scriptIn This Bihar Village,People Vacate Their Homes For 12 Hour Every Year | बिहार का एक ऐसा गांव जहां 12 घंटे के लिए जंगल चले जाते हैं लोग, जाते वक्त घरों में ताले तक नहीं लगाते | Patrika News

बिहार का एक ऐसा गांव जहां 12 घंटे के लिए जंगल चले जाते हैं लोग, जाते वक्त घरों में ताले तक नहीं लगाते

बिहार के इस गांव में वर्षों पुरानी परंपरा आज भी जीवंत है। यहां बैसाख के नवमी तिथि को गांव के लोग अपना-अपना घर छोड़कर 12 घंटे के लिए गांव से बाहर जंगल में चले जाते हैं।

नई दिल्ली

Published: May 12, 2022 09:11:53 pm

भारत में ऐसी कई संस्कृतियां है जो आपको सोचने पर मजबूर कर देंगी, प्राचीन काल से ही अनेकों प्रथाओं का आज भी चलल है। ऐसी ही एक प्राचीन प्रथा के बारे में हम आपको बताने जा रहे है। जिसको आज भी लोग बड़ी शिद्दत के साथ निभाते हैं। बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले के बगहा के नौरंगिया गांव में वर्षो पुरानी परंपरा आज भी चली आ रही है। इस गांव के लोग प्रत्‍येक साल के बैसाख के नवमी के दिन 12 घंटों के लिए अपना घर छोड़ देते हैं। लेकिन सवाल यहां ये है कि ये लोग ऐसा क्यों करते हैं और इसके पीछे क्या मान्यता छिपी हुई है?
बिहार का एक ऐसा गांव जहां 12 घंटे के लिए जंगल चले जाते हैं लोग, जाते वक्त घरों में ताले तक नहीं लगाते
बिहार का एक ऐसा गांव जहां 12 घंटे के लिए जंगल चले जाते हैं लोग, जाते वक्त घरों में ताले तक नहीं लगाते
ग्रामीणों का कहना है कि ऐसा देवी को प्रसन्‍न करने के लिए किया जाता है। इस दौरान गांव में सन्‍नाटा पसरा रहता है। इसका लोगों की प्राचीन मान्यता है। यहां के लोगों का कहना है कि ऐसा करने से देवी प्रकोप से निजात मिलती है। इस प्रथा के चलते नवमी के दिन लोग अपने साथ-साथ मवेशियों को भी छोड़ने की हिम्मत नहीं करते हैं। लोग जंगल में जाकर वहीं, पूरा दिन बिताते हैं।
आधुनिकता के इस दौर में इस गांव के लोग अंधविश्वास की दुनिया में जी रहे हैं। इस गांव की स्थानीय निवासी कौशल्या देवी के अनुसार, "यह पुरानी प्रथा है। जो वर्षों से चली आ रही है। आज अगर हम लोग इस प्रथा को नहीं मानेंगे और घर में ही रहेंगे तो घर में आग लग जाएगी। एक दो नहीं बहुत सारे घरों में एक साथ आग लग जाती है। इसलिए हर साल हमलोग यह प्रथा मनाते है। जो हमारे पूर्वजों ने बताया है, उसे हम लोग ईमानदारी से निभा रहे हैं।"

यह भी पढ़ें

चक्रवातों के 'आइला', 'अम्फान', 'असानी' क्यों हैं अलग-अलग नाम, भविष्य के साइक्लोन के नाम अभी से हैं तय

बताया जाता है कि वर्षों पहले इस गांव में महामारी आई थी, उस दौरान गांव में आग लग जाती थी। चेचक, हैजा जैसी गंभीर बीमारियां फैल जाती थी। जिसके बाद वाल्मीकि टाइगर रिजर्व के जंगल में बसा नौरंगिया गांव के रहने वालों के अनुसार यहां रहने वाले बाबा परमहंस के सपने में देवी मां आई थीं। सपने में मां ने बाबा को गांव को बचाने का आदेश दिया था। सपने में देवी मां ने कहा था कि नवमी को गांव खाली कर पूरा गांव वनवास को जाए।
इसी दिन के बाद से यह परंपरा शुरू हो गई जो आज भी लोग निभाते आ रहे है। और इसी वजह से नवमी के दिन लोग अपने घर खाली कर भजनी कुट्टी में पूरा दिन बिताते हैं और मां दुर्गा की पूजा करते हैं। ये परंपरा वो पूरे उत्सव के साथ हर्षो-उल्लास से निभाते और मनाते हैं। जंगल में भी पिकनिक जैसा माहौल हो जाता है। और आपको बता दें जंगल में मेला भी लगाया जाता है। 12 घंटे गुजरने के बाद सभी अपने घर वापस आ जाते हैं। आपको बता दें, जब गांव के लोग जंगल में जाते हैं तो घर पर ताला भी नहीं लगा के जाते। पूरा घर खुला रहता है और हैरान करने वाली बात ये है कि तब यहां कोई चोरी भी नहीं होती।

यह भी पढ़ें

जवान बने रहने के लिए महिला ने किया 650 लड़कियों का कत्ल, खून से करती थी स्नान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

दिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यताअलगाववादी नेता यासीन मलिक आतंकवाद से जुड़े मामले में दोषी करार, 25 मई को होगी अगली सुनवाईज्ञानवापी मस्जिद-श्रृंगार गौरी विवाद : वाराणसी कोर्ट की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, शुक्रवार को होगी सुनवाईAssam Flood Situation: बाढ़ का जायजा लेने पहुंचे BJP विधायक को जवान ने पीठ पर लादकर नाव तक पहुंचायाउदयपुर नव संकल्प पर अमल: अब कांग्रेस भी बनेगी 'प्रोफेशनल', देशभर में 6500 पूर्णकालिक कार्यकर्ता नियुक्त करने की तैयारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.