scriptmahakaleshwar temple bhasma aarti booking and live darshan | Mahakal Darshan - अब भस्म आरती में प्रत्येक व्यक्ति शामिल होगा, यह है दर्शन की नई व्यवस्था | Patrika News

Mahakal Darshan - अब भस्म आरती में प्रत्येक व्यक्ति शामिल होगा, यह है दर्शन की नई व्यवस्था

पत्रिका ने उठाया था मुद्दा : भस्म आरती दर्शन व्यवस्था में किया बड़ा बदलाव, महाकाल भस्मारती में श्रद्धालु करेंगे चलित दर्शन, जिन्हें अनुमति नहीं, उन्हें भी मिल सकेगा प्रवेश...>

उज्जैन

Updated: June 09, 2022 08:50:18 am

उज्जैन. भगवान महाकाल की विश्व प्रसिद्ध भस्म आरती में अब हर श्रद्धालु शामिल हो सकेंगे। मंदिर में भस्म आरती के लिए चलित दर्शन व्यवस्था लागू होने जा रही है। इसके तहत जिन श्रद्धालुओं का ऑफलाइन या ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ, उन्हें आरती में नि:शुल्क प्रवेश दिया जाएगा। भस्म आरती को लेकर यह बड़ा बदलाव सोमवार से शुरू होगा। इसमें पहले सात दिन तक ट्रायल किया जाएगा और व्यवस्था सुचारू रहने पर नियमित करेंगे। चलित दर्शन की इस नई व्यवस्था से देश-विदेश से आने वाले भक्तों को बाबा की भस्म आरती में शामिल नहीं होने का मलाल नहीं रहेगा।

ujjain4.png

महाकाल मंदिर में भस्म आरती में चलित दर्शन व्यवस्था का फैसला बुधवार को मंदिर प्रबंध समिति की बैठक में लिया गया। 'पत्रिका' ने भस्म आरती दर्शन व्यवस्था में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं को प्रवेश नहीं मिलने और उन्हें निराश लौटने का मुद्दा उठाया था। मंदिर समिति अध्यक्ष कलेक्टर आशीष सिंह ने भस्म आरती दर्शन में आ रही परेशानी को दूर करने को चलित दर्शन की व्यवस्था शुरू करने की बात कही थी। इस पर बुधवार को कलेक्टर ने फैसला लेते हुए सोमवार से बतौर ट्रायल चलित भस्म आरती दर्शन व्यवस्था शुरू करने का निर्णय लिया है। कलेक्टर ने बताया कि भस्म आरती के दौरान पंजीयनधारी श्रद्धालुओं के अलावा अन्य श्रद्धालुओं को सिंहस्थ 2016 की तर्ज पर कार्तिकेय मंडपम् की अंतिम दो पंक्तियों से दर्शन कराया जाएगा। श्रद्धालुओं के प्रवेश-निर्गम, आरती में सम्मिलित होने के समय व मार्ग आदि विषयों पर चर्चा कर प्रायोगिक रूप से चलित दर्शन व्यवस्था शुरू की जाएगी। बता दें, भस्म आरती में प्रवेश के लिए महज 1500 श्रद्धालुओं को अनुमति दी जा ही है। इसमें ऑनलाइन और ऑफलाइन अनुमति लेना पड़ रही है। इसके लिए 200 रुपए शुल्क देना पड़ रहा है।

रथ पर निकलेंगे महाकाल, पालकी भी ऊंची होगी

सावन-भादौ में निकलने वाली सवारियों में इस बार बदलाव नजर आएगा। पालकी की ऊंचाई बढ़ाई जाएगी, साथ ही सवारी रथ पर निकाले जाने की बात कही जा रही है। सवारी में बढ़ती भीड़ को देखते हुए पालकी की ऊंचाई बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है। सभी को सुगमता से दर्शन हो सकें, इसके लिए पालकी को रथ पर रखे जाने पर भी मंथन हुआ। रथ पर कहार पालकी को सहारा देकर खड़े रहेंगे। आसपास पुजारी-पुरोहित रहेंगे। रथ पूरे मार्ग पर उसी तरह भ्रमण करेगा, जिस तरह पालकी निकलती है। सड़क के दोनों तरफ श्रद्धालुओं को बैरिकेड्स से ही बाबा के दर्शनों का लाभ मिलेगा। प्रबंध समिति की बैठक में और भी कई बिंदुओं पर चर्चा हुई। बता दें इस वर्ष सावन माह की शुरुआत 14 जुलाई से हो रही है। सावन-भादौ के प्रत्येक सोमवार को बाबा महाकाल की सवारी निकले जाने की परंपरा है। पहली सवारी 18 जुलाई को निकाली जाएगी।

mahakal.jpg

मंदिर में बनेगी भौतिक स्मारिका

समिति द्वारा होने वाले समस्त क्रियाकलापों के संबंध में जानकारी एकत्रित की जाकर भौतिक स्मारिका प्रकाशित किए जाने पर सहमति व्यक्त की गई। इसमें धार्मिक सांस्कृतिक गतिविधियां, श्रद्धालुओं की संख्या, विशेष पर्व त्यौहार, पारंपरिक पूजन, पालकी के संबंध में जानकारी व अन्य मंदिर की ओर से होने वाली सामाजिक गतिविधियों का विवरण होगा। साथ ही एक पुस्तक का प्रकाशन भी किया जागा, जिसमें महाकाल का इतिहास परंपरा, विधिविधान के अतिरिक्त मनाए जाने वाले पर्व, के उल्लेख के संबंध में जानकारी होगी।

बजट: 81 करोड़ 65 लाख प्रस्तावित आय

प्रशासक गणेश कुमार धाकड़ ने बैठक में 2022-23 के आय-व्यय का अनुमोदन किया, इसके बाद स्वीकृति के लिए आयुक्त उज्जैन संभाग, उज्जैन की ओर प्रेषित किया जाएगा। गत वर्ष के किए गए समस्त व्ययों का अनुमोदन किया गया। इस वर्ष 2022-23 बजट में प्रस्तावित आय 81 करोड़ 65 लाख रुपए, प्रस्तावित व्यय 81 करोड़ 10 लाख व प्रस्तावित लाभ/बचत 55 लाख प्रस्तावित की गई।

mahakal11.jpg

ऑनलाइन दर्शन की भी व्यवस्था

प्रशासन ने ज्योतिर्लिंग के ऑनलाइन दर्शन की भी व्यवस्था कर रखी है। हर दिन आनलाइन दर्शन किए जा सकते हैं। जो लोग उज्जैन तक नहीं आ सकते वे अपने घर बैठकर ही महाकाल के दर्शन कर सकते हैं। इसके लिए dic.mp.nic.in/ जिला प्रशासन की वेबसाइट पर क्लिक करना होगा। इसके अलावा अपने मोबाइल फोन पर भी हर दिन लाइव दर्शन किए जा सकते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाब"BJP से डर रही", तीस्ता की गिरफ़्तारी पर पिनाराई विजयन ने कांग्रेस की चुप्पी पर साधा निशानाअंबानी परिवार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एकनाथ शिंदे ने कहा- यह बालासाहेब के हिंदुत्व और आनंद दिघे के विचारों की जीत हैMaharashtra Political Crisis: शिंदे खेमा काफी ताकतवर, उद्धव ठाकरे के लिए मुश्किल होगा दोबारा शिवसेना को खड़ा करनासचिन पायलट बोले-गहलोत मेरे पितातुल्य, उनकी बातों को अदरवाइज नहीं लेता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.