.सीबीएसई: पोर्टफोलियो, प्रोजेक्ट और प्रायोगिक कार्य से पूरे साल होगा मूल्याकंन

-अब प्रत्येक विद्यार्थी पर रहेगा बोर्ड का फोकस.

By: Krishan chauhan

Published: 17 Jul 2021, 10:02 AM IST

-अब प्रत्येक विद्यार्थी पर रहेगा बोर्ड का फोकस...सीबीएसई: पोर्टफोलियो, प्रोजेक्ट और प्रायोगिक कार्य से पूरे साल होगा मूल्याकंन

कृष्ण चौहान
श्रीगंगानगर. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने इस साल मूल्यांकन योजना में बदलाव करते हुए एक-एक विद्यार्थी पर फोकस शुरू कर दिया है। जिसके तहत विद्यालय स्तर पर प्रत्येक विद्यार्थी की अलग प्रोफाइल बनाई जा रही है। इसके साथ ही टेस्ट,प्रोजेक्ट वर्क, पोर्टफोलियो,सहशैक्षणिक गतिविधियां,ऑनलाइन-ऑफलाइन कक्षाएं व प्रायोगिक कार्यों के आधार पर पूरे सत्र के दौरान विद्यार्थियों का मूल्यांकन होता रहेगा। उल्लेखनीय है कि अभी कोरोना काल खत्म नहीं हुआ है और अगर यही परिस्थितियां आगे भी रही तो छात्रों का परिणाम तैयार करने में बोर्ड को बहुत मदद मिलेगी।

-आरबीएसई स्कूलों में चल रही है ये व्यवस्था

राज्य स्तर पर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से संबद्ध स्कूलों में यह व्यवस्था पहले से ही लागू है। जिसके अंतर्गत विद्यार्थियों के मूल्यांकन का आधार आओ घर से सीखें-2, पोर्टफोलियो,क्विज आधारित प्रश्नोत्तरी,गृह कार्य तथा डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भागीदारी को रखा गया है।

-सुरक्षित रहेगा डिजिटल रेकॉर्ड

इस सत्र में विद्यालय स्तर पर किए गए सभी मूल्यांकन के लिए छात्र का एक प्रोफाइल तैयार होगा जिसके सबूतों को डिजिटल प्रारूप में सुरक्षित रखा जाएगा। सीबीएसइ द्वारा स्कूलों को बोर्ड के आइटी प्लेटफॉर्म पर आंतरिक मूल्यांकन के अंक अपलोड करने की सुविधा भी प्रदान की जाएगी।

-चार तरह से की है बोर्ड ने तैयारी

स्थिति-1 :यदि दोनों टर्म परीक्षाओं के लिए स्कूल खुल सकें तो— टर्म-1 और टर्म-2 दोनों ही परीक्षाएं स्कूल या परीक्षा केंद्र पर आयोजित होंगी। जिसमें दोनों टर्म के अंकों का 50:50 योगदान माना जाएगा

स्थिति-2 :यदि टर्म-1 में स्कूल बंद और टर्म-2 में खुलें तो —- टर्म-1 की परीक्षा ऑफलाइन या ऑनलाइन माध्यम से जबकि टर्म-2 परीक्षाएं पारंपरिक तरीके से होगी जिसमें टर्म-1 के अंकों का प्रतिशत कम कर दिया जाएगा।

स्थिति-3 : यदि टर्म-1 में स्कूल खुले और टर्म-2 में बंद हों तो--- टर्म-1 की परीक्षा और आंतरिक मूल्याकंन परिणाम के आधार रहेंगे।

स्थिति-4: यदि टर्म-1 और टर्म-2 दोनों में ही स्कूल बंद हों तो--- दोनों ही परीक्षाएं छात्र घर से देंगे जिसमें टर्म के अंकों के साथ आंतरिक मूल्यांकन के अंक जोडकऱ रिजल्ट तैयार होगा।

इस वर्ष सीबीएसइ की ओर से जारी मूल्यांकन प्रणाली के अनुसार स्कूल स्तर पर पूरे साल मूल्यांकन चलेगा। जबकि टर्म-एक में एमसीक्यू तथा टर्म-दो में विस्तृत व लघुत्तर आधारित परीक्षा होगी। दोनों टर्म के लिए क्रमश: 90 व 120 मिनट का समय रखा गया है।

-भूपेश शर्मा,समन्वयक,विद्यार्थी परामर्श केंद्र, शिक्षा विभाग,श्रीगंगानगर।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned