UP के उन्नाव में लव जिहाद का मामला आने से मचा हड़कंप, पुलिस की हीला हवाली से रोष

- हिंदू जागरण मंच ने कहा पुलिस अधिकारी धूमिल कर रहे हैं योगी शासन की छवि को

- 24 घंटे बाद एसपी के निर्देश पर लिखा गया मुकदमा

- नाबालिग बेटी की मां आंखों में आंसू लेकर एसपी आवास पर करती गई फरियाद

By: Narendra Awasthi

Published: 06 Sep 2020, 02:35 PM IST

उन्नाव. उत्तरप्रदेश के उन्नाव में लव जिहाद का मामला सामने आने के बाद हड़कंप मचा हुआ है। एसपी आवास पर पीड़ित मां ने बताया कि उसकी पुत्री को गांव के ही रहने वाले हसीब पुत्र हसीन अपनी जाल में फंसा कर कहीं ले गया है। उसकी पुत्री की जान खतरे में है। एसपी के क्वॉरेंटाइन मैं होने के कारण पीआरओ ने तत्काल बांगरमऊ कोतवाली प्रभारी से बातचीत कर अभियोग पंजीकृत करने का निर्देश दिया लेकिन बांगरमऊ कोतवाली पुलिस अपनी फर्स्ट कार्यप्रणाली के कारण एफ आई आर दर्ज करने का मामला टालती रही। देर रात बांगरमऊ पुलिस ने अभियोग आईपीसी की धारा 363/ 366 के अंतर्गत पंजीकृत किया है।

 

बांगरमऊ कोतवाली क्षेत्र की घटना

घटना बांगरमऊ कोतवाली क्षेत्र कस्बा की है। एसपी आवास पर पीड़िता की मां ने बताया कि पड़ोस में रहने वाले बिलासा पत्नी बालक राम, सुनीता पत्नी कैलाश, दीपक पुत्र कैलाश, अंकित पुत्र बालकराम, प्रदीप पुत्र रामसनेही आदि मेरी नाबालिग बेटी को अपने घर बुला ले गए। जहां उसने हसीब पुत्र हसीन और उसके साथियों के साथ भगा दिया। काफी देर खोजने के बाद मैं कैलाश के दरवाजे पर बेटी का अपहरण करने वालों के चप्पल और मोबाइल पड़ा मिला। उन्होंने बताया कि इस संबंध में कोतवाली प्रभारी बांगरमऊ को तहरीर, मोबाइल व चप्पल दे कर बेटी की सुरक्षित वापसी की गुहार लगाई। लेकिन दिनभर बैठाए रखने के बाद भी बांगरमऊ कोतवाली पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। जिसके बाद उन्हें एसपी से गुहार लगाने के लिए आना पड़ा।

विमल द्विवेदी ने कहा

एसपी आवास पर हिंदू जागरण मंच के प्रांतीय मंत्री व प्रभारी विमल द्विवेदी ने बांगरमऊ कोतवाली प्रभारी पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि लव जिहाद जैसे मामले में पुलिस ने सक्रियता दिखानी चाहिए। लेकिन बांगरमऊ प्रभारी ने ऐसा नहीं किया। यही कारण है कि पुलिस अधीक्षक के आदेश के बाद अभियोग पंजीकृत हो रहा है। ऐसे पुलिस अधिकारियों की वजह से योगी सरकार की छवि धूमिल हो रही है। उन्होंने योगी सरकार और एसपी से बांगरमऊ कोतवाली प्रभारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। साथ ही लव जिहाद जैसे मामले में शुरुआती जांच में तेजी लाने की भी मांग की।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned