scriptआधा सैकड़ा से अधिक बहनों के खाते में नहीं आया लाड़ली बहना का पैसा, महिलाओं ने किया हंगामा | Patrika News
खास खबर

आधा सैकड़ा से अधिक बहनों के खाते में नहीं आया लाड़ली बहना का पैसा, महिलाओं ने किया हंगामा

– सिलाई सेंटर संचालक ने परीक्षा दिलाने के नाम पर महिलाओं से हस्ताक्षर कराए, अंगूठा लगवाया और फिनो बैंक में खोल दिए खाते, पैसा उसी खाते में पहुंचा
– सिलेंडर की सब्सिडी और महिलाओं के स्वयं के जमा कराए पैसे भी दूसरे खाते में पहुंचे

मोरेनाJun 15, 2024 / 02:11 pm

Ashok Sharma

https://videopress.com/v/LrYmAqte?resizeToParent=true&cover=true&preloadContent=metadata&useAverageColor=true
मुरैना. शहर की आधा सैकड़ा महिलाओं के खाते में लाड़ली बहना के 1250 रुपए नहीं आने पर हंगामा किया। और कहा कि सिलाई सेंंटर संचालक ने परीक्षा के नाम पर फॉर्म भरवाए और फिनो बैंक में खाते खोल दिए, हमारा पैसा पूर्व के खाते में न पहुंचकर फिनो बैंक में पहुंच गया।
शहर के गोपाल पुरा स्थित दीक्षित गली के एक निजी स्कूल में सिलाई सेंटर संचालित था। उस सेंटर पर शहर की महिलाएं सिलाई सीखने जाती थी। सेंटर संचालक ने परीक्षा दिलाने के नाम पर महिलाओं के फॉर्म भरवाकर फिनो बैंक में खाते खुलवा लिए और महिलाओं का पैसा उन्हीं खातों में पहुंच गया। जिससे महिलाओं को पैसा नहीं मिला। महिलाएं जब कियोस्क सेंटर पर पैसे निकालने पहुंची तो वहां से पता चला कि उनका लाड़ली बहना का पैसा उनके खाते में नहीं आया है बल्कि फिनो बैंक के खोले गए खाते में पहुंच गया है। जब महिलाओं ने सिलाई सेंटर पर पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई तो वहां कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। उसके बाद महिलाओं ने हंगामा कर दिया। कुछ महिलाओं की गैस सिलेंडर की सब्सिडी भी उनके खाते में न आकर फिनो बैंक में खोले गए नए खाते में पहुंच गई। खास बात यह है कि फिनो बैंक में खाते खुल गए, उनकी न तो महिलाओं को कोई जानकारी हैं और उनके पास एकाउंट नंबर है। महिलाओं के विरोध करने पर कुछ महिलाएं के पैसे सेंटर संचालक द्वारा निकवा दिए गए।
महिलाओं ने घेरा थाना, पुलिस जांच में जुटी
महिलाओं को लाड़ली बहना का पैसा नहीं मिलने पर उन्होंने पहले सिलाई सेंटर संचालक से शिकायत की, उसके द्वारा सुनवाई न की तो महिलाओं ने सिटी कोतवाली थाने का घेराव कर दिया। पुलिस ने मामले में जांच का आश्वासन दिया, तब महिला थाने से घर वापस गई हैं।
क्या कहती हैं महिलाएं
  • हमको पता ही नहीं चला, हमारा खाता खोल लिया हैं, 1250 रुपए लाड़ली बहना के पैसे उसी खाते में चले गए।
    नीता दौनेरिया
  • सेंंटर पर सिलाई सिखाने के लिए फॉर्म भरवाए गए थे। हमारा खाता किसी अन्य बैंक में खोल दिया। उसमें लाड़ली बहना का पैसा पहुंच गया।
    दीपा
  • मैंने अपने खाते को चेक करवाया तो बताया कि पांच तारीख को लाड़ली बहना का पैसा आया था लेकिन मेरे खाते न आकर फिनो बैंक के खाते में पहुंच गया है।
    मनीषा जौहरी
  • सिलाई परीक्षा के लिए फॉर्म भरवाने के नाम पर 500 रुपए लिए। चोरी छिपे खाता खोल लिया और उसी में पैसा पहुंचा है।
    टीना प्रजापति
    कथन
  • मेरे स्कूल में शैलेन्द्र सिकरवार किराए पर सिलाई सेंटर चलाता है। उसी ने महिलाओं के फॉर्म भरवाए थे। कुछ महिलाओं के पैसे दिलवा दिए हैं।
    अनिल दीक्षित, मकान मालिक
  • जिन महिलाओं के लाड़ली बहना के पैसे नहीं मिले हैं, गंभीर मामला है, उनसे कहो, शिकायत आवदेन कार्यालय में पहुंचा दें, हम कार्रवाई करेंगे।
    सी बी प्रसाद, अपर कलेक्टर

Hindi News/ Special / आधा सैकड़ा से अधिक बहनों के खाते में नहीं आया लाड़ली बहना का पैसा, महिलाओं ने किया हंगामा

ट्रेंडिंग वीडियो