54 की उम्र में रामायण वाली सीता कर रही हैं ये काम, तस्वीरें देख नहीं होगा आंखों पर यकीन
Vivhav Shukla
| Updated: 10 Nov 2019, 08:41:24 PM (IST)
54 की उम्र में रामायण वाली सीता कर रही हैं ये काम, तस्वीरें देख नहीं होगा आंखों पर यकीन
,,

  • रामायण में सीता का रोल करने वाली दीपिका बहुत बदल गयी हैं
  • दीपिका को रामानंद सागर की रामायण में सीता के किरदार में देखा है

नई दिल्ली। रामानंद सागर (Ramanand Sagar) के रामायण धारावाहिक में मां सीता का किरदार निभाकर मशहूर हुई दीपिका चिखलिया (Dipika Chikhalia) अब 54 साल की हो गई हैं. दीपिका ने एक कॉस्मैटिक कंपनी के मालिक हेमंत टोपीवाला से शादी कर लिया था। शादी पहले से ही वह टीवी जगत से दूर हैं। हाल ही में उनकी कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी। इन तस्वीरें में वो इतना बदल चुकी है कि उनको पहचाना भी मुश्किल हो रहा है।

dipika_chikhalia_5.jpg

Ramayan में सीता के किरदार में नजर आने वाली Dipika Chikhalia रामायण के बाद टीवी से गायब ही गई थी।

लेकिन वह सोशल मीडिया साइट पर काफी एक्टिव रहती हैं।

dipika_chikhalia_3.jpg

रामायण में सीता का रोल करने वाली दीपिका चिखलिया अपने पति की कंपनी में रिसर्च और मार्केटिंग टीम को हेड करती हैं। ये कंपनी श्रंगार बिंदी और टिप्स एंड टोज नेलपॉलिश बनाती है।

dipika_chikhalia_2.jpg

दीपिका का एक्टिंग में लौटने का कोई इरादा नहीं है। हालांकि आज भी उनको धार्मिक रोल ऑफर होते रहते हैं। इतना ही नहीं, कई बार लोग उन्हें सीता समझकर पैर भी छूने लगते हैं।

dipika_chikhalia_4.jpg

दीपिका ने एक्टिंग के शुरुआती दौर में कुछ बी ग्रेड की फिल्में भी की थीं। ऐसी फिल्मों में काम करते वक्त दीपिका शायद 18 साल की भी नहीं थीं। ये फिल्में रामायण से पहले की हैं। एक इंटरव्यू में दीपिका ने कहा कि मैं सीता का रोल करते समय 15-16 साल की थी।

dipika_chikhalia_1.jpg

दीपिका ने साल 1994 में राजेश खन्ना के साथ एक फिल्म भी बनाया था जिसका नाम था बेखुदी।

dipika_chikhalia.jpg

रामायण में अपने जबर्दस्त अभिनय से लोगों के मन में आदर बनाने वाली अभिनेत्री आज भी अपनी उस छवि से निकल नहीं पाई हैं। लोगों को उनमें सिर्फ माता सीता ही दिखाई देती हैं।

dipika_chikhalia_6.jpg

दीपिका को सीता के किरदार ने सफलता की बुलंदियों पर पहुंचा दिया था।

dipika_chikhalia_7.jpg

साल 1991 में दीपिका ने बीजेपी के टिकट पर वडोदरा से लोकसभा चुनाव जीता था. वो सांसद बनी लेकिन फिर उन्होंने राजनीति से संन्यास ले लिया।