Anupama 9th June 2021 Written Updates: वनराज को हनीमून पर ले जाना चाहती हैं काव्या

By: Shweta Dhobhal
| Published: 09 Jun 2021, 08:18 AM IST
Anupama 9th June 2021 Written Updates: वनराज को हनीमून पर ले जाना चाहती हैं काव्या
Anupama 9th June 2021 Written Updates Kavya Plans Her Honeymoon

कैंसर को मात देकर अनुपमा घर लौंट आई हैं। लेकिन वनराज की आंखों में अनुपमा को लेकर चिंता काव्या को बिल्कुल भी रास नहीं आ रही है इसलिए काव्या एक बड़ा फैसला लेती है। जानिए क्या होगा आज रात के एपिसोड में।

 

नई दिल्ली। शो में 'अनुपमा' की बीमारी का ट्रैक खत्न होने को आया है। कैंसर का इलाज करना के बाद अनुपमा पूरी तरह से ठीक हो गई हैं और अपने परिवार वालों के पास लौंट आई हैं। पूरा परिवार अनुपमा के स्वागत करने के लिए आता है। लेकिन काव्या वहां भी अपना तमाशा करने लगती है। जानिए आज के एपिसोड में क्या होगा।

काव्या ने फिर पार की सारी हदें

अस्पताल से लौटकर अनुपमा घर आती हैं। ये देखकर पूरा परिवार बहुत खुश हो जाता है, लेकिन काव्या को खुशी नहीं होती है। काव्या पूरे परिवार के सामने अनुपमा से कहती हैं कि वो जल्द से ठीक हो जाएं तभी तो वो एयरपोर्ट छोड़ने आ पाएंगी। ये सुनकर वनराज हैरान हो जाता है और वो काव्या से पूछता है कि चुम कहां जा रही हूं? काव्या कहती हैं कि मैं नहीं हम जा रहे हैं अपने हनीमून पर। ये सुनकर पूरा परिवार काफी हैरान हो जाते हैं।

काव्या अनुपमा को कहती हैं कि उनकी वजह से उनकी सुहागरात खराब हो गई थी, लेकिन अब वो नहीं चाहती कि उनका हनीमून भी खराब हो जाए। ये सुनकर वनराज काफी गुस्सा हो जाता है और वो काव्या को घर जानें को कहता है। ये सुनकर काव्या काफी गुस्सा हो जाती हैं।

 

यह भी पढ़ें- Anupama 8th June 2021 Written Updates: ठीक होकर घर लौंटी अनुपमा, काव्या ने किया फुल ड्रामा

 

अनुपमा का परिवार वालों ने किया स्वागत

काव्या के तमाशे के बाद अनुपमा घर जाती हैं। पूरा परिवार उनका स्वागत करता है। अनुपमा केक काटती हैं। तभी डॉक्टर अद्वैत आ जाते हैं और अनुपमा की खूब तारीफ करते हैं। डॉक्टर अद्वैत अनुपमा के परिवार को बताते हैं कि अनुपमा परिवार में इंवेस्ट करने वाली औरत हैं। उन्होंने उनसे काफी कुछ सीखा है।

यह भी पढ़ें- Anupama 7th June 2021 Written Updates: सर्जरी करने के बाद बिगड़ी अनुपमा की तबीयत, चिंता में वनराज-समर

काव्या और वनराज के बीच हुई लड़ाई

काव्या फैसला लेती हैं कि वो रिजार्ट छोड़कर वापस अहमदाबाद चलीं जाएंगी। वो वनराज को जब ये बात बताती हैं तो वनराज उन्हें ही अकेले अहमदाबाद जानें को कहते हैं। ये सुनकर काव्या कहती हैं कि जिस परिवार के पीछे वो पूरा दिन घूमते हैं। वो तो अनुपमा के ही सुख-दुख में उसके साथ होते हैं। उनका परिवार हमेशा उन्हें अकेला छोड़ देता है। काव्या की बात सुनकर वनराज काफी गुस्सा हो जाता है और काव्या को समझाते हुए कहता है कि उनका परिवार उनके साथ क्या करता है। वो उसकी परेशानी है। काव्या वनराज से पूछती हैं कि उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता उनके होने ना होने से। जिसे सुनकर वनराज हां कहते हैं।

किंचल और काव्या की हुई बहस

वनराज का गुस्सा शांत करने के लिए काव्या उनके लिए खाना बनाने का प्लान करती हैं। काव्या मिक्सर लेने जाती हैं। तभी वो मिक्सर किंचल लेकर जा रही होती हैं। ये देखकर काव्या किंचल से लड़ाने लगती हैं। बातों ही बातों में काव्या किंचल को बताती हैं कि वो उनकी सास हैं। तो तमीज़ से बात करें। किंचल काव्या को कहती हैं कि जब बड़े बदतमीजी पर आ जाएं तो छोटो को तमीज़ सीखानी पड़ती हैं। किंचल और काव्या को एक मिक्सर पर लड़ते देख राखी दवे हैरान हो जाती हैं। राखी दवे को काफी बुरा लगता है कि उनकी बेटी एक मिक्सर के लिए लड़ रही हैं। राखी दवे काव्या और किंचल दोनों को ही डांट लगाती हैं।

 

वनराज की मदद के लिए बेटे तोषो ने बढ़ाया हाथ

वनराज नौकरी ढूंढने में लगा हुआ है। वो हर जगह फोन मिलाकर नौकरी के बारें में पूछता है। लेकिन हर जगह से वनराज को ना ही सुनने को मिलता है। पिता को परेशान और अकेले बैठा देख तोषो वनराज से बात करने के लिए आता है। तोषो वनराज से कहता है कि वो परेशान ना हो किंचल और वो सब कर लेंगे। वनराज तोषो को समझाते हैं कि उनका करियर अभी-अभी शुरू हुआ है। ऐसे में वो नहीं चाहते हैं कि किसी भी तरह का बोझ उन पर आए। वनराज कहता है कि वो परिवार के साथ-साथ खुद के लिए भी जॉब करना चाहते हैं। जिससे उन्हें खुशी मिली।

बेटी किंचल को लेकर परेशान हुईं राखी दवे

किंचल अनुपमा से चटनी बनाने की रेस्पी पूछती है। जिसे देखकर राखी दवे काफी हैरान हो जाती हैं। राखी दवे अनुपमा से बात करते हुए कहती हैं कि उनकी बेटी ने इतनी पढ़ाई-लिखाई की है। लेकिन आज वो उनकी तरह ही बनती जा रही है। अनुपमा राखी दवे को समझाती है कि किंचल के ऊपर कभी भी परिवार का दबाव नहीं पड़ेगा। बॉ और बाबू हमेशा ही उसे सपोर्ट करेंगे। वहीं जब भी किंचल को उनकी जरूरत पड़ेगी वो तुंरत उनके पास आ जाएंगी। ये बात सुनकर राखी दवे को बिल्कुल भी संतुष्टि नहीं मिलती है।