'रामायण' के लक्ष्मण ने खुद किया खुलासा, जब सरेआम खुल गई उनकी धोती तो फिर हुआ ऐसा, नहाते समय होती थी ये बड़ी दिक्कत?

By: भूप सिंह
| Published: 09 May 2020, 10:18 AM IST
'रामायण' के लक्ष्मण ने खुद किया खुलासा, जब सरेआम खुल गई उनकी धोती तो फिर हुआ ऐसा, नहाते समय होती थी ये बड़ी दिक्कत?
Sunil Lahri aka Laxman

जब रामायण की शूटिंग के दौरान सरेआम खुल गई थी 'लक्ष्मण' की धोती, खुद स्टार ने बताई जुबानी, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल....

रामानंद सागर की 'रामायण' सबसे पहले वर्ष 1987 में प्रसारित हुई थी। इसका प्रसारण दूरदर्शन चैनल पर हुआ था। शो में अरुण गोविल ( Arun Govil ) ने राम, दीपिका चिखलिया ( Dipika Chikhlia ) ने सीता, सुनील लहरी ( Sunial Lahri ) ने लक्षमण और अरविंद त्रिवेदी ( Arviend Trivedi ) ने रावण का किरदार निभाया है। सभी कलाकार इन दिनों खूब चर्चा में हैं। फैंस अपने इन चहेते कलाकारों के लिए सम्मान की मांग भी कर रहे हैं। इस बीच लक्ष्मण का किरदार निभाने वाले सुनील लहरी ने अपने फैंस से शूटिंग के दो किस्से शेयर करने का वादा किया था। उन्होंने 7 मई को अपने ट्विटर पर अपना एक वीडियो शेयर करते हुए अपना वादा पूरा किया और अपने फैंस के साथ दो किस्से, शूटिंग के दौरान धोती खुलना और स्नान के दौरान गुदगुदी से हंसी छूट जाने शेयर किया। बता दें कि दूरदर्शन के बाद अब 'रामायण' का प्रसारण अब स्टार प्लस चैनल पर हो रहा है।

 

Sunil Lahri aka Laxman

अचानक खुल गई थी धोती
सुनील लहरी ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए बताया कि जब हम 'रामायण' की शूटिंग के दौरान आश्रम से रथ में बैठकर महल आते थे तो बहुत सारे लोग हमारा स्वागत करते थे। एक दिन जब हम महल लौट रहे थे और एक सीन की शूटिंग चल रही थी तो मेरे ही पैर में मेरी धोती अटक कर अचानक खुल गई। लेकिन मैंने कमरबंद पहन रखा जिससे धोती पूरी तरह से खुलने से बच गई और मैंने अपने को-स्टार और शत्रुघन का किरदार निभा रहे समीर को ओर इशारा किया और उन्होंने तुरंत पीछे से मेरी धोती को पकड़ा और हमने जैसे-तैसे उस सीन को सूट किया। क्योंकि वह सीन बहुत ही महत्वपूर्ण और टिफिकल था जो हम दोबारा शूट नहीं कर सकते थे। इस तरह से सरेआम पब्लिक में मेरी धोती खुलते खुलते बच गई।'

 

Sunil Lahri aka Laxman

गुदगुदी के मारे आती थी हंसी
सुनील ने शूटिंग के दौरान एक दूसरा किस्सा नहाने का शेयर किया। उन्होंने बताया, 'जब हम नहाते थे कुछ लोग हमारे शरीर पर उबटन लगाते थे। इस दौरान वे जब उबटन लगाते थे उनका हाथ मेरी बगल में चला जाता था और मुझे खूब खुदगदी होती थी। मैंने कई बार उन्हें इसके लिए टोका भी लेकिन उनका हाथ वहां बार-बार चला जाता था। तो ऐसे में मुझे नहाने के बाद खूब हंसी आती थी और दिल खोलकर हंसता था।'

Show More