scriptगर्मी के बीच सुकून देने के लिए ‘हरियाली’ की तैयारी | Patrika News
सवाई माधोपुर

गर्मी के बीच सुकून देने के लिए ‘हरियाली’ की तैयारी

फैक्ट फाइल…-जिले के लिए तैयार किए जा रहे पौधों की संख्या-9 लाख 51 हजार-प्रत्येक पौधे की दर-5 रुपए से लेकर 80 रुपए। इनका कहना है…लक्ष्य के अनुसार विभाग ने पौधे तैयार करने की तैयारी शुरू कर दी है। जिले में इस बार 9 लाख 51 हजार पौधे तैयार करने का लक्ष्य रखा है। आलनपुर स्थित […]

सवाई माधोपुरJun 02, 2024 / 11:44 am

Subhash Mishra

सवाईमाधोपुर.आलनपुर स्थित वन विभाग की पौधशाला में तैयार की जा रही पौध।

  • बारिश में हरियाली से महकेगी बगिया
  • जिले की नौ पौध नर्सरियों में तैयार की जा रही है विभिन्न प्रजातियों की पौध
    सवाईमाधोपुर. इन दिनों लोग चाहे 45 डिग्री तापमान में तन झुलसाने वाली गर्मी से बेचैन हो रहे हो लेकिन आने वाले दिनों में हरियाली का सुकून देने की वन विभाग तैयारी कर रहा है। क्षेत्र में हरियाली विकसित करने के लिए वन विभाग को इस बार 9 लाख 51 हजार पौधे तैयार करने का लक्ष्य मिला है। झुलसाने वाली गर्मी के बीच विभाग ने इस लक्ष्य की तैयारी शुरू कर दी है। ये पौधे बारिश के मौसम की शुरुआत के साथ ही वितरित किए जाएंगे। वर्तमान में आलनपुर रोड स्थित वनविभाग की नर्सरी(पौधशाला) में लोगों की मांग के अनुसार फल, फूल व छायादार पौधे तैयार किए जा रहे है।
    वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार आलनपुर स्थित पौधशाला में वित्तीय वर्ष 2024-25 में 2 लाख 12 हजार पौध वितरण का लक्ष्य रखा गया है,जबकि वित्तीय वर्ष 2023-24 का पुराना स्टॉक 1 लाख 78 हजार 82 पौध भी शेष है। ऐसे में जिले में कुल 3 लाख 90 हजार 82 पौधे तैयार किए जा रहे है। नर्सरी में श्रमिक अलग-अलग वैरायटी के पौधे तैयार करने में जुटे हैं
    गर्मी में संभाल करना मुश्किल
    इन दिनों तेज गर्मी के बीच पौध तैयार करना और उसकी संभाल कर पाना मुश्किल भरा काम है। इसके लिए अनुभवी बागवानों की ओर से क्यारियों में छायादार व फलदार पौधों को गंधक.तेजाब के प्रयोग से पनपाया जा रहा है। समय-समय पर पानी देकर उनको न केवल जिंदा रखते हैं बल्कि उनको विकसित करने का वातावरण बनाते हैं। पौधशाला में कुल डेढ़ दर्जन से अधिक कर्मचारी पौध तैयार करने में जुटे है।
    इन किस्मों के पौधे हो रहे तैयार
  • वन विभाग के अनुसार पौधशाला में विभिन्न प्रजातियों के 56 प्रकार के पौधे उपलब्ध है। फलों में अमरूद, नींबू, जामुन, बिल्बपत्र, अनार, आंवला, कटहल, शहतूत,छायादार में नीम, जंगली बबूल, शीशम, करंज, पीपल, बरगद, गुलमोहर अशोक, चुरैली एवं फूलों में कनेर, चांदनी, बोगनवेल, रातरानी,गुलाब, मोगरा, चंपा आदि पौधे तैयार किए जा रहे हैं। नर्सरी क्यारियों में भी कुछ पौधे बिकने को रखे भी हैं। वन विभाग के अनुसार नर्सरी में 5 रुपए से लेकर 80 रुपए तक पौधे उपलब्ध है।
    बंदरों से बचेगी पौध
    वन विभाग ने नर्सरी में पौधों को बंदरों के उत्पात से बचाने के लिए जालीदार हाइटेक तैयार की है। इसमें बंदरों से पौधों की सुरक्षा हो सकेगी। वन विभाग के अनुसार नर्सरी में बंदरों का आतंक है। दिनभर बंदर पौधों को नुकसान पहुंचाते हैं। फलों व फूलों को नष्ट कर देते हैं।
फैक्ट फाइल…
-जिले के लिए तैयार किए जा रहे पौधों की संख्या-9 लाख 51 हजार
-प्रत्येक पौधे की दर-5 रुपए से लेकर 80 रुपए।
  • जिले में वन विभाग की संचालिक कुल नर्सरियां-9
    -एक जुलाई से शुरू होगा सभी पौधों का वितरण।
    -6 माह के पौधों की दर-9 रुपए
    -12 माह के पौधों की दर-15 रुपए
इनका कहना है…
लक्ष्य के अनुसार विभाग ने पौधे तैयार करने की तैयारी शुरू कर दी है। जिले में इस बार 9 लाख 51 हजार पौधे तैयार करने का लक्ष्य रखा है। आलनपुर स्थित पौधशाला में विभिन्न प्रजापतियों के 56 प्रकार के पौध तैयार किए जा रहे है। एक जुलाई से सभी पौधों का वितरण शुरू किया जाएगा।
श्रवण कुमार रेड्््डी, डीएफओ, सामाजिक वानिकी(वन विभाग)सवाईमाधोपुर

Hindi News/ Sawai Madhopur / गर्मी के बीच सुकून देने के लिए ‘हरियाली’ की तैयारी

ट्रेंडिंग वीडियो