मई में 864 महिलाओं ने अपनाया गर्भ निरोधक अंतरा, 21 जून को चलेगा विशेष अभियान

— परिवार नियोजन को बढ़ावा देेने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से चलाये जा रहे अभियान ने अंतरा त्रैमासिक गर्भ निरोधक इंजेक्शन को महिलाओं में अत्यन्त लोकप्रिय बना दिया है।

By: arun rawat

Published: 16 Jun 2019, 01:24 PM IST

आगरा। परिवार नियोजन को बढ़ावा देेने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से चलाये जा रहे अभियान ने अंतरा त्रैमासिक गर्भ निरोधक इंजेक्शन को महिलाओं में अत्यन्त लोकप्रिय बना दिया है। महिलाओं के प्रजनन और स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए जिले के सभी ग्रामीण व शहरी स्वास्थ्य केन्द्रों पर अंतरा त्रैमासिक गर्भ निरोधक इंजेक्शन की सुविधा उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें—

VIDEO: भारत की जीत के लिए सुहागनगरी में हुआ हवन यज्ञ, आज पाकिस्तान को मात देते देखना चाहते हैं फिरोजाबादवासी

 

 

21 जून को चलेगा विशेष अभियान
इनमें जिला पुरुष एवं महिला चिकित्सालय व एसएन मेडिकल कालेज शामिल हैं। फिर भी इस गर्भ निरोधक इंजेक्शन अंतरा की पहुंच अधिक से अधिक महिलाओं तक पहुंच बनाने के लिए आने वाले 21 जून को पूरे जिले में इसे एक विशेष अभियान के तहत उपलब्ध कराया जायेगा। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी फैमिली प्लानिंग डाॅ. रचना गुप्ता ने बताया कि मई में आगरा में कुल 864 महिलाओं ने अंतरा गर्भ निरोधक इंजेक्शन का लाभ लिया है। अंतरा सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों पर पूरी तरह से निःशुल्क है और लाभार्थी व प्रेरक आशा को प्रत्येक बार अंतरा त्रैमासिक इंजेक्शन लगवाने पर उनके बैंक खाते में सौ-सौ रुपये प्रोत्साहन राशि के रूप में दिये जाते हैं।

टोल फ्री नम्बर रजिस्टर्ड करायें मिलती रहेगी जानकारी
जिला परिवार नियोजन विशेषज्ञ अंजनी कुमार ने बताया कि वे महिला जो पहली बार गर्भ निरोधक इंजेक्शन अंतरा को लगवा रही हैं। उन्हें अपने मोबाइल से टोल फ्री नम्बर 18001033044 पर अपना पंजीकरण करा लेना चाहिए। ताकि उन्हें समय-समय पर अंतरा गर्भ निरोधक इंजेक्शन से संबंधित परामर्श का लाभ मिलता रहेगा। उन्होंने बताया कि महिलाओं का नाम पंजीकृत कराने में क्षेत्र की आशा का सहयोग लिया जा सकता है।

अंतरा यानि तीन माह तक अनचाहे गर्भ से बचाव
अंजनी बताते है कि अंतरा एक आधुनिक एवं अस्थायी गर्भ निरोधक साधन है जिसे प्रशिक्षित चिकित्सक द्वारा स्वास्थ्य जांच करने के बाद लगाया जाता है। लम्बे समय तक अनचाहे गर्भ से बचाव के लिए प्रत्येक तीन माह पर इसे लगवाना चाहिए।

मां के दूध की मात्रा और गुणवत्ता पर नहीं पड़ेगा कोई असर
स्तनपान कराने वाली महिला प्रसव के छह सप्ताह के बाद इसे लगवा सकती है। इससे मां के दूध की मात्रा और गुणवत्ता पर कोई असर नहीं पड़ता है। जो महिलायें बच्चे को दूध पिलाने के दौरान गर्भ निरोधक गोली का उपयोग नहीं कर सकती हैं वह अंतरा का उपयोग कर सकती है। अंतरा गर्भाशय में बनने वाले गांठ के मामले में भी लाभ

arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned