scriptCommonwealth Games 2022 dutee chand hold LGBTQIA flag know everything about her | दुती चंद ने कॉमनवेल्थ गेम्स में थामा LGBTQIA+ का झंडा, कभी पुरुष होने का लगा था आरोप | Patrika News

दुती चंद ने कॉमनवेल्थ गेम्स में थामा LGBTQIA+ का झंडा, कभी पुरुष होने का लगा था आरोप

CWG 2022: दुती ने अपने संघर्ष के बारे में बात करते हुए एक बार कहा था कि उनके परिवार ने गरीबी की वजह काफी कुछ झेला है। इस कारण उनके भाई-बहनों की पढ़ाई नहीं हो पा रही थी, लेकिन उनके खेल में आने के बाद काफी कुछ बदला है।

नई दिल्ली

Updated: July 31, 2022 06:06:37 pm

Commonwealth Games 2022 dutee chand: बर्मिंघम में खेले जा रहे कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में भारतीय महिला एथलीट दुती चंद LGBTQIA+ का झंडा उठाती नज़र आई। फर्राटा धाविका दुती चंद कॉमनवेल्थ गेम्स में 4x100 मीटर रिले में हिस्सा लेंगी। समलैंगिक लोगों के प्रति घृणा की निंदा करते हुए दुती चंद ने कहा कि ‘एलजीबीटी’ लोगों को बिना किसी उत्पीड़न के भय के जीने देना चाहिए। दुती देश की पहली खिलाड़ी हैं, जिन्होंने खुले तौर पर समलैंगिक होने की बात स्वीकार की है।

dutee.png

दुती को समलैंगिक होने की बात स्वीकार करने के बाद कई तरह की आलोचना और परिवार के बुरे वरताव का सामना करना पड़ा है। दुती ने कहा कि एलजीबीटी खिलाड़ियों को सुरक्षित और सहज महसूस कराया जाना चाहिए, उन्हें उत्पीड़न या मौत का कोई भय नहीं होना चाहिए, उन्हें सामान्य रहने देना चाहिए। दुती गरीब परिवार से निकली एक महिला एथलीट, जिस पर पुरुष होने का आरोप लगा था जिसके बाद उन्हें बैन भी किया गया था।

दुती चंद बेहद गरीब परिवार से आती हैं। उनका जन्म ब्लो पोवर्टी लाइन परिवार में हुआ था। उनके पिता एक बुनकर थे और रोजाना 10 से 20 रुपए की उनकी आमदनी थी। इस पर से उनका परिवार काफी बड़ा था। मां-पिता समेत कुल नौ लोग इस परिवार के सदस्य थे। दुती का एक भाई और 6 बहने हैं। इन सारे लोगों का खर्च चलाना उनके पिता के लिए भारी पड़ता था। इसके बावजूद दुती ने महज 4 साल की उम्र में दौड़ना शुरू कर दिया था। शुरुआत में वह नदी किनारे नंगे पांव दौड़ा करती थीं। तब उनके पास इतने पैसे भी नहीं थे कि वह अपने लिए जूते खरीद पाती। इसके बावजूद उनके जज्बे में कोई कमी नहीं आई।

यह भी पढ़ें

लाइव शो में इस वजह से द्रविड़ पर भड़के श्रीकांत, कहा - नहीं चाहिए उनकी सोच

दुती ने अपने संघर्ष के बारे में बात करते हुए एक बार कहा था कि उनके परिवार ने गरीबी की वजह काफी कुछ झेला है। इस कारण उनके भाई-बहनों की पढ़ाई नहीं हो पा रही थी, लेकिन उनके खेल में आने के बाद काफी कुछ बदला है। दुती का गांव भी ऐसा है, जहां अक्सर बाढ़ आ जाता है और बाढ़ आने के बाद वह मुख्य धारा से पूरी तरह कट जाता है। एथलेटिक्स में अपनी पहचान बनाने के बाद भी दुती की परेशानियां कम नहीं हुईं। 2014 में कॉमनवेल्थ गेम्स से मात्र तीन दिन पहले उन्हें इस आरोप में निलंबित कर दिया गया कि वह लड़की नहीं है। इस वजह से वह कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत का प्रतिनिधित्व नहीं कर पाईं थी।

आईएएएफ की हाइपर एंड्रोजीनिज्म नीति के तहत उन्हें निलंबित किया गया था। आईएएफ के अनुसार, उनके स्वास्थ्य जांच में यह पता चला था कि उनके शरीर में निर्धारित स्तर से कहीं अधिक मात्रा में पुरुषों में पाया जाने वाला हार्मोन है। इसके बाद दुती ने आईएएफ की हाइपर एंड्रोजीनिज्म नीति को सीएएस में चुनौती दी। उनकी इस लड़ाई में भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (AFI) ने भी काफी मदद की। महासंघ की मदद से उन्होंने एक लंबी लड़ाई जीतकर एथलेटिक्‍स ट्रैक पर वापसी की।

यह भी पढ़ें

वेटलिफ्टिंग में जेरेमी लालरिनुंगा ने भारत को दिलाया दूसरा गोल्ड

दुती चंद अपनी बड़ी बहन सरस्वती को अपना आदर्श मानती हैं। बता दें कि सरस्वती खुद भी एक एथलीट थीं और वह खुद दुती को प्रैक्टिस कराती थीं। इसके अलावा जब दुती चंद के निलंबन झेल रही थीं, तब बैडमिंटन के महान खिलाड़ी और कोच गोपीचंद ने उनकी काफी मदद की थी। निलंबन के दौरान गोपीचंद बैडमिंटन एकेडमी ने दुती चंद के अभ्यास का सारा खर्च उठाया था।

क्या है LGBTQ -
समलैंगिकों को आम बोलचाल की भाषा में एलजीबीटी (LGBT) यानी लेस्ब‍ियन (LESBIAN ), गे(GAY), बाईसेक्सुअल (BISEXUAL) और ट्रांसजेंडर (TRANSGENDER) कहते हैं। वहीं कई और दूसरे वर्गों को जोड़कर इसे क्व‍ियर (Queer) समुदाय का नाम दिया गया है। इसलिए इसे LGBTQ भी कहा जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार कैबिनेट पर दिल्ली में मंथन, आज शाम सोनिया गांधी से मिलेंगे तेजस्वी यादव, 2024 के PM कैंडिडेट पर बोले नीतीश कुमारCoronavirus News Live Updates in India : राजस्थान में एक्टिव मरीज 4 हजार के पारडिप्टी सीएम बनने के बाद आज पहली बार लालू यादव से मिलेंगे तेजस्वी यादव, मंत्रालयों के बंटवारे पर होगी चर्चाRajasthan BSP : 6 विधायकों के 'झटके' से उबरने की कवायद, सुप्रीमो Mayawati की 'हिदायत' पर हो रहा कामJammu Kashmir: कश्मीर में एक और बिहारी मजदूर की हत्या, बांदीपोरा में आतंकियों ने मोहम्मद अमरेज को मारी गोलीबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 'बिहार वृक्ष सुरक्षा दिवस' कार्यक्रम में हुए शामिल, पेड़ को बांधी राखी, कहा - वृक्ष की भी होनी चाहिए रक्षाअमरीका: गर्भपात के मामले में फेसबुक ने पुलिस से शेयर की माँ-बेटी की चैट हिस्ट्री, अमरीका से लेकर भारत तक रोष, निजता के अधिकार पर उठे सवालLegends league के लिए पाकिस्तानी क्रिकेटरों को वीजा देगा भारत?, BCCI अधिकारी ने कही ये बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.