scriptMiracle of shiv temple : A cow used to offer milk on rock every day | एक गाय अपने थनों से हर रोज इस शिला पर चढ़ाती थी दूध, कारण जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान | Patrika News

एक गाय अपने थनों से हर रोज इस शिला पर चढ़ाती थी दूध, कारण जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान

खुदाई के बाद भी राजा को नहीं मिला था शिला का कोई छोर...

भोपाल

Published: April 22, 2020 01:11:56 pm

भगवान शिव के मंदिरों से जुड़े चमत्कारों के कई किस्से आपने भी सुने होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं कि देश में एक ऐसा मंदिर भी मौजूद है, जिसके बारे में कहा जाता है कि यहां एक शिला पर एक गाय प्रतिदिन अपने थनों से दूध चढ़ाती थी।

Miracle of shiv temple : A cow used to offer milk on rock every day
Miracle of shiv temple : A cow used to offer milk on rock every day

हम बात कर रहे हैं मध्यप्रदेश के एक शिवमंदिर की जो मध्यप्रदेश में ग्वालियर के पास इंदरगढ़ नगर के दतिया रोड पर स्थित है। इसे प्राचीन गो-पुरुष शंकर मंदिर ने नाम से जाना जाता है, साथ ही यह काफी प्राचीन और आस्था का केंद्र है।

MUST READ : अशुभ संकेत- ऐसे समझें पशुओं के भी खास इशारे- बचने के ये हैं उपाय

https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/inauspicious-signs-understand-the-special-gestures-of-animals-too-6024126/

ऐसे पड़ा मंदिर का नाम...
मान्यता अनुसार पूर्व समय में इस मंदिर में पहुंचकर एक गाय प्रतिदिन अपने थनों से एक शिला पर दूध चढ़ाती थी, इसलिए मंदिर का नाम ही गो-पुरुष मंदिर पड़ गया। यहां पर प्रतिवर्ष शिवरात्रि पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते है।

राजा को भी नहीं मिला शिला का छोर...
गो-पुरुष शिव मंदिर के संबंध में बताया है कि इस स्थान पर एक पत्थर की शिला थी, जिस पर प्रतिदिन एक गाय आकर अपने थनों से दूध चढ़ाती थी। बताया जाता है कि यहां आने वाली गाय जब इस शिला के पास जाती थी, तो उसके थनों से अपने आप दूध की धारा बहने लगती थी, जिसे वह शिला के उपर चढ़ा देती थी।

MUST READ : मुगलों से नागों ने की थी इस प्राचीन शिवलिंग की रक्षा, ऐसे आया किले से बाहर

https://www.patrika.com/temples/mughals-attacks-on-that-shivling-while-nags-protected-this-6019438/

इस भक्तिमय प्रक्रिया को जब एक बार यहां के राजा ने देखा तो उन्होंने उस पत्थर की शिला की खुदाई करवाई। काफी गहरी खुदाई की गई पर शिला का छोर नहीं मिला, तो खुदाई बंद कर दी गई। बाद में इसी स्थान पर मंदिर बनवाकर भगवान शंकर व नंदी महाराज की मूर्ति स्थापित कराई।

यह शिला अभी भी भगवान शिव जी की पिंडी के पास स्थित है। जिसे साक्षात भगवान शिव की मूर्ति माना जाता है। सावन के महीने में हर दिन हजारों की संख्या में भक्त मंदिर पर दर्शन करने पहुंचते हैं और अभिषेक कर पूजा-अर्चना करते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Independence Day 2022: लालकिला छावनी में तब्दील, जमीन से आसमान तक काउंटर-ड्रोन सिस्टम से निगरानी14 अगस्त को 'विभाजन विभिषिका स्मृति दिवस' मनाने पर कांग्रेस का BJP पर हमला, कहा- नफरत फैलाने के लिए त्रासदी का दुरुपयोगOne MLA-One Pension: कैप्टन समेत पंजाब के इन बड़े नेताओं को लगेगा वित्तीय झटकाइसलिए नाम के पीछे झुनझुनवाला लगाते थे Rakesh Jhunjhunwala, अकूत दौलत के बावजूद अधूरी रह गई एक ख्वाहिशRakesh Jhunjhunwala Net Worth: परिवार के लिए इतने पैसे छोड़ गए राकेश झुनझुनवाला, एक दिन में कमाए थे 1061 करोड़हर घर तिरंगा अभियान CM योगी ने झंडा लगाकर की शुरुआतपिता ने नहीं दिए पैसे, फिर भी मात्र 5000 के निवेश से कैसे शेयर बाजार के किंग बने राकेश झुनझुनवालासिर पर टोपी, हाथों में तिरंगा; आजादी का जश्न मनाते दर्जनों मुस्लिम बच्चों का ये वीडियो कहां का है और क्यों वायरल हो रहा है?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.