scriptGOOD NEWS: Lithium battery industry will be set up in Seoni from 1200 | GOOD NEWS: 1200 करोड़ से सिवनी में लगेगा लिथियम बैटरी उद्योग | Patrika News

GOOD NEWS: 1200 करोड़ से सिवनी में लगेगा लिथियम बैटरी उद्योग

दुनिया में लिथियम बैटरी बनाने में चीन की दबदबा कायम, अब मध्य प्रदेश की धरती से होगा लिथियम बैटरी का उत्पादन। केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री महेंद्र पांडेय ने उद्योग को दी हरी झंडी।

सिवनी

Published: August 14, 2021 11:46:28 am

सिवनी. मध्य प्रदेश के सिवनी में 1200 करोड़ रुपए की लागत से लीथियम बैटरी निर्माण उद्योग स्थापित होने जा रहा है। यह देश में पहला ऐसा उद्योग होगा जहां लीथियम बैटरी का निर्माण होगा। केंद्र सरकार के भारी उद्योग मंत्री महेंद्र पांडेय ने इस उद्योग को हरी झंडी दे दी है।

lithium_ion.jpg

Must See: वैक्सीनेशन में रिकॉर्ड बनाने के बाद अब 100% लोगों को टीके का पहला डोज

लीथियम बैटरी निर्माण के क्षेत्र में चीन का दबदबा है। चीन में 70 फीसदी लीथियम बैटरी का निर्माण होता है। शेष तीस फीसदी लीथधियम बैटरी का निर्माण जापान, अजेंटीना, आस्ट्रेलिया समेत अमरीका में होता है। फिलहाल भारत में इन देशों से बैटरी का आयात किया जाता है। मोबाइल फोन, टीवी, रिमोर्ट लैपटॉप समेत इलेक्ट्रिक वाहनों में लीथियम बैटरी का उपयोग किया जाता है। जानकारों के मुताबिक इसका निर्माण भारत में शुरू होने से कीमतें भी खासी कम होंगी। ये तकरीबन आधी हो जाएंगी।

Must See: प्रदेश में 4 हजार किमी सड़कें हुई छलनी, लोग परेशान

बालाघाट सिवनी के सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन ने बैटरी उद्योग के क्षेत्र में काम करने वाले विजय नंदन के साथ मंत्री महेंद्र पांडेय से मुलाकात की। मालूम हो कि केंद्र सरकार ने देशभर में दस प्रोजेक्ट लगाने की कार्ययोजना बनाई है। पहला प्रोजेक्ट सिवनी में स्थापित किया जाना है।

Must See : प्रदेश का ऐसा पहला जिला जहां पहला डोज सौ फीसदी लोगों को लगा

पीएलआई योजना से होगी उद्योग की स्थापना
सांसद डॉ. विसेन व बैटरी उद्योग के क्षेत्र में कार्य करने वाले नंदन की मानें तो भारत सरकार देश में आयात कम करने और स्थानीय स्तर पर रोजगार के मौके बनाने के लिए प्रोडक्शन लिंक इंसेंटिव स्कीम (PLI) शुरू की है। उक्त उद्योग के शुरू होने से लिथियम से बनी बैटरी के मूल्य आधे से भी कम हो जाएंगे है। इससे तेजी से रोजगार के क्षेत्र में विकास होगा। भारत सरकार लिथियम बैटरी के क्षेत्र में उद्योग स्थापित करने के लिए करीब 18100 करोड़ रुपए की कार्ययोजना बनाई है।

Must See: गंदे पानी को फिर उपयोग लायक बनाया, इसलिए देश में इंदौर नम्बर 1

कर्नाटक में मिला है लीथियम
कर्नाटक के मंड्या जिले के मार्लागाला-अल्लापटना में लीथियम का स्रोत मिला है। वहां पर करीब 1600 टन लिथियम अयस्क मौजूद है। भारत सरकार ने वर्ष 2020 में लिथियम के स्रोत मिलने की पुष्टि की। इसके अलावा हिमाचल प्रदेश, मध्यप्रदेश, बिहार, मेघालय, छत्तीसगढ़, झारखंड, ओडिशा, केरल और राजस्थान के कुछ स्थानों पर लिथियम की खोज की जा रही है। फिलहाल चीन, बोलिविया, अर्जेंटीना, चिली, अमेरिका, आस्ट्रेलिया आदि देशों में ही दुर्लभ माने जाने खनिज लीथियम के स्रोत है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोRepublic Day 2022 LIVE :गणतंत्र दिवस की पूर्व संख्या पर जवानों की बहादुरी को सलाम, ITBP के 18 जवानों को पुलिस सेवा पदकBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीUP Assembly Elections 2022 : हेमा, जया, स्मृति और राजबब्बर रिझाएंगें मतदाताओं को, स्टार प्रचारकों की लिस्ट में हैं शामिलस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाUttar Pradesh Assembly Elections 2022: सपा का महा गठबंधन अखिलेश के लिए बड़ी चुनौतीबजट से पहले 1 फरवरी को बुलाई गई विधायक दल की बैठक, यह है अहम कारण
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.