिकतर आदिवासी परिवारों को इसके बारे में ज्यादा नहीं पता है। साधन, सुविधा के साथ ही जागरूकता की कमी से जिला मुख्यालय में हुई जनसुनवाई में आदिवासियों का प्रतिनिधित्व न के बराबर ही रहा।
20 हजार परिवारों पर असर
प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार सुलियरी, बंधा और धरौली में लगने वाली कोयला खदान से इस इलाके के करीब आधा सैकड़ा गांव व मजरा टोले में निवास करने वाले 17 हजार से अधिक परिवार प्रभावित होंगे। लेकिन वास्तविक संख्या इससे कहीं अधिक है। अनुमान 20 हजार से अधिक परिवारों के प्रभावित होने का है। जिन्हें विस्थापित होना पड़ेगा। इन क्षेत्रों में आदिवासी परिवारों की बहुतायत होने के कारण प्रभावित आदिवासियों की संख्या 10 हजार तक बताई जा रही है।
बदल जाएगा जीवन चक्र
धिरौली कोल ब्लॉक से प्रभावित होने वाले तेजबली पनिका ने कहा कि यह केवल घर खाली कराने का मामला नहीं है। बल्कि आदिवासी परिवारों का पूरा जीवनचक्र ही ठहर जाएगा। हम सब पीढिय़ों से जंगल पर आश्रित हैं, यही हमारी रोजी-रोटी है। इस धरती पर पूर्वजों की राख बिखरी है। धिरौली के गिरजा प्रसाद कहते हैं जंगल नहीं बल्कि हमारी पूरी संस्कृति यहीं बसती है। खाली करना पड़ा तो कहां जाएंगे। तेजबली व गिरजा प्रसाद ने बताया कि पुनर्वास व विस्थापन को लेकर कलेक्टे्रट में लगी जनसुनवाई में यह बात रखी है, लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं है।
सुलियरी में नए साल से खनन
बताया गया है कि इस इलाके के तीन कोल ब्लॉकों में लगने वाली कोयला खदानों में दो पर अडानी ग्रुप की कंपनी काम कर रही है। इनमें आंध्रप्रदेश मिनरल डेवलपमेंट कार्पोरेशन को आवंटित सुलियरी कोल ब्लॉक भी शामिल है। कंपनी ने आंध्रप्रदेश सरकार के इस उपक्रम से ब्लॉक विकसित कर कोयला उत्पादन करने का अनुबंध किया है। नए साल से इस ब्लॉक से कोयला खनन शुरू हो जाएगा। जबकि धिरौली ब्लॉक अडानी ग्रुप की कंपनी स्ट्राटेक मिनरल्स को आवंटित किया गया है, उस पर काम चल रहा है।
इन कोल ब्लॉक में लगेंगी खदानें
कंपनी नाम ब्लॉक आवंटित जमीन अनुमानित प्रभावित
एपीएमडीसी सुलियरी 1297 हैक्टेयर 8000
ईएमआइएल माइंस बंधा 1600 5000
स्ट्राटेक मिनरल्स धिरौली 2672 4000

भू-अधिग्रहण के निर्धारित नियम में ऐसे रहवासियों के लिए भी प्रावधान हैं, जिनके पास दस्तावेज नहीं हैं। उनका पालन किया जाएगा। बाकी कोई विशेष परिस्थिति आती है तो उनके लिए विचार किया जाएगा और निर्णय लिए जाएंगें।
राजीव रंजन मीना, कलेक्टर सिंगरौली

विस्थापित बैगा बस्ती में बिजली न पानी
एनसीएल के कोयला खदान की वजह से 40 साल पहले विस्थापित हुए मुड़वानी के बैगा आदिवासियों का अब तक पुनर्वास नहीं हो पाया है। मुड़वानी में ऐसी जगह रह रहे हैं जहां तीन तरह का खतरा है। सामने कोयला की गहरी खदान है और बगल में डैम जिसमें कोयला का प्रदूषित जल जमा होता है। तीसरे छोर पर ओवर बर्डन से बना धूल और मिट्टी का पहाड़ है। जिसके कटाव और पानी के रिसाव से हमेशा दबने का खतरा बना रहता है। बैगा बस्ती के पांच किलोमीटर के दायरे में 10 हजार मेगावॉट के चार पॉवर प्लांट हैं इसके बाद भी इस बस्ती तक बिजली नहीं पहुंची है। जिला मुख्यालय से महज 15 किलोमीटर दूर बसे होने के बाद भी पीने के साफ पानी और सफाई का प्रबंध नहीं किया जा सका है। समाज और सिस्टम से कटे यहां की बैगा जनजाति के आय का स्रोत बकरीपालन है। उसी से उनकी जिंदगी चलती है। ऐसी ही स्थिति मुहेर कोयला खनन क्षेत्र के विस्थापित आदिवासी परिवारों का भी है जो ओवर बर्डन के पहाड़ के नीचे जिंदगी गुजार रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहfoods For Immunity: इम्युनिटी को बूस्ट करने के लिए डाइट में शामिल करें इन फूड्स कोरामगढ़ पचवारा में बरसे टिकैत, कहा किसानों की जमीन को छीनने नहीं दिया जाएगाप्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में रेत का अवैध परिवहन जारी, सरकार को करोड़ों का नुकसान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.