भारत-PAK टेंशन के बीच अब राजस्थान के बॉर्डर से आई ये बड़ी खबर, मचा हड़कंप

भारत-पाक के मध्य बढ़े तनाव के बीच एक नए तरीके का मामला सामने आया है। सरहद से सटे गांव के लोगों के पास तेरह डिजिट के नंबर से फोन आ रहे हैं।

By: santosh

Updated: 27 Feb 2019, 01:25 PM IST

महेन्द्र सिंह शेखावत
श्रीगंगानगर। भारत-पाक के मध्य बढ़े तनाव के बीच एक नए तरीके का मामला सामने आया है। सरहद से सटे गांव के लोगों के पास तेरह डिजिट के नंबर से फोन आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि यह फोन इंटरनेट की मदद से किए जा रहे हैं।

 

पाक की करतूत का अंदेशा
फोन करने वाला भारतीय सेना की लोकेशन संबंधी जानकारी मांगता है। एेसे में यह पड़ोसी मुल्क की करतूत भी हो सकती है। एेसा ही एक फोन सोमासर सरपंच पति तथा टिब्बा क्षेत्र संघर्ष समिति का संयोजक राकेश बिश्नोई के पास आया । राकेश बिश्नोई अभी एटा सिंगरासर माइनर निर्माण के लिए चलाए जा रहे आंदोलन के कारण चर्चा में रहे हैं।

 

सेना को लेकर मांगी सूचना
राकेश बिश्नोई ने बताया कि बुधवार सुबह साढ़े दस बजे के करीब उनके पास तेरह डिजिट वाले नंबरों से फोन आया। फोन करने वाले ने उससे सीमा पर भारतीय सेना है या नहीं? है तो कब से है? तथा क्या कर रही है ? आदि सवाल दागे लेकिन राकेश बिश्नोई ने इनका जवाब देने में असमर्थता जताते हुए पुलिस थाने में संपर्क करने को कहा।

 

दो मिनट चौबीस सेकंड तक बातचीत हुई
सवाल करने वाले ने सैन्य वाहनों व टैंकों की संख्या भी पूछी लेकिन उन्होंने कोई जानकारी नहीं दी। फोन +3444172258965 नंबर से आया और दो मिनट चौबीस सेकंड तक बातचीत हुई लेकिन बिश्नोई ने उसको कोई जवाब नहीं दिया। बिश्नोई ने कहा कि इस तरह का फोन किसी के पास आ सकता है, इसलिए सेना से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी शेयर नहीं करें।

 

सुरक्षा बलों की जानकारी नहीं देने की अपील
इधर पीओके में एयर स्ट्राइक के बाद सीमा क्षेत्र में संवेदनशीलता बढ़ी है। पुलिस को सतर्क कर दिया गया है। पुलिस अधीक्षक हेमंत शर्मा ने लोगों से फोन कॉल करने वाले किसी भी व्यक्ति को सुरक्षा बलों और पुलिस की गतिविधियों की कोई जानकारी नहीं देने की अपील की है।

 

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुरेन्द्र सिंह राठौड़ ने बताया कि सीमा पर तनाव को देखते हुए आसपास के थानों को अलर्ट कर दिया गया है। इलाके में पुलिस गश्त व नाकेबंदी शुरू कर दी गई है। पाकिस्तान या अन्य कहीं आने वाली कॉल पर कोई अनजान व्यक्ति आर्मी या पुलिस अफसर बनकर सुरक्षा बलों और पुलिस की गतिविधियों की जानकारी मांगे तो उसे कोई भी जानकारी नहीं दें और न ही एेसी कोई जानकारी सोशल मीडिया पर डाली जाए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned