scriptThe doors opened on Nagpanchami, Shri Nagchandreshwar was worshipped | नागपंचमी पर रात 12 बजे पट खुले, श्री नागचंद्रेश्वर भगवान का हुआ पूजन | Patrika News

नागपंचमी पर रात 12 बजे पट खुले, श्री नागचंद्रेश्वर भगवान का हुआ पूजन

दर्शन के लिए श्रद्धालु कतार में, साल में एक बार होते हैं महाकालेश्वर मंदिर के शिखर पर स्थित श्री नागचंद्रेश्वर भगवान के दर्शन

उज्जैन

Published: August 02, 2022 01:45:36 am

उज्जैन. श्री महाकालेश्वर मंदिर के शीर्ष शिखर पर स्थित श्री नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट साल में एक बार नागपंचमी को रात बजे खुलते हैं। इस वर्ष भी यह पावन अवसर 1 अगस्त सोमवार (नागपंचमी) की रात्रि को 12 बजे आया। मंदिर के पट खुलने के बाद श्री पंचायती महानिर्वाणी अखाड़े के महंत विनीत गिरी एवं मप्र उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति प्रशासक गणेशकुमार धाकड़ द्वारा प्रथम पूजन व अभिषेक किया गया। पूजन के बाद गर्भगृह स्थित शिवलिंग का पूजन किया गया।
The doors opened at 12 o'clock on Nagpanchami, Shri Nagchandreshwar was worshipped.
दर्शन के लिए श्रद्धालु कतार में, साल में एक बार होते हैं महाकालेश्वर मंदिर के शिखर पर स्थित श्री नागचंद्रेश्वर भगवान के
मंदिर दर्शन की यह है व्यवस्था
नागचंद्रेश्वर मंदिर पहुंचने के लिए अलग से कतार में लगना होगा। यह कतार चारधाम मंदिर से शुरू होगी। सोमवार रात 12 बजे पट खुलने के बाद मंगलवार को रात 12 बजे पट बंद होंगे। सामान्य श्रद्धालुओं को चारधाम मंदिर के जिगजैक से होकर हरसिद्धि चौराहा से बड़ा गणेश के सामने, गेट चार नंबर से विश्राम धाम पहुंचना होगा। यहां रेलिंग से नए ब्रिज से नागचंद्रेश्वर तक जाएंगे। निर्गम के लिए विश्राम धाम से होकर मार्बल गलियारे से मंदिर के मुख्य पालकी द्वार से बाहर होंगे। नागचंद्रेश्वर मंदिर में शीघ्र दर्शन टिकट लेने वाले दर्शनार्थी चारधाम से आकर हरसिद्धि से शामिल होकर दूसरी कतार से सामान्य दर्शनार्थी के साथ मंदिर पहुंचेंगे। मुख्य गेट से बाहर होकर हरसिद्धि तक पहुंचेंगे। नर्माल्य गेट से प्रवेश के बाद सभा मंडप के ऊपर से होकर रैंप से विश्राम धाम पहुंचकर नए ब्रिज से दर्शन करेंगे। विश्राम धाम होकर सभामंडप के ऊपर से रैंप से ही वापसी। कर्कराज मंदिर, नृसिंह घाट, कार्तिक मेला मैदान तरफ जूता स्टैंड, खोया-पाया केंद्र, लड्डू प्रसाद। नागचंद्रेश्वर और महाकालेश्वर मंदिर जाने के लिए अलग-अलग कतार रहेगी। आम श्रद्धालु नृसिंहघाट के सामने से होकर चारधाम जिगजैक से होकर हरसिद्धि चौराहा से बड़ा गणेश के सामने, गेट चार नंबर से विश्राम धाम पहुंचेंगे। शीघ्र दर्शन टिकट वाले चारधाम से हरसिद्धि से शामिल होकर दूसरी कतार से सामान्य दर्शनार्थी के साथ मंदिर पहुंचेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

BJP का महागठबंधन पर बड़ा हमला, सांबित पात्रा बोले- नीतीश-तेजस्वी के साथ आते ही बिहार में जंगलराज शुरूबिहार कैबिनेट पर दिल्ली में मंथन, आज शाम सोनिया गांधी से मिलेंगे तेजस्वी यादव, 2024 के PM कैंडिडेट पर बोले नीतीश कुमारCoronavirus News Live Updates in India : राजस्थान में एक्टिव मरीज 4 हजार के पारडिप्टी सीएम बनने के बाद आज पहली बार लालू यादव से मिलेंगे तेजस्वी यादव, मंत्रालयों के बंटवारे पर होगी चर्चाRajasthan BSP : 6 विधायकों के 'झटके' से उबरने की कवायद, सुप्रीमो Mayawati की 'हिदायत' पर हो रहा कामउत्तर प्रदेश में बैन होगी 'लाल सिंह चड्ढा'? हिन्दू संगठन ने विरोध प्रदर्शन कर CM से की प्रतिबंध लगाने की मांगJammu Kashmir: कश्मीर में एक और बिहारी मजदूर की हत्या, बांदीपोरा में आतंकियों ने मोहम्मद अमरेज को मारी गोलीबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 'बिहार वृक्ष सुरक्षा दिवस' कार्यक्रम में हुए शामिल, पेड़ को बांधी राखी, कहा - वृक्ष की भी होनी चाहिए रक्षा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.