Raksha bandhan 2019: भाई की कलाई पर भूलकर भी न बांधे ये राखियां, आ सकती है मुसीबत

इन राखियों से दिन हो सकता हैं अशुभ

By: sarveshwari Mishra

Published: 14 Aug 2019, 10:00 AM IST

वाराणसी. श्रावण मास की पूर्णिमा को रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधकर अपने भाई के लम्बी उम्र की कामना करती हैं। मार्केट में कई तरह की राखियां भी सज गई हैं। लेकिन आप अपने भाई को ऐसी राखियां न बांध दें जिससे उसकी लम्बी उम्र के बजाय उसपर मुसीबत आ जाए। इसलिए आप भूलकर भी भाई की कलाई पर इस तरह की राखियां न बांधे। चलिए हम आपको बताते हैं कौन सी है वो राखियां जिन्हें आपको अपने भाई (Brother) की कलाई पर बिल्कुल भी बांधनी चाहिए।

अशुभ चिन्हों वाली राखियां होती हैं बेहद खराब
अक्सर देखा जाता है कि लोग फैशन और ट्रेंड को देखते हुए मार्केट से राखियां खरीद लेते हैं। लेकिन वह ये बाते ध्यान नहीं रखते कि वह जिन राखियों का चुनाव किए हैं उसमें कुछ ऐसा तो नहीं जिससे उसके भाई पर मुसीबत आ सकती है। हिंदू धर्म में कई सारे चिन्हों को अशुभ बताया गया है। जिनका शुभ मुहूर्त में इस्तेमाल करने पर संकट के बादल मंडरा सकते हैं या वह दिन अशुभ हो सकता है। तो आप उन चिन्हों को जरूर जान लें कि आपके ऊपर क्या मुसीबत ला सकते हैं।

न बांधे काले रंग की राखी
हिंदू धर्म में शुभ में काले रंग को अशुभ माना जाता है। इसलिए रक्षाबंधन पर अपने भाई के हाथ में काले रंग की राखी बिल्कुल न बांधे। शास्त्रों की माने तो काले रंग का सीधा संबंध शनि देव से होता है। शनि देव को हमेशा हर काम में विलम्ब करने वाला ग्रह माना जाता है। इसी के चलते काले रंग की राखी बांधने को अशुभ माना गया है।

न बांधे प्लास्टिक की राखियां
भाई की कलाई पर प्लास्टिक की राखी बिल्कुल न बांधे। ऐसा इसलिए क्योंकि प्लास्टिक अशुद्ध माना जाता है। यह जानवरों की चर्बी और हड्डियों से बनाया जाता है। इसलिए भूलकर भी आप अपने आपको प्लास्टिक की राखियां न बांधे।

न बांधे भगवान के चित्र वाली राखी
कभी भी भूलकर भी भाई की कलाई पर भगवान वाले चित्र की राखी न बांधें। इससे अगर कभी गलती से भी राखी खुलकर गिर गई और किसी के पैर लग गए तो बेवजह भाई इस पाप का भागीदार बन जाएगा।

sarveshwari Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned