scriptImran Khan and Bushra Bibi sentenced to 7 years in prison | इमरान खान और बुशरा बीबी को एक और जोर का झटका, गैर इस्‍लाम‍िक शादी के लिए मिली 7 साल की सज़ा | Patrika News

इमरान खान और बुशरा बीबी को एक और जोर का झटका, गैर इस्‍लाम‍िक शादी के लिए मिली 7 साल की सज़ा

locationनई दिल्लीPublished: Feb 03, 2024 09:51:11 pm

Submitted by:

Tanay Mishra

Another Big Blow To Imran Khan & Wife Bushra Bibi: इमरान खान के साथ उनकी पत्नी बुशरा बीबी को आज एक और बड़ा झटका लग गया है।

imran_khan_and_bushra_bibi.jpg
Imran Khan and Bushra Bibi

पाकिस्तान (Pakistan) के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) इस समय रावलपिंडी की अदियाला जेल में बंद हैं। साइफर मामले (Cypher Case) में इमरान को पाकिस्तान की एक अदालत ने 30 जनवरी को 10 साल की जेल की सज़ा सुनाई। इमरान के साथ ही उनकी सरकार में विदेश मंत्री रहे शाह महमूद कुरैशी (Shah Mahmood Qureshi) को भी 10 साल की जेल की सज़ा दी गई। इसके बाद 31 जनवरी को इमरान के साथ उनकी पत्नी बुशरा बीबी (Bushra Bibi) को तोशाखाना मामले (Toshakhana Case) में एक निचली अदालत ने 14 साल की जेल की सज़ा सुनाई। साथ ही दोनों पर 78.7 करोड़ रुपये रुपये का सामूहिक जुर्माना भी ठोका गया है। अब आज, शनिवार, 3 फरवरी को इमरान और बुशरा को एक और झटका लगा है।


गैर इस्‍लाम‍िक शादी के लिए मिली 7 साल की सज़ा

इमरान और बुशरा को गैर-इस्लामिक शादी के आरोप में 7-7 साल की जेल की सज़ा सुनाई गई है। साथ ही दोनों पर 5 लाख पाकिस्तानी रुपये का जुर्माना भी लगाया गया। इस मामले की सुनवाई अदियाला जेल में ही हुई।



कैसे है दोनों की शादी गैर-इस्लामिक?

बुशरा के पहले पति खावर मनेका ने आरोप लगाया गया था कि बुशरा ने तलाक के बाद इमरान से शादी करने के लिए अनिवार्य विराम या इद्दत का पालन करने की इस्लामी प्रथा का उल्लंघन किया था। इसी वजह से दोनों की शादी को गैर-इस्लामिक करार दिया गया है।

कहाँ काटेंगे दोनों सज़ा?

इमरान अदियाला जेल में ही रहेंगे। वहीं बुशरा को इमरान के इस्लामाबाद वाले घर में शिफ्ट किया गया है जिसे बुशरा के लिए जेल में बदल दिया गया है।

क्या है इमरान और बुशरा के पास विकल्प?

इमरान को साइफर मामले में 10 साल, तोशाखाना मामले में 14 साल और गैर-इस्लामिक शादी के मामले में 7 साल की सज़ा हुई है। वहीं बुशरा को तोशाखाना मामले में 14 साल और गैर-इस्लामिक शादी के मामले में 7 साल की सज़ा हुई है। दोनों इन सज़ाओं के खिलाफ हाईकोर्ट या सुप्रीम कोर्ट में अपील कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें

इंडोनेशिया में भूकंप, रिक्टर स्केल पर रही 5.1 की तीव्रता



ट्रेंडिंग वीडियो