Mahakal Darshan सुरक्षा पर ज्यादा जोर, महाकाल दर्शन की व्यवस्था बदली

Mahakal Darshan - मंदिर प्रबंध समिति ने लिया निर्णय

By: deepak deewan

Published: 16 Sep 2021, 09:11 AM IST

उज्जैन। राजाधिराज भगवान महाकाल के दरबार में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. महाकाल की पूजा और दर्शन Mahakal Darshan के लिए आनेवाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मंदिर प्रबंध समिति लगातार निर्णय लेते रहती है. हाल ही में मंदिर में महाकाल की भस्म आरती में आम श्रद्धालुओं को भी शामिल होने की छूट दी गई है. हालांकि अब मंदिर में सुरक्षा पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है.

महाकाल की भस्म आरती विख्यात है. मंदिर में सबसे पहले भस्म आरती ही होती है और इसके बाद ही भक्तों को महाकाल दर्शन करने दिए जाते हैं. कोरोना काल में श्रद्धालुओं पर कई प्रतिबंध लगा दिए गए थे जिसके अंतर्गत भस्म आरती के लिए आम भक्तों का प्रवेश बंद कर दिया गया था. गर्भगृह में केवल मंदिर के पुजारी ही जा पा रहे थे.

अब भस्म आरती में आम भक्तों के प्रवेश की भी अनुमति दे दी गई है. 11 सिंतबर से यह सुविधा प्रारंभ की जा चुकी है. हालांकि भस्म आरती में गिने—चुने भक्तों को ही प्रवेश दिया जा रहा है और इसके लिए बुकिंग Mahakal Darshan Booking भी जरूरी है. अब मंदिर आनेवाले महाकाल के भक्तों के लिए नया निर्णय लिया गया है. भक्तों को अब दर्शन के पहले सुरक्षा का टीका लगेगा।

Mahakal Darshan System Changed In Ujjain Mahakal Darshan Booking
IMAGE CREDIT: patrika

मंदिर आने वालों का कोविड-19 का वैक्सीनेशन किया जाएगा। प्रशासक गणेश कुमार धाकड़ ने बताया श्रद्धालुओं की सुरक्षा व कोविड के नियमों का पालन करते हुए मंदिर में श्रद्धालुओं हेतु शंख द्वार के पास फेसिलिटी सेंटर में वैक्सीनेशन की व्यवस्था की गई है। प्रतिदिन यह व्यवस्था Mahakal Darshan System मंदिर प्रबंध समिति द्वारा ही की जाएगी.

न तन पर कपड़े, न रहने का ठिकाना पर यही अघोरी बाबा उठाते हैं महाकाल सवारी का खर्च

मंदिर में दर्शन या पूजन के लिए आने वाले सभी श्रद्धालुओं का वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट जांचा जाएगा। जिनको प्रथम या द्वितीय डोज नहीं लगा है तो ऐसे श्रद्धालुओं का वैक्सीनेशन किया जाकर ही दर्शन के लिए प्रवेश दिया जाएगा। उज्जैन में कोरोना संक्रमण फिर बढ़ने लगा है. इसको देखते हुए मंदिर प्रबंध समिति ने यह निर्णय लिया है. यहां रोज बड़ी संख्या में महाकाल के भक्त आते हैं इसलिए सख्ती जरूरी है.

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned