scriptneelkantheshwar mandir nalkheda | इस मंदिर में जरूर आता है पांच मुखी नाग, चमत्कारिक है यह स्थान | Patrika News

इस मंदिर में जरूर आता है पांच मुखी नाग, चमत्कारिक है यह स्थान

नीलकण्ठेश्वर महादेव मंदिरः 1 शिवलिंग पर 1111 शिवलिंग, सावन में यहां साधना करने आते हैं पंचमुखी नागदेवता

अगार मालवा

Updated: August 05, 2022 01:56:53 pm

रामेश्वर खंडेलवाल

नलखेडा। शिव आराधना के लिए नगर सहित क्षेत्र में कईं प्राचीन शिवालय स्थित हैं। इनमें से ग्राम गोंदलमऊ में जो शिव मंदिर है, वहां ऐसा शिवलिंग स्थापित है जिस पर 1111 शिवलिंगों की आकृतियां उभरी हुई हैं। सावन में यहां भक्तों का मेला लगा रहता है।

nalkheda.png

नलखेड़ा से दक्षिण दिशा में 16 किमी दूर तहसील के ग्राम गोंदलमऊ के शिवमंदिर में स्थापित यह शिवलिंग गुप्तकाल का है। श्रावण मास में यहां शिवभक्तों का मेला लगा हुआ है। ऊंची पहाड़ी पर बसे इस मंदिर के समीप अति प्राचीन बावड़ी व धर्मशाला के अवशेष मौजूद हैं। मंदिर के समीप सैकडों वर्ष पुराना विशाल तालाब भी है जो 350 बीघा से भी अधिक भूमि पर फैला हुआ है। वहीं शिवलिंग को लेकर कई किवदंतियां हैं। बुजुर्गों के अनुसार एक चमत्कार यहां आज भी होता है। श्रावण और महाशिवरात्रि पर शिवलिंग की आराधना करने पंचमुखी नागदेवता यहां आते हैं।

ग्राम के विट्ठलप्रसाद, ईश्वरसिंह राजपूत ने बताया कि प्रतिवर्ष महाशिवरात्रि के दिन रात्रि में व श्रावण मास में एक बार पंचमुखी सफेद नागदेव भोलेनाथ के दर्शन के लिए आते हैं। ऐसी मान्यता है। नागदेेवता के दर्शन भी किसी बिरले शिवभक्त को होते हैं। नागदेव के दर्शन करने वाले मंदिर के पुजारी ने बताया कि नागराज आकर शिवलिंग पर लिपट जाते हैं।अपनी साधना पूर्ण कर अदृश्य हो जाते हैं।

ग्राम गोंदलमऊ ऊंची पहाडी पर बसा ग्राम है। इसका इतिहास पुरातन माना जाता है। किवदंतियों के अनुसार पुराने समय में यहां कोई तीर्थ स्थान रहा होगा, जो धूलकोट आने पर दब गया होगा। इसी काराण यहां खुदाई के दौरान पुरातन महत्व के अवशेष निलकते रहते हैं। वर्षों पूर्व एक स्थान की खुदाई के दौरान जैन धर्म की कईं प्राचीन मूर्तियों के अवशेष निकले थे, जो आज भी उज्जैन के जयसिंहपुरा स्थित जैन समाज के संग्रहालय में रखी हुई हैं। बावडी व धर्मशाला के अवशेष भी उसी समय के प्रतीत होते हैं। यदि यहां पुरातत्व विभाग द्वारा खुदाई की जावे तो युगों पूर्व की संस्कृति के अवशेष मिल सकते हैं।

प्रदेश में एकमात्र मध्यप्रदेश में यह एकमात्र ऐसा शिवलिंग है जिस पर 1111 शिवलिंग की आकृतियां उभरी हुई हैं, जिन्हें आज भी स्पष्ट देखा जा सकता है। यह शिवलिंग लाल पत्थर का बना है। ऐसा ही शिवलिंग राजस्थान की विश्वप्रसिद्ध चंद्रभागा नदी के किनारे है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

गालीबाज भाजपा नेता पर रखा गया 25 हजार का इनाम, 40 टीमें तलाश में जुटीMumbai: मनी लॉन्ड्रिंग केस में संजय राउत को बड़ा झटका, PMLA कोर्ट ने ED कस्टडी 22 अगस्त तक बढ़ाईMaharashtra Coal Scam: दिल्ली कोर्ट का फैसला- पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता को 3 और कंपनी डायरेक्टर को 4 साल की जेलबिहार में सियासी उलटफेर की आंशका, CM नीतीश कुमार ने सोनिया गांधी से की बात, सभी विधायकों को बुलाया पटनाखाटूश्यामजी हादसा: दो शवों की भी हुई शिनाख्त, पीएम मोदी ने जताया दुख, सीएम ने की जांच व मुआवजे की घोषणाMaharashtra: महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल विस्तार जल्द, जानें BJP में कब शुरू होगी प्रदेश अध्यक्ष बदलने की प्रक्रियावेंकैया नायडू को विदाई में पीएम मोदी भावुक, कहा - 'आपके साथ काम करना हमारा सौभाग्य'Bihar Politics: राजद और JDU मिल जाए तो बिहार में आराम से बन सकती है सरकार, जानिए क्या है आंकड़े
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.