scriptChina,Russia fighter jets flew near as PM Modi was at Quad meet: Japan | मोदी-बाइडेन टोक्यो में ही थे मौजूद, टोक्यो में क्वाड की बैठक के बीच जापानी एयरस्पेस के नजदीक मंडराते दिखे चीन और रूस के लड़ाकू विमान | Patrika News

मोदी-बाइडेन टोक्यो में ही थे मौजूद, टोक्यो में क्वाड की बैठक के बीच जापानी एयरस्पेस के नजदीक मंडराते दिखे चीन और रूस के लड़ाकू विमान

जापान के रक्षा मंत्री ने दावा किया कि चीनी और रूसी लड़ाकू विमानों ने मंगलवार को जापान के पास उस समय संयुक्त उड़ानें भरीं जब क्वाड ब्लॉक के नेता टोक्यो में मिले। जापान में क्वाड सम्मेलन के दौरान चीन व रूस ने मिलकर टोक्यो के पास फाइटर जेट्स उड़ाकर आंख दिखाने की कोशिश की है।

नई दिल्ली

Published: May 24, 2022 10:23:41 pm

जापान की राजधानी टोक्यो में क्वॉड देशों के राष्ट्राध्यक्षों की मीटिंग चल रही थी जिस दौरान चीन और रूस ने एक बेहद गंभीर हरकत की है। टोक्यो में मंगलवार को क्वाड समूह देशों के नेताओं ने क्वॉड समिट में हिस्सा लिया। क्वॉड समिट में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, ऑस्ट्रेलियाई पीएम एंथनी अल्बानीज, जापानी पीएम फुमियो किशिदा बैठक कर रहे थे उसी वक्त रूस और चीन के फाइटर जेट्स जापानी सीमा के करीब उड़ान भर रहे थे। इस बात की पुष्टि खुद जापान सरकार ने की है। जापान के रक्षा मंत्री नोबुओ किशी ने कहा कि सरकार ने उड़ानों को लेकर रूस और चीन के सामने गंभीर चिंता व्यक्त की है।
मोदी-बाइडेन टोक्यो में ही थे मौजूद, टोक्यो में क्वाड की बैठक के बीच जापानी एयरस्पेस के नजदीक मंडराते दिखे चीन और रूस के लड़ाकू विमान
मोदी-बाइडेन टोक्यो में ही थे मौजूद, टोक्यो में क्वाड की बैठक के बीच जापानी एयरस्पेस के नजदीक मंडराते दिखे चीन और रूस के लड़ाकू विमान
नोबुओ किशी ने कहा,"जब हम इंडो-पैसिफिक रीजन की सिक्योरिटी को लेकर ऑस्ट्रेलिया, भारत और अमेरिका के शीर्ष नेतृत्व के साथ बैठक कर रहे थे उस वक्त हमारी सीमा के करीब ऐसी हरकत चिंताजनक है।" उन्होंने कहा कि लड़ाकू विमानों ने हमारी सीमा क्षेत्र का उल्लंघन नहीं किया लेकिन नवंबर के बाद यह चौथी घटना है। ऐसा आज चौथी बार हुआ जब रूस और चीन के लड़ाकू विमानों ने हमारी सीमा के करीब उड़ान भरी।
जापानी रक्षा मंत्री ने बताया कि कुल चार विमानों, दो चीनी बॉम्बर्स और दो रूसी बॉम्बर्स, ने पूर्वी चीन सागर से प्रशांत महासागर की ओर संयुक्त उड़ान भरी। उन्होंने कहा कि खुफिया जानकारी इकट्ठा करने वाले एक रूसी विमान ने भी मंगलवार को मध्य जापान में उड़ान भरी। तो वहीं टोक्यो में हो रहे सम्मेलन के मद्देनजर इस कदम को खास तौर से 'उकसाने वाला' बताया जा रहा है।
रक्षा मंत्री ने कहा कि हमने देश और क्षेत्र की सुरक्षा के नजरिए से अपनी 'गंभीर चिंताओं' को राजनयिक माध्यमों से जाहिर किया है। जैसा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय यूक्रेन के खिलाफ रूस की आक्रमकता का जवाब देता है, यह तथ्य है कि चीन, रूस के साथ मिलकर ऐसी घटनाओं को अंजाम देता है जो कहीं से स्वीकार्य नहीं है। यह हमारे लिए चिंता का कारण है और इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।
बता दें, क्वॉड लीडर्स ने मंगलवार को कहा कि वे जबरन किसी भी तरह के कार्रवाई का विरोध करते हैं। हालांकि, उन्होंने सीधे रूस या चीन का नाम नहीं लिया। क्वॉड देशों ने इस मीटिंग में बेहद अहम फैसला किया जो की चीन के लिए फिक्रमंद होने का सबब है। चारों देशों ने फैसला किया है कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में इन्फ्रास्ट्रक्चर और इन्वेस्टमेंट बढ़ाने के लिए पांच साल में 50 अरब डॉलर खर्च किए जाएंगे। इस मीटिंग में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन भी शामिल हुए।
सरल भाषा में कहें तो इस बजट का मतलब यह है कि हिंद और प्रशांत क्षेत्र में चीन की दबदबे वाली हर चाल को चारों देश मिलकर खत्म करेंगे। चीन इस क्षेत्र के ज्यादातर हिस्सों को अपना क्षेत्र बताता है। चीन को दिक्कत यहां तक है कि वो हिंद-प्रशांत महासागर को इंडो-पैसिफिक की बजाए एशिया पैसिफिक कहना चाहता है। उसे इंडो-पैसिफिक शब्द पर ही ऐतराज है।

यह भी पढ़ें

'अब बाल्टी के लिए भी किडनी बेचना पड़ेगा, देवा रे देवा', Amazon पर 25,999 रु में मिल रही बाल्टी, Sold Out होने पर चौंक रहे नेटिज़ेंस

बताते चलें, जापान का रूस, चीन और साउथ कोरिया के साथ सीमा विवाद लंबे समय से चल रहा है, जिस वजह से इनके बीच संबंध ठीक नहीं हैं। भारत के साथ भी चीन का सीमा विवाद चल रहा है। सिर्फ यही देश नहीं पूरी दुनिया के चीन के आक्रामक नीति से परेशान है। तो वहीं इस बैठक में पीएम मोदी ने चीन को सख्‍त संदेश दिया। उन्होंने कहा कि क्‍वाड अच्‍छाई की ताकत के लिए बनाया गया संगठन है और यह हिंद प्रशांत क्षेत्र को बेहतर बना रहा है। उन्‍होंने कहा कि बहुत कम समय में क्‍वाड ने दुनिया में अपनी महत्‍वपूर्ण जगह बना ली है।
तो वहीं राष्‍ट्रपति जो बाइडन ने क्‍वाड श‍िखर बैठक में पीएम मोदी के सामने रूस पर तीखा हमला किया और कहा कि पुतिन यूक्रेन की संस्‍कृति को ही तबाह करना चाहते हैं। बाइडन ने यूक्रेन पर रूसी हमले को 'इतिहास का काला अध्‍याय' करार दिया और इसकी जमकर निंदा की।

यह भी पढ़ें

सेना का 'मिनी डिफेंस एक्सपो' कोलकाता में 6 से 9 जुलाई के बीच

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने मंत्रिमंडल विस्तार पर दिया बड़ा बयान, विदर्भ के विकास को लेकर भी कही यह बातएमपी के इन दो शहरों में हो सकता है G 20 शिखर सम्मेलन, शुरु हुई आयोजन की तैयारियांUdaipur kanhaiya lal Murder: चिकन शॉप से खुलेंगे कन्हैया हत्याकांड के राज...!सुपरटेक ट्विन टावर गिरने से आसपास नहीं होगा नुकसान, कंपनी ने तैयार किया खास प्लानदूल्हे भगवान जगन्नाथ को नहीं लगे नजर, पट हुए बंददूरियां कितनी हुई कम, एक ही दिन में बीजेपी के दो बड़े नेता अलग अलग समय पर पहुंचे कन्हैयालाल के घरPresident Election 2022 : पटना में द्रौपदी मुर्मू ने NDA के नेताओं से मांगा समर्थन, सीएम नीतीश से की मुलाकात, गुवाहाटी के लिए हुई रवानाभारी बारिश से मध्य प्रदेश में बाढ़ ही बाढ़, इन राज्यों से संपर्क टूटा, पुल से डेढ़ फीट ऊपर बह रही नदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.