VIDEO : नीमकाथाना में मजदूर दबने का मामला, लोहे की प्लेटों से दिया जा रहा है मकान को स्पोर्ट, 24 घंटे बाद भी नहीं मिला मजदूर का शव

रातभर से जारी रेस्क्यू ऑपरेशन के कारण बगल में बना मकान गिरने की आशंका से प्रशासन ने रेलवे ट्रैक बनाने वाली कंपनी एलएनटी को बुलाया है।

By: vishwanath saini

Published: 10 Feb 2018, 05:47 PM IST

सीकर.

नीमकाथाना में शुक्रवार शाम करीब 5 बजे कुई खोदते समय दबे मजदूर को निकालने में प्रशासन को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। 24 घंटे बीत जाने के बाद भी मजदूर के शव को बाहर नहीं निकाला जा सका। खुदाई करने के दौरान प्रशासन के सामने कई समस्याएं सामने आ रही है। रातभर से जारी रेस्क्यू ऑपरेशन के कारण बगल में बना मकान गिरने की आशंका से प्रशासन ने रेलवे अधिकारियों से बातकर रेलवे ट्रैक बनाने वाली कंपनी एलएनटी को बुलाया है। रेलवे कर्मचारी मकान को स्पोर्ट देने के लिए मकान के लोहे की प्लेटे लगा रहे है। खुदाई कार्य में तीन जेसीबी मशीन और दो एलएनटी मशीनों को लगाया है। लेकिन मजदूर के शव को अभी तक बाहर नहीं निकाला जा सका है।

प्रशासन के अधिकारियों का कहना है कि राहत और बचाव का कार्य लगातार जारी है। मकान गिरने की आशंका के चलते बचाव कार्य को कुछ देर तक रोक गया। रेलवे कर्मचारी मौके पर पहुंचे है और मकान को स्पोर्ट देने के लिए लोहे की प्लोटों को वेल्डिंग के द्वारा जोड़ा जा रहा है। बचाव कार्य फिर से शुरू कर दिया है। जल्द ही मजदूर के शव को बाहर निकाल लिया जाएगा।

आपको बता दें, शुक्रवार शाम 5 बजे के करीब वार्ड 12 हीरानगर के एक मकान में शौचालय की कुई खोदने के दौरान कुई धंस गई। इस दौरान काम कर रहा मजदूर भी इसकी चपेट में आ गया और मिट्टी में दब गया। साथी मजदूर ने बचाने का प्रयास भी किया लेकिन वह सफल नहीं हो सका। जिसके बाद प्रशासन को इसकी सूचना दी गई। जिस पर प्रशासन दो जेसीबी के साथ मौके पर पहुंचा और कुई के पास मिट्टी खुदाई का काम शुरू करवाया।

ऐसे चला पूरा घटनाक्रम
-जानकारी के अनुसार वार्ड 12 हीरानगर में इन्द्रसिंह के मकान में शौचालय की कुई खुदाई की जा रही थी।
-मजदूर मालाली निवासी पवन शर्मा व बरसिंहका बास निवासी जयचंद सैनी कुई खोद रहे थे।
-जयचंद नीचे खुदाई कर रहा था तथा पवन बाहर मिट्टी खींच रहा था।
-करीब 26 फीट कुई की खुदाई कर ली थी। इस दौरान पास में स्थित शौचालय की कुई का पानी व मलबा इनकी कुई में आ गया।
-जयचंद के चिल्लाने पर पवन ने परिजनों की सहायता से कुई में उतर कर जयचंद को बचाने का प्रयास किया, लेकिन पानी व मलबा ज्यादा होने के कारण वह जयचंद को बचा नहीं सका।
-सूचना पर उपखण्ड अधिकारी जगदीश गौड़, तहसीलदार सरदारसिंह गिल, नगरपालिका जेईएन मनीष सिंह, माइनिंग अधिकारी अनिल गुप्ता सहित अन्य अधिकारी व जनप्रतिनिधि मौके पर पहुंचे तथा दो जेसीबी मंगवा कर कुई के पास मिट्टी खुदाई चालू करवाई।

26 साल से कर रहा था कुई खुदाई का काम
जानकारी के अनुसार जयचंद 26 से शौचालयों की कुई खुदाई का काम कर रहा था। उसके चार बेटे व तीन बेटियां है। बेटियों की शादी कर दी।

vishwanath saini Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned