कृषि सुधारों का लाभ उठाकर अपनी आय बढ़ाएंगे किसान, विपक्ष फैला रहा भ्रम : पीएम नरेंद्र मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि मुझे एहसास है कि दशकों का छलावा किसानों को आशंकित करता है, लेकिन अब छल से नहीं गंगाजल जैसी पवित्र नीयत के साथ काम किया जा रहा है।

By: Hariom Dwivedi

Published: 30 Nov 2020, 05:10 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
वाराणसी. देव दीपावली पर काशी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों को सीधा संदेश दिया। भाषण में ज्यादातर वक्त वह किसानों के लिए सरकार की प्रतिबद्धता का जिक्र करते रहे। वहीं, विपक्षी दलों को आड़े हाथ लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नये कृषि कानून को लेकर आशंकाओं के आधार पर भ्रम फैलाने वालों की सच्चाई लगातार देश के सामने आ रही है। जब एक विषय पर इनका झूठ किसान समझ जाते हैं, तो ये दूसरे विषय पर झूठ फैलाने लगते हैं। यही वह लोग हैं जो पीएम किसान सम्मान निधि को लेकर लोग सवाल उठाते थे। अफवाह फैलाते थे कि चुनाव को देखते हुए ये पैसा दिया जा रहा है और चुनाव के बाद यही पैसा ब्याज सहित वापस देना पड़ेगा। देश के 10 करोड़ से ज्यादा किसान परिवारों के बैंक खाते में सीधी मदद दी जा रही है। अब तक इसका लाभ लगभग 1 लाख करोड़ रुपए किसानों तक पहुंच भी चुका है। पीएम मोदी ने कहाकि मुझे एहसास है कि दशकों का छलावा किसानों को आशंकित करता है, लेकिन अब छल से नहीं गंगाजल जैसी पवित्र नीयत के साथ काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कृषि सुधारों को लेकर जिन किसानों की कुछ चिंताएं व कुछ सवाल हैं, सरकार उनका निरंतर जवाब भी दे रही है। हमारी सरकार तो मंडियों को आधुनिक बनाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर रही है। उम्मीद है कि कृषि सुधारों का लाभ उठाकर, किसान अपनी आय बढ़ाएंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमने वादा किया था कि स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश के अनुकूल लागत का डेढ़ गुणा एमएसपी देंगे। यह वादा सिर्फ कागज़ों पर ही पूरा नहीं किया गया, बल्कि किसानों के बैंक खाते तक पहुंचाया है। आंकड़ों का जिक्र करते हुए कहा कि 2014 से पहले के 5 सालों में गेहूं की खरीद पर डेढ़ लाख करोड़ रुपए के आसपास ही किसानों को मिला। वहीं हमारे 5 सालों में 3 लाख करोड़ रुपए गेहूं किसानों को मिल चुका है यानि लगभग 2 गुणा। ऐसी ही ढाई गुना गेहूं की और 75 गुणा दालों की खरीदी की गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमने कहा था कि हम यूरिया की कालाबाज़ारी रोकेंगे और किसान को पर्याप्त यूरिया देंगे। बीते 6 साल में यूरिया की कमी नहीं होने दी। यहां तक कि लॉकडाउन तक में जब हर गतिविधि बंद थी, तब भी दिक्कत नहीं आने दी गई।

नये कृषि सुधारों से किसानों को मिला संरक्षण
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नए कृषि सुधारों से किसानों को नए विकल्प और नए कानूनी संरक्षण दिए गए हैं। पहले मंडी के बाहर हुए लेनदेन ही गैरकानूनी थे। अब छोटा किसान भी, मंडी से बाहर हुए हर सौदे को लेकर कानूनी कार्यवाही कर सकता है। किसान को अब नए विकल्प भी मिले हैं और धोखे से कानूनी संरक्षण भी मिला है। उन्होंने कहा कि सरकारें नीतियां बनाती हैं, कानून-कायदे बनाती हैं। नीतियों और कानूनों को समर्थन भी मिलता है तो कुछ सवाल भी स्वभाविक ही है। ये लोकतंत्र का हिस्सा है और भारत में ये जीवंत परंपरा रही है।

अब विरोध का आधार फैसला नहीं बल्कि आशंका
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले कुछ समय से एक अलग ही ट्रेंड देश में देखने को मिल रहा है। पहले होता ये था कि सरकार का कोई फैसला अगर किसी को पसंद नहीं आता था तो उसका विरोध होता था। लेकिन अब विरोध का आधार फैसला नहीं बल्कि आशंकाओं को बनाया जा रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि पहले किसानों के नाम पर बड़ी-बड़ी योजनाएं घोषित होती थीं, लेकिन वो खुद मानते थे कि 1 रुपए में से सिर्फ 15 पैसे ही किसान तक पहुंचते थे। यानी तब योजनाओं के नाम पर छल हो रहा था। लेकिन, अब पाई-पाई किसानों के खाते में पहुंच रही है।

यह भी पढ़ें : वाराणसी में किसानों के मुद्दों पर खुलकर बोले पीएम मोदी, 11 प्वाइंट्स में समझिए भाषण की खास बातें

Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned