जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में

जिला प्रशासन ने कराया जिले के 1789 ग्राम का सर्वे

By: mantosh singh

Updated: 13 Apr 2020, 01:47 PM IST

सिवनी. कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए जिला प्रशासन ने पूरी ताकत झोक दी हैं। नतीजा सिवनी से लगे महाराष्ट्र के नागपुर्र के अलावा जबलपुर व छिंदवाड़ा जिले में संक्रमित मरीज होने के बावजूद सिवनी अब तक इससे अछूता है।

जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में

जिला प्रशासन ने उक्त जिले की सीमाओं को पूरी तरह से सील कर दिया है। उक्त जिले से सिवनी में प्रवेश करना अब आसान नहीं है। इसकी पुष्टि कलेक्टर प्रवीण सिंह ने की है।

जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में

कलेक्टर सिंह की माने तो जिले में अब तक एक भी कोरोना पॉजिटिव मरीज नहीं है। प्रतिदिन संदिग्ध मरीजों के सेम्पल भेजे जाते हैं। दूसरे दिन उसकी रिपोर्ट आती है।

जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में

अब तक भेजे गए सभी सेम्पल के रिपोर्ट निगेटिव हैं। जिले में विदेश व बाहर से यात्रा कर लौटे नागरिकों के साथ ही मजदूरों के आने के क्रम पर अब विराम लग गया हैं।

जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में

कलेक्टर ने बताया कि संक्रमित जिले से आए लोगों को ध्यान में रखकर जिले के १७७८९ ग्राम का सर्र्वे कराया गया है।

जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में

इसे चार जोन में बांटा गया हैं। रेड, औरेंज, येलो और ग्रीन जोन। प्रशासन द्वारा कराए गए सर्वे पर गौर करें तो जिले कके १७८ ग्राम रेड जोन में हैं। ३४२ औरेंज और ९४४ येलो जोन में हैं।

जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में

३२५ ग्राम ग्रीन जोन में हैं, जो पूरी तरह से सुरक्षित है।
सर्वे के आकड़ों पर गौर करें तो सबसे अधिक सिवनी विकासखंड के ५२ ग्राम रेड जोन में हैं।

जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में

इसके बाद लखनादौन 35, केवलारी 22, बरघाट 17, छपारा15, कुरई 14, धनौरा 13 व सबसे कम घंसौर विकासखंड के 10 ग्राम रोड जोन की सूची में हैं।

जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में

रेड जोन में उन ग्राम को रखा गया है, जहां मध्यप्रदेश इंदौैर, भोपाल, जबलपुर व छिंदवाड़ा तथा देश के अन्य संक्रमित जिले तथा अमेरिका आदि देशों से आए लोग शामिल है। इसके बाद कम संक्रमित जिले से आए लोगों को अलग-अलग क्रमवार जोन बनाकर रखा गया है।

जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में

जिला प्रशासन ने सभी जोन को ध्यान में रखकर विकासखंड वार मैपिंग तैयार किया है। उसमें प्रभावित ग्राम को जोनवार बांटे गए कलर में शामिल किया है। प्रशासन के इस सर्वे के बाद जिले के सभी नागरिकों को यह ज्ञात हो जाएगा कि कौन सा गांव सबसे अधिक प्रभावित हैै और कम। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को लेकर जिले में जानकारी के इच्छुक नागरिकों को भी इससे सहुलितय मिलेगी।

नागरिक बोले, कलेक्टर की प्लानिंग सराहनीय
सिवनी की सीमा से लगे तीन जिले में कोरोना वायरस संक्रमित मरीज मिलने के बाद उक्त जिले की सीमाओं को सील कर कलेक्टर प्रवीण सिंह ने जिस तरह से चौकसी दिखाई हैं। वह काबिले तारिफ हैै। इसको लेकर जिले के नागरिकों ने कलेक्टर की प्लानिंग को सराहा है। नागरिकों का कहना है कि अब तक सिवनी ेमें कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों के नहीं मिलना का सबसे बड़ा कारण जिला प्रशासन द्वारा तत्काल की जा रही कार्रवाई प्रमुख है।

जिले के 178 ग्राम रेड व 325 ग्रीन जोन में
mantosh singh Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned