अखिलेश यादव ने गठबंधन से अलग होने का किया इशारा, कहा 2022 में बनेगी सपा की सरकार

अखिलेश यादव ने गठबंधन से अलग होने का किया इशारा, कहा 2022 में बनेगी सपा की सरकार
Akhilesh yadav

Devesh Singh | Updated: 04 Jun 2019, 12:27:48 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

मायावती ने पहले ही लगा दिया है गठबंधन पर ब्रेक, जानिए क्यों टूट रहा सपा व बसपा का रिश्ता

वाराणसी. सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी गठबंधन से अलग होने का संकेत दिया है। अखिलेश यादव ने आजमगढ़ में गठबंधन को लेकर कोई बयान नहीं दिया है लेकिन इतना अवश्य कहा है कि यूपी में वर्ष 2022 में फिर से सपा की सरकार बनेगी। अखिलेश यादव के बयान से साफ हो जाता है कि सपा अब अकेले ही चुनाव लड़ सकती है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने पहले ही प्रेस कांफ्रेंस करके सपा के साथ गठबंधन पर ब्रेक लगा दिया है ऐसे में अखिलेश यादव के पास अकेले चुनाव लडऩे के अतिरिक्त अन्य विकल्प नहीं बचा है।
यह भी पढ़े:-जेब में नोट की गड्डी लेकर जेल गये बाहुबली अतीक अहमद, फोटो से हुआ खुलासा



लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी के रोकने के लिए सपा व बसपा से गठबंधन किया था। गठबंधन का सबसे अधिक लाभ मायावती को हुआ है। वर्ष 2014 में बसपा के एक भी सांसद नहीं थी लेकिन सपा गठबंधन के चलते बसपा के 10 सांसद हो गये है, जबकि सपा के पांच ही सांसद है। इतने सांसद पहले भी थे। बड़ा सवाल है कि लाभ होने के बाद भी बसपा सुप्रीमो मायावती ने गठबंधन पर ब्रेक लगाने का निर्णय क्यों किया है। सूत्रों की माने तो यूपी की 11 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के चलते ही सपा व बसपा गठबंधन पर ब्रेक लगा है। बसपा कभी उपचुनाव नहीं लड़ती है इसलिए यूपी की 11 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में सपा ने सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारने की तैयारी की थी और बसपा से समर्थन मांगा था। सूत्रों की माने तो बसपा ने समर्थन देने की जगह खुद ही चुनाव लडऩे का ऐलान कर दिया है इसके बाद से ही सपा व बसपा गठबंधन में ब्रेक लग गया है।
यह भी पढ़े:-प्रिंटिंग प्रेस के मालिक व UPPSC की परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार से आमने-सामने की जायेगी पूछताछ

 

मायावती व अखिलेश ने नहीं किये एक-दूसरे पर हमले
बसपा सुप्रीमो मायावती ने भले ही गठबंधन पर ब्रेक लगा दिया है लेकिन उन्होंने अखिलेश यादव पर किसी तरह का हमला नहीं किया है। मायावती ने यह तक कहा कि अखिलेश यादव व डिंपल यादव ने उनका बहुत सम्मान किया है। इसी तरह अखिलेश यादव ने वर्ष 2022 में सपा सरकार बनने की बात तो कही है लेकिन गठबंधन को लेकर किसी तरह का बयान नहीं दिया है। इसके पीछे यूपी चुनाव 2022 माना जा रहा है। सपा व बसपा जानते हैं कि गठबंधन को लेकर एक-दूसरे पर हमलावर हो जाते हैं तो बीजेपी की राह आसान हो जाती है। ऐसे में सपा व बसपा भले ही गठबंधन से अलग हो जाये। लेकिन ऐसी स्थिति नहीं बने कि जरूरत पडऩे पर फिर गठबंधन न हो सके। इसके चलते ही दोनों नेता एक-दूसरे का सम्मान देना नहीं भूल रहे हैं।
यह भी पढ़े:-मुलायम की राह पर चले अखिलेश यादव तो उठानी पड़ सकती है बड़ी परेशानी

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned