Ahmedabad News अनुभवी पेशेवरों को भा रहा है आईआईएम-ए का ई-पीजीपी कोर्स

IIMA, Ahmedabad, Management, E-PGP, Engineering, Education, Female, Professional, Entrepreneur इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि वालों का ई-पीजीपी में भी दबदबा, 70 फीसदी हैं बीई,बीटेक डिग्रीधारक, ६९ के बैच में आठ युवतियां

 

अहमदाबाद. प्रबंधन की शिक्षा में वैश्विक स्तर पर पहचान रखने वाले भारतीय प्रबंध संस्थान अहमदाबाद (आईआईएम-ए) की ओर से शुरू किए गए ऑनलाइन (ई-मोड) पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम इन मैनेजमेंट (ई-पीजीपी) कोर्स भी अनुभवी पेशेवर लोगों को भाने लगा है। इसका अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि लगातार इस कोर्स में प्रवेश पाने वालों की संख्या में इजाफा हो रहा है। नियमित पीजीपी कोर्स की तरह ही ई-पीजीपी कोर्स में भी इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि वाले विद्यार्थियों का दबदबा है।
दो वर्षीय ई-पीजीपी कोर्स के वर्ष २०१९-२1 बैच में प्रवेश पाने वाले ६९ विद्यार्थियों में ७० फीसदी विद्यार्थी इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि वाले बीई, बीटेक डिग्रीधारक हैं। जबकि २० फीसदी मैनेजमेंट, कॉमर्स पृष्ठभूमि वाले हैं। आठ युवतियां भी इस बैच में हैं। जो पूणे, मुंबई, गुडग़ांव, बैंग्लुरू, एवं हैदराबाद से हैं। वर्ष २०१९-२१ के बैच में 17 शहरों के विद्यार्थियों ने प्रवेश पाया है। प्रवेश पाने वालों में बैंकिंग, फायनांस सर्विस, टेलीकम्युनिकेशन, एफएमसीजी, फार्मा, हेल्थकेयर, स्टार्टअप, फैशन रिटेल, आईटी एवं आम्र्ड फोर्स में कामकाजी पेशेवर शामिल हैं। योग्यता परीक्षा एवं व्यक्तिगत साक्षात्कार के बाद प्रवेश दिया गया है।
अनुभव की बात करें तों 30.43 फीसदी विद्यार्थियों को ६-१० साल के काम का अनुभव है। 33 फीसदी को ११-१५ साल के कामकाज का अनुभव है। २७.५३ फीसदी (19) विद्यार्थियों को तीन से पांच साल के कामकाज का अनुभव है। वर्ष २०१९-२१ बैच में ९२.७५ फीसदी (६४) विद्यार्थी विभिन्न कंपनियों में काम करने वाले कामकाजी पेशेवर हैं और पांच उद्यमी। वर्ष २०१८-२०बैच में ९० फीसदी (५६) कामकाजी पेशेवर थे और शेष छह उद्यमी। पहले बैच वर्ष २०१७-१९ में ९३ फीसदी (४३) कामकाजी पेशेवर थे और तीन उद्यमी।
ई-पीजीपी कोर्स पहले से ही उद्यमों में कामकाज करने वाले पेशेवर लोगों एवं उद्यमियों की क्षमताओं को और बढ़ाने के लिहाज से डिजाइन किया गया है। इसमें देश के विभिन्न शहरों में बनाए गए स्टडी सेंटरों से ऑनलाइन, ऑडियो, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शिक्षा दी जाती है साथ ही। आईआईएम-ए परिसर में क्लासरूम टीचिंग एवं प्रोजेक्ट वर्क भी इसमें शामिल है।
अब तक के तीन बैच में युवतियां, युवक
वर्ष युवतियां युवक कुल
२०१७-१९- २- ४७- ४९
२०१८-२० -८ -५४ -६२
२०१९-२१ -८- ६१- ६९
................
ई-पीजीपी में वार्षिक पेशेवर व उद्यमी
वर्ष पेशेवर उद्यमंी कुल
२०१७-१९ -४६- ३- ४९
२०१८-२० -५६- ६- ६२
२०१९-२१ -६४ -५ -६९

nagendra singh rathore
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned