तीर्थनगरी में फिर मिली घातक नशीले केटामाइन इंजेक्शन की बड़ी खेप

कपिलकुंड के पास लावारिस हालत में पड़ी थी 645 शीशियां खाली तथा 15 भरी हुई शीशियां

पुष्कर (अजमेर). कपिलकुंड के पास रविवार को घातक नशीले केटामाइन (ketamine) इंजेक्शन की एक माह में दूसरी बड़ी खेप लावारिस हालत में पड़ी मिली। इनमें केटामाइन की 645 शीशियां खाली तथा 15 भरी हुई थी। पुलिस ने इंजेक्शन जब्त कर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर अनुसंधान शुरू कर दिया है। केटामाइन इंजेक्शन ऑपरेशन के दौरान निश्चेतक (एनेस्थीसिया) के रूप में इस्तेमाल किया जाता है तथा बिना चिकित्सकी परामर्श इसे मेडिकल स्टोर से बेचा जाना प्रतिबंधित है।

यह भी पढ़ें : घातक नशीले केटामाइन इंजेक्शन समेत दो गिरफ्तारhttps://www.patrika.com/ajmer-news/two-arrested-including-lethal-drug-ketamine-injection-5598482/

पुष्कर में विदेशी कर रहे अब निश्चेतक का नशे में इस्तेमालhttps://www.patrika.com/ajmer-news/foreign-tourists-are-now-using-anesthesia-in-drugs-5460357/


दो माह में तीसरी खेप

कुछ दिनों पूर्व पंचकुंड रोड पर इसी नशे के इंजेक्शनों का ढेर मिला था। इसके बाद थानाधिकारी राजेश मीणा की तत्परता से इस नशे की तस्करी में लिप्त भरत, निखिल तथा संजय नाम के तीन तस्कर 280 केटामाइन की शीशियों समेत गिरफ्तार किए जा चुके हैं। उस मामले की जांच अभी चल रही है इसी बीच रविवार को दो माह में लगातार तीसरी बार केटामाइन की बड़ी खेप कपिलकुंड के पास मिली है। तीर्थनगरी में विदेशियों को केटामेाइन इंजेक्शन के रूप में नशा परोसने की रिकॉर्ड पर पुष्टि होने के बाद भी आज तक इस कारोबार के सरगना पुलिस गिरफ्त से दूर ही हैं।


जांच के विषय

थानाधिकारी राजेश मीणा ने बताया इतनी भारी मात्रा में नशीले केटामाइन की शीशियां कौन डाल कर गया, इसका पता लगाने के लिए सीसीटीवी फुटेज, सीडीआर एनालिसिस किया जाएगा। साथ ही पुष्कर में केटामाइन की तस्करी कौन कर रहा है इस संबंध में जानकारी जुटाई जा रही है।

baljeet singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned