scriptसंवाद सेतु कार्यक्रम से निकलेगा जनता की समस्याओं का हल | Patrika Pradhan Sampadak Gulab Kothari Samvad Setu Programme in UP | Patrika News
live--icon/ Updated

संवाद सेतु कार्यक्रम से निकलेगा जनता की समस्याओं का हल

राजस्थान पत्रिका समूह का संवाद सेतु कार्यक्रम जनता की बात सरकार तक और सरकार की बात जनता तक पहुंचाने का एक माध्यम है। पत्रिका ग्रुप लंबे समय से यह कार्यक्रम कर रहा है।

लखनऊ

Updated: December 07, 2021 03:06:06 pm

प्रमुख अपडेट
Patrika Samvad Setu raise public issue of Uttar Pradesh

Dec 07, 2021 | 02:22 PM (IST)

उत्तर प्रदेश के ताजा राजनीतिक हालात

दिल्ली का रास्ता यूपी से होकर जाता है, यह राजनीतिक जुमला यूं ही नहीं है। देश की सबसे बड़ी विधानसभा यूपी में है जहां 403 सीटें हैं। अगले कुछ महीनों बाद यूपी की 18वीं विधानसभा के लिए चुनाव होने हैं। ठंड के इस मौसम में इसीलिए राजनीतिक दलों के पसीनें छूट रहे हैं। चुनावी तपिश बढ़ गयी है और सभी दल चुनावी तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटे हैं। प्रत्याशियों की घोषणा में बसपा सबसे आगे है। उसके आधे से अधिक प्रत्याशी बिना किसी शोर-शराबे के घोषित किए जा चुके हैं। कांग्रेस ने 40 प्रतिशत महिलाओं को टिकट देने की घोषणा की है। स्क्रीनिंग कमेटी प्रत्याशियों के नाम तय करने में जुटी है। सपा ने अभी प्रत्याशी घोषित नहीं किए हैं। छोटे दलों को जोड़कर सपा सूबे में सबसे बड़ा गठबंधन बनने की ओर है। सपा के साथ सुभासपा, रालोद, अपनादल (कमेरा गुट) और महान दल आ चुके हैं। शिवपाल सिंह यादव के प्रसपा को लेकर अभी असमंजस की स्थिति है। फिलहाल विजय रथ पर सवार सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव राजनीतिक माहौल को भांपने के लिए सूबे के दौरे पर हैं। बसपा और कांग्रेस ने अकेले मैदान में उतरने की एलान किया है।

भाजपा के साथ निषाद पार्टी और अपना दल हैं। पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ केंद्र व प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार में जुटे हैं। फिलहाल भाजपा छह चुनावी यात्राओं के जरिए वोटरों को अपने पक्ष में करने में ज़ुटी है। प्रियंका गांधी की अगुआई में कांग्रेस पार्टी जमीनी स्तर पर इस बार सबसे ज्यादा सक्रिय दिख रही है। जबकि, नेताओं की भगदड़ के बाद बसपा नये सिरे से चुनावी तैयारियों में जुटी है। 2017 में बसपा को 19 सीटों पर जीत मिली थी, अब जिनमें से पार्टी के साथ महज 5 विधायक बचे हैं। इनमें से एक मुख्तार अंसारी जेल में हैं। बाकी या तो पार्टी छोड़ गये या फिर मायावती ने उन्हें निष्कासित कर दिया।

असदुद्दीन ओवैसी की एआइएमआइएम और अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी प्रदेश में अपने लिए जमीन तलाश रही हैं। क्षेत्रीय क्षत्रप रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजाभैया का जनसत्ता दल भी पहली बार मैदान में है। राजाभैया सपा या भाजपा से गठजोड़ की संभावनाएं तलाश रहे हैं। बिहार का वीआइपी दल, तृणमूल कांग्रेस, जदयू और राजद भी अपने प्रत्याशी मैदान में उतारने की तैयारी में हैं।

उत्तर प्रदेश में इन दिनों धड़ाधड़ शिलान्यास और लोकार्पण जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के हर हफ्ते दौरे लग रहे हैं। आरएसएस और उसके आनुषंगिक संगठन भी बीजेपी के पक्ष में माहौल तैयार करने में जुटे हैं। विपक्षी दलों का दावा है कि उत्तर प्रदेश के मतदाता इस बार भाजपा को सत्ता से दूर करेंगे। किसानों की दुर्दशा, गन्ना किसानों का भुगतान, नौकरियों और प्रतियोगी परीक्षाओं में भ्रष्टाचार, महंगाई, रोजगार और कानून-व्यवस्था अभी तक प्रमुख चुनावीमुद्दा बना हुआ है। पुरानी पेंशन की बहाली को लेकर कर्मचारी आंदोलित हैं। उन्हें लगता है किसान बिल की तरह पेंशन बहाली पर सरकार निर्णय ले सकती है। वहीं, भारतीय जनता पार्टी विपक्षी दलों को नाकारा करार देते हुए प्रदेश में विकास की बयार बहने का दावा कर रही है। पूर्वांचल एक्सप्रेस के साथ हर जिले में मेडिकल कालेज, इंटरनेशनल एयरपोर्ट, गोरखपुर, आगरा, कानपुर में मेट्रो ट्रेन, गोरखपुर में खाद कारखाने का उद्घाटन विकास के प्रतीक के रूप में गिनाए जा रहे हैं। पश्चिमी यूपी और पूर्वी यूपी की राजनीति इस बार भी अलग-अलग मुद्दों पर बंटी दिख रही है। पश्चिम में किसान भाजपा से नाराज दिख रहे हैं। तो पूर्वी यूपी में जातीय समीकरण पार्टियों की पेशानी पर पसीना ला रहा है। मतदाता खामोश हैं। समय बताएगा ऊंट किस करवट बैठेगा।

 

Dec 07, 2021 | 02:45 PM (IST)

2022 में भाजपा-सपा के सहयोगी दल

बीजेपी के सहयोगी दल
- अपना दल (एस)
- निषाद पार्टी
- प्रगतिशील समाज पार्टी
- सामाजिक न्याय नव लोक पार्टी
- राष्ट्रीय जलवंशी क्रांतिदल
- मानव क्रंति पार्टी

समाजवादी पार्टी के सहयोगी दल
- राष्ट्रीय लोकदल
- महान दल
- सुभासपा
- अपना दल (कमेरावादी)
- जनवादी पार्टी सोशलिस्ट
- पॉलिटिकल जस्टिस पार्टी
- कांशीराम बहुजन मूल समाज पार्टी
- लेबर एस पार्टी
- भारतीय किसान सेना
- कांशीराम बहुजन मूल समाज पार्टी

Dec 07, 2021 | 02:25 PM (IST)

यूपी विधानसभा चुनाव 2017 एक नजर में

यूपी चुनाव 2017 में किसको कितनी मिलीं सीटें
- कुल सीटें-403
- भाजपा-312
- समाजवादी पार्टी- 47
- बहुजन समाज पार्टी-19
- अपना दल (एस)- 09
- सुभासपा- 04
- निषाद पार्टी- 01
- रालोद- 01
- निर्दलीय-03
वोट प्रतिशत
- भाजपा- 39.7 प्रतिशत
- सपा-21.8 प्रतिशत
- बसपा- 22.2 प्रतिशत
- कांग्रेस- 6.27 प्रतिशत
- अपना दल- 01 प्रतिशत
- अन्य- 9.1 प्रतिशत

Dec 07, 2021 | 02:15 PM (IST)

राजस्थान पत्रिका समूह का संवाद सेतु कार्यक्रम

लखनऊ. पत्रिका का संवाद सेतु कार्यक्रम जनता की बात सरकार तक और सरकार की बात जनता तक पहुंचाने का एक माध्यम है। पत्रिका ग्रुप का मानना है कि जनता और समाचार पत्र के बीच सीधा-सीधा संवाद होना चाहिए, ताकि जनता के मुद्दे सरकार तक और सरकार की बातें जनता तक पहुंच सकें। जनता की बात सरकार तक और सरकार की बात जनता तक पहुंचाने के लिए पत्रिका ग्रुप लंबे समय से संवाद सेतु कार्यक्रम कर रहा है। संवाद सेतु कार्यक्रम को पत्रिका ग्रुप के प्रधान संपादक गुलाब कोठारी संबोधित करते हैं। कार्यक्रम में शहर के प्रबुद्ध लोग एकत्र होते हैं, जिसमें जिले की कम से कम पांच प्रमुख समस्याओं पर विस्तार से चर्चा होती है। कार्यक्रम में यह सवाल जानने की कोशिश की जाती है कि इन समस्याओं के लिए जिम्मेदार कौन है और उसका निदान क्या है? इस मंथन जो निष्कर्ष निकलता है पत्रिका ग्रुप अपने संसाधनों (टीवी, डिजिटल और इलेक्ट्रॉनिक) से उसे उठाता है। ताकि जनता की बातें सरकार तक पहुंचे और सरकार उनका निदान कर सके। इन्हीं मुद्दों के आधार पर पत्रिका ग्रुप जिलों का विजन डॉक्यूमेंट जारी करता है।

पत्रिका ग्रुप यह नहीं मानता है कि मीडिया लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ है। क्योंकि अगर खुद को चौथा स्तम्भ मानेंगे तो आप भी उसी सिस्टम का एक हिस्सा बन जाएंगे। न्यायपालिका, कार्यपालिका और व्यवस्थापिका की तरह आप भी खुद के लिए स्पेशल प्रिविलेज की मांग करेंगे। और जब भी कोई स्पेशल प्रिविलेज की मांग करता है वह जनता की समस्याओं से दूर हो जाता है। राजस्थान पत्रिका ग्रुप का मानना है कि चौथा स्तम्भ जैसी कोई बात नहीं होती है। जनता के बीच जाकर जनता की समस्याओं को जानना चाहिए। इसी क्रम में पत्रिका समूह के प्रधान संपादक गुलाब कोठारी और समूह संपादक भुवनेश जैन 09 दिसंबर को उत्तर प्रदेश में रहेंगे।

यह भी पढ़ें : शेखावाटी के विकास में सेतु बनेगा कोठारी का संवाद

अगली खबर
right--arrow
PM Modi Visit Meerut: PM मोदी बोलें- पहले अपराधी खेल खेलते थे, अब योगी सरकार अपराधियों के साथ जेल-जेल खेल रही
PM Modi Visit Meerut: PM मोदी बोलें- पहले अपराधी खेल खेलते थे, अब योगी सरकार अपराधियों के साथ जेल-जेल खेल रही

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

Corona cases in india: पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2.35 लाख केस, 871 की मौत, संक्रमण दर हुई 13.39%UP Assembly Election 2022: सपा के बाद अब बीजेपी ने भी खोले पत्ते, जातीय समीकरण साध विपक्ष की गणित बिगाड़ने की कोशिशUP Assembly Elections 2022: भाजपा ने किसानों से झूठा वादा किया, उन्हें धोखा दिया, प्रेस कांफ्रेंस में बोले अखिलेशदिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू खत्म, आज से नई गाइडलाइंस के साथ मेट्रो सेवाएं शुरूमुस्लिम वोटों को लुभाने के लिए बसपा ने किया बड़ा खेल, बाकी हैराननहीं बदला जाएगा नौकरशाही का मुखिया, एक्सटेंशन के लिए फाइल सरकार ने केंद्र को भेजीCISF Recruitment 2022: सीआईएसएफ में फायरमैन कांस्टेबल के लिए बंपर भर्ती, 12वीं पास आज से करें आवेदनखतरनाक साइड इफैक्ट : इलाज के बाद ठीक हुए मरीजों पर आइआइटी का शोध, खराब हो रहे ये अंग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.