scriptCoal Quality Management Research Centre will Open in IIT BHU | देश का पहला कोयला क्वालिटी मैनेजमेंट रिसर्च सेंटर आईआईटी बीएचयू में खुलेगा | Patrika News

देश का पहला कोयला क्वालिटी मैनेजमेंट रिसर्च सेंटर आईआईटी बीएचयू में खुलेगा

  • नाॅर्दन कोल फील्ड्स लिमिटेड के सहयोग से होगी रिसर्च सेंटर की स्थापना
  • बीएचयू के माईनिंग इंजीनियरिंग विभाग और एनसीएल में साइन हुआ एमओयू

वाराणसी

Published: January 14, 2021 11:55:19 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. आईआईटी बीएचयू में नार्दर्न कोलफील्ड्स के सहयोग से देश का अपनी तरह का पहला कोयला गुणवत्ता प्रबंधन और उपयोग अनुसंधान केंद्र (Coal Quality Management & Utilization Research Centre) स्थापित किया जाएगा। इसके लिये दोनों में एमओयू समझौता हो गया है। यह रिसर्च सेंटर स्वच्छ कोयला प्रौद्योगिकी पर रिसर्च के लिये अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस होगा। यह अपनी तरह का पहला अकादमिक केन्द्र होगा जो कोयले की क्वालिटी इम्प्रूव और उसकी ग्रेडिंग करेगा। जहां नार्दर्न कोल फील्ड्स लिमिटेड भारत की एक मिनी रत्न कंपनी है वहीं आईआईटी बीएचयू का खनन इंजीनियरिंग विभाग 1923 में स्थापित हुआ देश का सबसे पुराना खनन इंजीनियरिंग विभाग है।

coal_reaserch.jpg


बीएचयू आईआईटी के डायरेक्टर प्रो. प्रमोद कुमार जैन ने बताया है कि सतत खनन के साथ स्वच्छ कोयले की आवश्यकता और खनन के कार्बन फुटप्रिंट को कम करने को वैश्विक और राष्ट्रीय अनुसंधान विषय के रूप में पहचाना गया है। इस विषय को ध्यान में रखते हुए, कोयला गुणवत्ता प्रबंधन और उपयोग केंद्र की कल्पना की गई थी। उन्होंने आश्वासन दिया कि आईआईटी (बीएचयू) और एनसीएल के इस वैज्ञानिक और सामूहिक प्रयासों से कोयला उपभोक्ताओं को एक स्थान पर सस्ती, कारगर और स्वच्छ कोयला की आपूर्ति हो सकेगी साथ ही पेरिस समझौते के अनुसार कार्बन उत्सर्जन में कमी भी आएगी। उन्होंने बताया कि संस्थान तकनीकी ज्ञान के संदर्भ में कोल इंडस्ट्री के लिये मैन पावर प्रशिक्षण में और उपभोक्ताओं को सुविधा प्रदान करेगा।


कोयले की वास्तविक गुणवत्ता और उसका ग्रेड जानने के लिये इस केन्द्र की सुविधाओं का लाभ कोयला उपभोग करने वाली इकाइयां और कोयला व्यापारी उठा सकते हैं। इस केन्द्र की स्थापना का मकसद कोयला उत्पादन और उपभोग क्षेत्रों में सहयोग से अधिक से अधिक रिसर्च और मैनपावर स्किल को बढ़ाना है। इसके साथ ही उद्योग के पेशेवरों को भी अपनी शैक्षिक योग्यता बढ़ाने और अनुसंधान व प्रशिक्षण के माध्यम से कौशन उन्नयन करने के लये आमंत्रित किया जाएगा। एनसीएल के साथ एमओयू के माध्यम से आईआईटी (बीएचयू) पहले ही संयुक्त पीएचडी कार्यक्रमों आरंभ कर चुका है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Britain के पीएम बोरिस जॉनसन ने दिया इस्तीफा, जानें वो 'एक फैसला' जिससे गई कुर्सीपीएम नरेंद्र मोदी ने अखिल भारतीय शैक्षिक समागम का किया उद्धाटन बोले नई शिक्षा नीति मातृभाषा में पढ़ाई के रास्ते खोल रहीलालू प्रसाद यादव की हालत नाजुक, तेजस्वी यादव बोले - '3 जगह फ्रैक्चर, दवा के ओवरडोज से तबीयत बेहद बिगड़ी'Jammu-Kashmir: उधमपुर के रामनगर में खाई में गिरी बरातियों से भरी बस, 3 की मौत, 21 घायलMumbai: देवनार में 2,500 किलोग्राम से अधिक गोमांस जब्त, पुलिस ने 10 लोगों को किया गिरफ्तारKarnataka: बागलकोट जिले के केरूर में हिंसा, चार घायल, तीन गिरफ्तारBhagwant Mann Marriage Live Updates: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को अरविंद केजरीवाल ने दी बधाईMumbai: कन्हैया लाल का समर्थन करने पर नाबालिग लड़की को मिली जान से मारने की धमकी, जानें पूरा मामला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.