scriptकक्षा 9 वीं में प्रवेश पंजीयन के नाम पर वसूली | Recovery in the name of admission registration in class 9th | Patrika News
टीकमगढ़

कक्षा 9 वीं में प्रवेश पंजीयन के नाम पर वसूली

पीजी कॉलेज के पास की दुकान।

टीकमगढ़Jul 03, 2024 / 10:58 am

akhilesh lodhi

पीजी कॉलेज के पास की दुकान।

module: NormalModule;
touch: (-1.0, -1.0);
modeInfo: ;
sceneMode: Auto;
cct_value: 0;
AI_Scene: (-1, -1);
aec_lux: 165.0;

लुट रहे छात्र अधिकारी नहीं कर रहे कार्रवाई

टीकमगढ़.शासन ने विभिन्न योजनाएं पारदर्शिता के लिए बनाई हैं, लेकिन उसका गलत फायदा कंप्यूटर दुकानदार और कुछ स्कूल संचालक उठा रहे हैं। उन पर कार्रवाई करने के लिए जिला प्रशासन आगे नहीं आ रहा है। वह प्रवेश पंजीयन के नाम पर मनचाहा पोर्टल चार्ज छात्रों से वसूल रहे है। जिसका स्टिंग पत्रिका ने चार स्थानों पर अभिभावक बनकर किया है। जिसको लेकर कई कंप्यूटर दुकानदार शर्तक भी हो गए है। जिसमें बहस का सामना करना पड़ा।
पत्रिका ने २१ जून और दो जुलाई को शहर की कंप्यूटर दुकानों पर अभिभावक बनकर कक्षा ९ वीं में प्रवेश पंजीयन का स्टिंग ऑपरेंशन किया। सबसे पहले कोतवाली नजर बाग के पास स्थित रानू कंप्यूटर दुकान का किया। उसके बाद पीजी कॉलेज के सामने रखी कंप्यूटर दुकानों और सैलसागर की दुकान का किया। सभी स्थानों के कंप्यूटर दुकानदारों ने पोर्टल चार्ज अलग-अलग बताया। कक्षा ९ वीं में मनीष राजपूत ने शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक दो में प्रवेश के लिए पंजीयन कराया, जिसकी पोर्टल पावती पत्रिका के हाथ लगी तो उसमें पोर्टल और जीएसटी चार्ज २५ रुपए थे। लेकिन इनके द्वारा ७५ रुपए से लेकर १८० रुपए तक वसूले जा रहे हैं।
सभी विद्यालयों की प्रवेश फीस में अंतर
क्रमांक एक, क्रमांक दो, सीनियर बेसिक, कन्या विद्यालय के साथ अन्य विद्यालयों की प्रवेश फीस में अंतर मिला। शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय में कक्षा ९ वीं की फीस १५४० रुपए, कक्षा १० वीं ११६० रुपए, कक्षा ११ वीं की १३५० रुपए और कक्षा १२ वीं की १३५० रुपए बताई गई हैं। सिर्फ कक्षा ९ वीं की फीस में अंतर दिखाई दे रहा हैं। उत्कृष्ठ प्राचार्य डॉ. सुनील श्रीवास्तव ने बताया कि कक्षा ९ वीं की फीस में कुछ ही अंतर होगा। कोई विद्यालय फार्म फीस सहित जमा करा लेते हैं और कुछ बाद में जमा करवाते हैं। जिसमें स्कूल प्रबंधन को परेशान होना पड़ता हैं।
ऑन लाइन प्रवेश नियम से छात्रों पर पड़ रहा है आर्थिक बोझ
जिले में संचालित कई हाई स्कूल, हायर सेकेंडरी में कक्षा 9 वीं, 10 वीं, 11 वीं और 12 वीं में प्रवेश के लिए छात्रों को ऑन लाइन की दुकानों के चक्कर लगाने पड़ रहे है। तब जाकर उन्हें स्कूलों में प्रवेश मिल पा रहा है। सबसे पहले ऑनलाइन प्रवेश पंजीयन, फिर स्कूल से आईडी भरकर फीस जमा करना। इस प्रक्रिया में छात्रों को दो दो बार पोर्टल चार्ज देना पड़ रहा है और कई बार ऑनलाइन के नाम पर छात्रों से पोर्टल का अतिरिक्त शुक्ल ले लिया जाता है। इससे छात्रों को लगभग 100 से 1८0 रुपए का अतिरिक्त भार चुकाना पड़ रहा है। दूसरी ओर शहर के सबसे बड़े स्कूल कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में ऑफ लाइन प्रवेश देकर छात्राओं का आर्थिक बोझ कम कर रहे हैं।
फैक्ट फाइल
योजनाएं ९ वीं, १० वीं, ११ वीं १२ वीं
क्रीड १२० १२० २०० २००
स्काउट ३० ३०
रेडक्रॉस २० २०
क्रियाकलाप २० २०
विज्ञान ३० ३०
नामांकन ३५०
बोर्ड परीक्षा १२००
नोट-शाला विकास और स्थानीय परीक्षा शुल्क संस्था स्तर पर निर्धारित हैं।
इनका कहना
इसको लेकर आज ही टीम का गठन करवाता हूं। जिन कंप्यूटर दुकानदारों द्वारा छात्रों से प्रवेश पंजीयन के नाम पर चार्ज से अधिक रुपए लिए जा रहे है, उनकी जांच कल ही की जाएगी। अनियमित्ताएं पाए जाने पर नियमों के तहत कार्रवाई की जाएगी।
नवीन कुमार धु्रवे, जिला पंचायत सीईओ और प्रभारी ई- गवर्नेस सीईओ टीकमगढ़।

Hindi News/ Tikamgarh / कक्षा 9 वीं में प्रवेश पंजीयन के नाम पर वसूली

ट्रेंडिंग वीडियो